डेंगू, मलेरिया, चिकनगुनिया की रोकथाम के लिए स्वास्थ्य विभाग सतर्क मुख्य चिकित्सा अधिकारी स्वास्थ्य कैम्प लगाकर लोगों को दी जानकारी

0 45

सहारनपुर : वैक्टर जनित रोगों जैसे डेंगू, मलेरिया, चिकनगुनिया की रोकथाम के लिये स्वास्थ्य विभाग पूरी तरह सतर्क है। जनपदीय स्तरीय एवं ब्लॉक स्तरीय स्वास्थ्य टीमों द्वारा ब्लॉक रामपुर के ग्राम हुसेनपुर, हरडेकी ब्लॉक सुनहैटी खडखडी के ग्राम वाजिदपुर, रूपडी, उनाली, छपरेडी,नन्दी, फिरोजपुर, षेरपुर, परागपुर ब्लॉक पुवॉरका के ग्राम उग्राहु,घानाखन्छी,ब्लॉक देवबन्द के ग्राम राजपुर,व नगर क्षेत्र में मोहल्ला हकीकतनगर, विनोद विहार, नवीननगर, चन्द्रनगर, आवास विकास, गिलकालोनी, विवेक विहार, राजविहार, पवन विहार सहारनपुर में स्वास्थ्य षिविरों एवं सोर्स रिडक्षन, एन्टीलार्वा का कार्य किया गया। जिसमें स्वास्थ्य षिक्षा के अन्तर्गत क्या करें क्या न करें के बारे में स्वास्थ्य दी गयी। ग्राम वासियों व मोहल्ले वासियों को जानकारी दी गयी कि अगर बुखार होता है तो तत्काल अपने नजदीकी सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पर जाकर अपना उपचार कराये तथा डेंगू,मलेरिया, चिकनगुनिया आदि रोगों की जॉच जिला चिकित्सालय सहारनपुर में मुफ्त की जा रही है

तथा सभी को वैक्टर जनित रोगों के अर्न्तगत आने वाली बिमारियॉ जैसे डेंगू, मलेरिया, चिकनगुनिया, आदि से बचाव एवं रोकथाम के अन्तर्गत जानकारी दी गयी कि घर के अन्दर, बाहर व छतों पर टूटे बर्तनों, टायर, गमले, बोतल, आदि में पानी जमा न होने दें। कीटनाषक युक्त मच्छरदानी का ही प्रयोग करें। पानी के सभी बर्तन, टंकी इत्यादि को पूरी तरह ढक कर रखें। अपने घर के आस-पास पानी जमा न होने दें। पानी से भरे गढढों में मिटट्ी भर दे। डॉ. संजीव मांगलिक ने नागरिकों का आह्वान किया कि वे झोलाछाप डाक्टर से बचे। सप्ताह में एक बार कूलर, फूलदान, पषु व पक्षियों के पानी के बर्तनों, हौदी को सूखा कर ही पानी भरे, कार्य करने पर बल दिया।

डेगू व मलेरिया से बचाव हेतु क्या करें &https://www.youtube.com/channel/UCcj8JxdUrXPVdAxW-blFheA8211; रूके हुये पानी के स्थानों को मिट्टी से भर दे यदि सम्भव न हो तो कुछ बूंद मिट्टी का तेल या डीजल उसमें डाल दें। घर में कूलर, गमले, छतो पर पडे पुराने टायर, पषु-पक्षियों के पीने के पात्र एवं निश्प्रयोज्य सामग्री तथा नारियल के खोल, प्लास्टिक की कप, बोतल आदि में जल एक़ि़त्रत न होने दे। सोते समय मच्छर दानी अथव मच्छर भगाने की क्रीम को प्रयोग करे। जहॉ तक सम्भव हो पूरी आसतीन की कमीज मोजे इत्यादि से षरीर को अधिक से अधिक हिस्से को ढक के रखे। तेज बुखार होने पर चिकित्सक से सम्पर्क करें, मलेरिया का षक होने पर नजदीकी के सरकारी अस्पताल में जॉच करायें । क्या न करे घरों के आस-पास गन्दगी व कूडा एकत्र न होने दें। नालियों अथव गढडों में रूका हुआ पानी एकत्र न होने दें। यदि डेंगू व मलेरिया रोगी कोई है तो उसे बिना मच्छदानी के न रहने दें। अथवा ऐसे कमरें में रोगी की देखभाल करे जिसमें दरवाजे खिडकिया में जाली लगी हो।

Leave A Reply

Your email address will not be published.