नदी में बही बल्लियां, ग्रामीणों में दहशत

0 139

बिजनौर : जनपद के नजीबाबाद के गांव गौसपुर में गंगा नदी में एक ही रात में 10 मीटर कटान हो गया। प्रशासन द्वारा आबादी की ओर खतरे के निशान के रूप में लगाई गई लाल झंडियां और बल्लियां गंगा के कटान में बह गई। आबादी की ओर कटान बढ़ता देख ग्रामीणों में दहशत का माहौल है। पहाड़ी क्षेत्रों में बारिश के चलते नांगलसोती के गांव गौसपुर में गंगा का जलस्तर लगातार बढ़ रहा है। मंगलवार की रात गंगा ने गांव की आबादी की ओर 10 मीटर कटान कर दिया, जिससे किसानों की भूमि के साथ उनकी फसल भी गंगा में समा गई। प्रशासन द्वारा गंगा से गांव की ओर खतरे के निशान के लिए लगाई गई लाल झंडी और बल्लियां भी बुधवार की सुबह गंगा में कटान की भेंट चढ़ गई। गंगा से गांव की दूरी अब मात्र 50 मीटर दूर रह गई है। आबादी की ओर कटान होता देख ग्रामीण रातभर जागने को मजबूर हैं। उधर, ग्राम प्रधान अनीता ने गांव में अनाउंसमेंट कराकर ग्रामीणों को गंगा की ओर नहीं जाने और सचेत रहने की अपील की।

ग्राम प्रधान अनीता के नेतृत्व में ग्रामीणों ने बुधवार को गौसपुर के प्राइमरी स्कूल में बैठक की। उन्होंने कटान रोकने के लिए प्रशासन और सिंचाई विभाग की कार्यप्रणाली पर रोष व्यक्त किया। ग्रामीणों ने प्रशासन से गांव को अन्य स्थान पर विस्थापित कराने और किसानों को कृषि के लिए भूमि दिलाने की मांग करने का निर्णय लिया। बैठक में भंवर सिंह, पूर्व प्रधान राजेश सिंह, लाल सिंह, परमा सिंह, गेंदा सिंह, सुनित, भूदेव सिंह, दीपक कुमार, सुमित, राम सिंह आदि बड़ी संख्या में ग्रामीण मौजूद रहे।  भाकियू तोमर के पदाधिकारी और कार्यकर्ता बुधवार को गौसपुर पहुंचे। भाकियू तोमर जिलाध्यक्ष महिपाल ने कहा कि गंगा नदी गांव गौसपुर में तबाही मचा रही है। उन्होंने कटान रोकने में प्रशासन के उदासीन रवैये पर रोष व्यक्त किया। उन्होंने सरकार से गंगा से कटान रोकने के लिए पत्थर के स्टड बनवाने की मांग की है। इस अवसर पर कपिल तोमर, ललित चौहान, वालेंद्र सिंह, महेंद्र सिंह, डा. वीरेंद्र सिंह आदि मौजूद रहे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.