बीजेपी पार्षद ने अपने ही मंत्री के खिलफ मोर्चा खोला दिलीप श्रीवास्तव ने नगर विकास मंत्री पर लगाया भ्रष्टाचार का आरोप

0 95

लखनऊ : पार्षद और बीजेपी प्रवक्ता रहे दिलीप श्रीवास्तव ने अपने ही सरकार के कैबिनेट मंत्री पर जान से मारने की धमकी देने और प्रताड़ित करने का आरोप लगाया है। दिलीप ने नगर विकास मंत्री आशुतोष टंडन के खिलाफ पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्‌डा को पत्र लिखा है। इसमें उन्होंने जिक्र किया है कि उनको लगातार धमकी दी जाती है। मंत्री के लोगों से उनके जान को खतरा है। वह कभी भी कोई घटना करवा सकते हैं

उन्होंने आरोप लगाया है कि आशुतोष टंडन मुझे पसंद नहीं करते है। उनकी वजह से ही उनको प्रदेश का प्रवक्ता नहीं बनाया गया है। यहां तक की पैन लिस्ट बनने में भी रोड़ा बने रहे। उन्होंने आरोप लगाया है कि मंत्री के शह पर थाना गाजीपुर लखनऊ में मुकदमा दर्ज कराया गया। उस मुकदमे के खिलाफ नगर निगम के 60 से ज्यादा पार्षद धरने पर बैठे थे। दरअसल, दिलीप जहां से पार्षद है उसी विधान सभा सीट से आशुतोष टंडन विधायक चुनकर आते है। उन्होंने यह भी आरोप लगाया है कि उनकी पार्षद का टिकट भी आशुतोष टंडन कटवाना चाहते हैं। उन्होंने अपने पत्र में इस बात का जिक्र किया है, इसमें आशुतोष टंडन लोगों से कहते हैं कि बहुत हिंदुत्‍ववादी नेता बनता है। मुझे विधायक बनने दो, अबकी बार इसे निपटा देंगे। बांटने दो इसे मोदी, योगी की तस्‍वीर। अब यह खुद तस्‍वीर बन जाएगा। मेरा विरोध करता है, इसे मरवा देंगे।

मुझे धमकी दी जाती है

दिलीप का यह भी आरोप है कि आशुतोष टंडन उनको लगातार धमकी दे रहे हैं। वे मेरे साथ कभी भी अप्रिय घटना घटित करवा सकते हैं। वे अपराधी प्रवृत्ति को लोगों को संरक्षण दे रहे हैं। लगातार मंत्री की तरफ से मेरा उत्‍पीड़न किया जा रहा है। उनके लोग जान से मारने की धमकी देते हैं

मंत्री पर भ्रष्टाचार का आरोप

दिलीप श्रीवास्तव ने अपने पत्र में मंत्री पर भ्रष्टाचार का आरोप भी लगाया है। उन्होंने लिखा है कि अपने कार्यालय के सामने की सड़क भी दो साल से वह ठीक नहीं करवा पा रहे हैं। विधान सभा की महत्वपूर्ण सड़कों पर गड्‌ढे हैं। उन्होंने भ्रट तंत्र को बढ़ावा दिया है। उनके संरक्षण में नगर विकास विभाग में भ्रष्टाचार की चर्चा आम हैं। उन्होंने यह भी आरोप लगाया है कि मंत्री के कहने पर ही उनको नगर निगम कार्यकारिणी का सदस्य नहीं बनाया गया।

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.