पहली बार खुद से कोई नहीं करता नशे का सेवन सीएमओ संगत से पड़ती है नशे की लत

0 17

राष्ट्रीय तम्बाकू नियंत्रण कार्यक्रम के तहत आयोजित हुई कार्यशाला

बहराइच : नशा कोई भी हो पहली बार इसका इस्तेमाल कोई अकेले नही करता। इसकी शुरुआत हमेशा संगत से होती है। इसलिए नशा करने वालों की संगत से दूर रहना चाहिए और पहली बार मिले नशे के ऑफर को हमेशा ठुकराना चाहिए। नशे के रूप में सबसे अधिक प्रयोग किया जाने वाला पदार्थ तम्बाकू है जो कैंसर सहित कई बीमारियों का कारण है यह बातें सीएमओ कार्यालय सभागार में राष्ट्रीय तम्बाकू नियंत्रण कार्यक्रम के तहत आयोजित कार्यशाला में मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ0 सतीश सिंह ने कही। उन्होंने बताया नशे से बचाव, लत से छुटकारा पाने व इलाज के लिए राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के अंर्तगत राष्ट्रीय तम्बाकू नियंत्रण कार्यक्रम चलाया जा रहा है। उन्होंने बताया तम्बाकू से हो रहे रोग जैसे रक्तचाप, अनिद्रा, कैंसर समाज के लिए चिंता का विषय है। उन्होंने तम्बाकू छोड़ने के उपायो एवं कोटपा अधिनियम 2013 के बारे मे विस्तार से चर्चा की

एनसीडी के नोडल डॉ० अजीत चन्दा ने तम्बाकू छोड़ने के लिये टोल फ्री नंबर 1800112356 बताया जिससे तंबाकू छोड़ने सम्बंधित जानकारी प्राप्त की जा सकती है

डॉ० परितोष तिवारी ने बताया तम्बाकू नियंत्रण कार्यक्रम के तहत अधिनियम की धारा 4 के अन्तर्गत सभी सार्वजनिक स्थानों पर धूम्रपान को प्रतिबंधित किया गया है। धारा 6 के अन्तर्गत सभी शिक्षण संस्थानों के 100 गज के दायरे में, नाबालिगों द्वारा तम्बाकू के क्रय तथा विक्रय पर प्रतिबंध है। उन्होंने बताया कि तम्बाकू छोड़ने के लिए ज़िला चिकित्सालय में गैर संचारी रोग कार्यक्रम के अंतर्गत संचालित कक्ष संख्या 8 व 9 में ओपीडी दिवसों में सम्पर्क किया जा सकता है।

कार्यक्रम के अंत मे डॉ० तिवारी ने मौजूद लोगों को तम्बाकू उत्पाद छोड़ने एवं तम्बाकू उत्पाद बनाने वाली कम्पनियो का सहयोग व जनमानस में तम्बाकू के प्रति जागरूकता लाने की शपथ भी दिलाई

जिला स्वास्थ्य , शिक्षा एवं सूचना अधिकारी बृजेश सिंह ने बताया कि तंबाकू का सेवन नहीं करें और दूसरों को भी प्रेरित करें। उन्होंने तंबाकू या इससे बने पदार्थों के सेवन से शरीर में कैंसर, अस्थमा, सीओपीडी व टीबी जैसी गम्भीर बीमारियां हो सकती है। इन बीमारियों से ग्रस्त होने के बाद परिवार को गंभीर आर्थिक,मानसिक एवं शारीरिक दुष्प्रभाव झेलना पड़ता है। इस मौके पर पुलिस विभाग, नगरपालिका, कृषि विभाग, परिवहन विभाग, शिक्षा विभाग व कई एनजीओ के अधिकारी एवं कर्मचारी सहित अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ० योगिता जैन, मनो रोग विशेषज्ञ डॉ० विजित जायसवाल, एफएलसी विवेक श्रीवास्तव, वाणिज्य कर विभाग से आशुतोष सिंह, सिद्धनाथ पाठक, अजय कुमार, सुरजीत कुमार, मधुसूदन सिंह, अम्बरीष कुमार तिवारी समेत एनसीडी क्लीनिक के डॉ रियाजुल हक़, सलाहकार पुनीत शर्मा, एलटी संतोष सिंह, नर्सिंग ऑफिसर ब्रिज प्रकाश की टीम मौजूद रही

Leave A Reply

Your email address will not be published.