Agra Breaking News

0 95

कोरोना से पूर्व मंत्री नारायन सिंह सुमन का निधन

आगरा  : में कोरोना वायरस की दूसरी लहर का कहर थम नहीं रहा। हालात यह है कि परिवारों पर कोरोना काल बनकर टूट रहा है। शुक्रवार की सुबह पूर्व मंत्री नारायन सिंह सुमन का निधन हो गया है। वह कोरोना से संक्रमित थे। दिल्ली के एक अस्पताल में उनका उपचार चल रहा था। उनके परिवार में तीन दिन में तीसरी मौत है।

बुधवार की रात पूर्व मंत्री की पुत्री सुभद्रा उर्फ बबली के हृदय गति रुकने से मौत हो गई, जबकि पत्नी कलावती सुमन का निधन भी दो दिन पूर्व हो गया था। नारायन सिंह सपा के राष्ट्रीय महासचिव व पूर्व सांसद रामजीलाल सुमन के छोटे भाई हैं। रामजीलाल भी कोविड संक्रमण के चलते अस्पताल में भर्ती हैं।  पूर्व मंत्री नारायन सिंह का पैतृक निवास हाथरस जिले के सादाबाद में है। बताया जाता है कि उनका अंतिम संस्कार पैतृक गांव सादाबाद में होगा। पूर्व मंत्री की पत्नी कलावती एत्मादपुर से जिला पंचायत सदस्य रह चुकी हैं। पूर्व मंत्री, उनकी पत्नी और बेटी के निधन से उनके रिश्तेदारों में शोक की लहर है।

आगरा में कोरोना वायरस की दूसरी लहर संक्रमितों के लिए जानलेवा साबित हो रही है। पहली बार गुरुवार को 24 घंटे में पांच मरीजों की मौत हो गई। पिछले सात दिन में 25 मरीज दम तोड़ चुके हैं। इससे कुल मृतकों की संख्या 208 हो गई है। 546 नए मरीज मिलने से एक्टिव केस भी 3746 हो गए हैं। जिले में एक्टिव केस 3746 हो गए हैं। कुल संक्रमितों का आंकड़ा 15602 पहुंच गया है। जिनमें 11648 मरीज ठीक हो चुके हैं। गुरुवार तक 7.03 लाख लोगों की कोरोना जांच हो चुकी है। संक्रमितों के स्वस्थ होने की दर 24 घंटे में 76 फीसदी से घटकर 74.66 फीसदी रह गई है। लगातार एक्टिव केस बढ़ने ने इलाज के इंतजाम भी चरमरा रहे हैं।

ताजनगरी को जरूरत है 50 टन ऑक्सीजन की

आगरा : के सबसे बड़े कोविड अस्पताल एसएन मेडिकल कॉलेज में 290 बेड का इंतजाम हैं। यहां कोविड वार्ड में 237 मरीज भर्ती हैं। 50 ऐसे मरीज हैं जो निगेटिव होने के बाद मेडिसिन विभाग में भर्ती हैं। एसएन में 10 हजार लीटर का लिक्विड ऑक्सीजन टैंक है।

एसएन मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. संजय काला ने बताया कि कोविड मरीजों पर 24 घंटे में 10 टन की खपत है। 5-5 टन गैस का टैंकर दो बार मंगाना पड़ रहा है। तब 10 टन का टैंक एक दिन चलता है। 80 फीसदी संक्रमितों को बाईपेप, नैजल कुनैला, वेंटिलेटर व सीधे सिलेंडर से हाईफ्लो ऑक्सीजन सपोर्ट पर रखा जा रहा है। जिसके कारण ऑक्सीजन की मांग बढ़ी है।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. आरसी पांडेय के मुताबिक शहर में 34 निजी कोविड अस्पताल हैं। जिनमें 1750 से अधिक मरीज हैं। इनके लिए प्रतिदिन 35 से 40 टन ऑक्सीजन गैस चाहिए। जिले में कुल 15 टन तक की आपूर्ति हो पा रही है। देहली गेट स्थित एक हॉस्पिटल संचालक ने बताया कि 15 से अधिक निजी कोविड अस्पताल ड्राई हो गए हैं। इनमें ऑक्सीजन खत्म हो चुकी है या कभी भी खत्म हो सकती है।

नोएडा से रोज पांच-पांच टन के दो ऑक्सीजन गैस टैंकर एसएन में आ रहे हैं। एसएन प्राचार्य डॉ. संजय काला ने बताया कि बार-बार ऑक्सीजन मंगाने से दिक्कत आ रही है। इसलिए 10 टन का 16 पहिया टैंकर मंगाया है। इमरजेंसी मोड़ पर सकरी सड़क होने के कारण बड़ा ट्रक मुड़ नहीं सकता। इमरजेंसी की तिकोनिया और मोती कटरा प्रवेश गेट के पास दीवार तोड़कर ट्रक के लिए रास्ता किया जा रहा है।

नेशनल चैंबर ऑफ इंडस्ट्रीज एंड कॉमर्स के अध्यक्ष मनीष अग्रवाल ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ एवं केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन को पत्र लिख आगरा के लिए 100 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की आपूर्ति हवाई जहाज से कराने की मांग की है। उन्होंने कहा-ऑक्सीजन की कमी से लोग मर रहे हैं। भर्ती मरीजों के लिए अस्पतालों में ऑक्सीजन नहीं है।

जिलाधिकारी प्रभु एन. सिंह ने बताया कि एसएन के लिए रोज 10 टन ऑक्सीजन मंगा रहे हैं। निजी कोविड अस्पतालों के लिए छूट है। उन्हें जहां से ऑक्सीजन मिले वे ले सकते हैं। वे कहीं से भी इंतजाम कर लें। प्रशासन उनका पूर्ण सहयोग करेगा।

संक्रमण से विदेशी महिला सहित चार की मौत

मथुरा : जिले में कोरोना संक्रमण से लगातार मौतें हो रहीं हैं। गुरुवार को विदेशी महिला सहित चार लोगों ने दम तोड़ दिया। 372 नए कोरोना संक्रमित भी मिले हैं। इस प्रकार जहां करने वालों की संख्या 139 पर पहुंच गई है तो वहीं संक्रमितों की संख्या बढ़कर 10576 हो गई है। जिले में एक्टिव केस 2385 हैं।

वृंदावन में रह रही अमेरिका की महिला की कोरोना संक्रमण से केएम मेडिकल कॉलेज में मृत्यु हो गई, जबकि केडी मेडिकल कॉलेज में एक महिला और पुरुष कोरोना संक्रमण के कारण अपनी जिंदगी गवां बैठे। इधर, जिला अस्पताल में एक व्यक्ति की भी कोरोना संक्रमण से मौत हो गई।

मथुरा और ग्रामीण अंचल से 200, वृंदावन के छटीकरा, प्रेम गली तेहरा, अल्लेपुर, लाला बाबू मंदिर, राधानिवास, मनीपाडा, सर्राफा बाजार, रतन छतरी, बारह घाट, पत्थरपुरा, गोशाला नगर, गौरानगर, अटल्ला चुंगी, ओमैक्स सिटी, सुनरख रोड़, अहीरपाडा आदि क्षेत्रों से 33 केस सामने आए हैं।

मथुरा शहर के सीएमओ कार्यालय, जिला अस्पताल, कुआं गली, जंगल कट्टी, जगन्नाथपुरी, जनकपुरी, जैनमंदिर क्षेत्र, कच्ची सड़क, चंदनवन, गुरुनानक नगर, तुलसी नगर, स्वामीघाट, मनसापुरी, रानी गार्डन, बालाजीपुरम, यमुना ब्लॉक, बाद, अशोका सिटी, कर्मयोगी नगर, महोली रोड, श्यामापुरम, इंदुपुरम में पॉजिटिव केस मिले हैं।

कोरोना संक्रमण से बढ़ रहे मरीजों के लिए ऑक्सीजन की जरूरत महसूस हो रही है। मांग और खपत के बीच भारी अंतर आ रहा है। बुधवार को जनपद के कोविड अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी हो गई। ऑक्सीजन की पूर्ति के लिए प्रदेश के ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा के आग्रह के बाद हरियाणा से गैस सिलिंडर की आपूर्ति की गई।

सुबह लगभग पांच बजे 11.3 टन ऑक्सीजन लेकर टैंकर केडी मेडिकल कॉलेज पहुंचा। बताया जाता है कि रात भर ऑक्सीजन की पूर्ति के लिए डीएम नवनीत सिंह चहल अधिकारियों से वार्ता करते रहे। एसीएमओ डॉ. राजीव गुप्ता ने बताया कि गुरुवार की दोपहर 8 टन ऑक्सीजन लेकर एक और टैंकर मथुरा पहुंचा। हमारे पास ढाई से तीन दिन की ऑक्सीजन की आपूर्ति है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.