पिछले समय से जितनी भर्तियां आ रहीं हैं कहीं न कहीं उसके पेपर आउट हो रहें हैं : अजय कुमार लल्लू

0 19

लखनऊ : उत्तर प्रदेश कांग्रेस ने आज युवाओं की आवज को अपने 2022 के उ0प्र0 विधानसभा चुनाव के घोषणा पत्र मे शामिल करने के लिए क्रान्ति भर्ती की शुरूआत की। इसके लिए प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में सुझाव पट्टिका लगाया गया। जिसका उद्घाटन उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने किया। उन्होंने उद्घाटन करते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश में भर्तियां बहुत समय से लंबित हैं।

नौजवान सड़कों पर है, संघर्ष कर रहा है। अपनी भर्तियों के लिए सरकार बेरोजगारो के साथ, उनके भविष्य के साथ व उनके जीवन के साथ खिलवाड़ कर रही है। उन्होेने कहा कि यदि 2022 मंे उत्तर प्रदेश में कांग्र्रेस की सरकार बनती है तो वह बीस लाख युवाओं को सरकारी नौकरी देने का काम करेगी और जितने भी संविदा कर्मी व कान्ट्रेक्ट पर काम करने वाले लोग है उनका विनियमितीकरण किया जायेगा।

उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि पिछले समय से जितनी भर्तियां आ रहीं हैं कहीं न कहीं उसके पेपर आउट हो रहें हैं। और खासकर युवाओं के भविष्य के साथ खिलवाड़ करने का काम निरन्तर जारी है। अभी हाल ही में ज्म्ज् की परीक्षा देने वाले साढे इक्कीस लाख नौजवान जो रेलवे स्टेशनों पर, बस अड्डों पर अन्य तमाम स्थानों पर रात गुजारे और सुबह परीक्षा केन्द्रों पर परीक्षा देने आते हैं तो पेपर वितरित होने के बाद पता चलता है कि उनका प्रश्न पत्र लीक हो गया है।

साढे इक्कीस लाख युवा हताशा और निराशा का जीवन जीता है। और पेपर लीक की खबर सुनते ही वह रोकर व बिलखकर अपने घरों को जाने के लिए मजबूर हो जाते हैं। जिस कंम्पनी को ठेका दिया जाता है वह बिहार की भारतीय जनता पार्टी के विधायक का भाई निकलता है। पिछले दिनों अधीनस्थ चयन सेवा आयोग की भर्ती, सिपाही भर्ती, दरोगा भर्ती, लेखपाल भर्ती, शिक्षक भर्ती, में इस तरह का खेल हुआ और नौजवानों के भविष्य से धोखा हुआ। बीजेपी की सरकार ने अपने घोषण पत्र में कहा था प्रतिवर्ष 14 लाख रोजगार देंगे। सत्तर लाख के सापेक्ष सरकार का मानना है कि अब तक 4 लाख रोजगार दे पायी है ।

लल्लू ने कहा कि योगी की सरकार में प्रदेश में बेरोजगारी दर सबसे ज्यादा है कौन है उसका जिम्मेदार? कहीं न कहीं भाजपा निजीकरण की आग में धकेलकर नौजवानों के भविष्य को अंधकार में डालने का काम कर रही है। 69000 शिक्षक भर्ती का नौजवान आरक्षण की मांग को लेकर आज भी सड़कों पर बैठा है। पिछले दिनों जब आयोग ने स्वीकार किया उसके बाद भी आयोग के कहने पर भी सरकार ने संज्ञान नहीं लिया। कौन सा कारण है कि जब सड़को पर आन्दोलन करने वाला नौजवान रोज घेराव व प्रदर्शन मंत्री व मुख्यमंत्री के कार्यालयों पर करने लगा तो आनन फानन में योगीने कहा कि सरकार 6 लाख नौजवानों सहायक शिक्षक की भर्ती में आरक्षण के आधार पर लेंगे।

मै पूछना चाहता हूं की आपने ओबीसी और अनुसूचित वर्ग के नौजवानों को धोखा दिया है। अभी भी सहायक अंभियता पर काम करने वाले नौजवान जो वर्षो से कार्यरत थे उनकी भी नौकरियों को आपने समाप्त कर दिया आज वो लोग भी आन्दोलनरत हैं। शिक्षक भर्ती, पुलिस भर्ती, पीएसी भर्ती और लगातार रोज नौजवानों का आन्दोलन इस बात का सबूत है कि भाजपा की सरकार में उत्तर प्रदेश पूरे देश में बेजोजगारी मे नंबर-1 है।

उत्तर प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता विशाल राजपूत ने कहा कि आज प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में क्रान्ति भर्ती की शुरूआत होते ही सैकड़ों युवाओं ने अपने अनुभव व विचार सुझाव के रूप में लिखना आरम्भ कर दिया। इससे पता चलता है कि उत्तर प्रदेश का युवा बेरोजगार है। किन्तु जिस प्रकार से उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यालय में अपने विचार व सुझाव देने के लिए युवाओं की भीड़ आ रही है उससे लगता है कि युवाओं की उम्मीद प्रियंका गांधी वाड्रा में ही है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.