रहिस कुरैसी पर चार मुकदमे दर्ज फिर भी पुलिस पकड़ से दूर

0 6
अलीगढ  : जनपद के थाना टप्पल क्षेत्र के अंतर्गत अखाड़ा कब्रिस्तान की जमीन को लेकर पूर्व क्षेत्र पंचायत सदस्य एवं मोहर्रम मेला इंतजामिया कमेटी रजिस्टर्ड टप्पल के महासचिव, वक्फ कब्रिस्तान सुरक्षा प्रबंध समिति के अध्यक्ष दिलशाद अली खान और कब्रिस्तान को भू माफियाओं के द्वारा कब्जाने में साथ देने वाले रहीस कुरेशी आमने-सामने है और अखाड़ा कब्रिस्तान सहित अन्य कब्रिस्तान पर कब्जा भूमाफियाओं का कराने वाले रहीस कुरैशी को योगी शासन में तगड़ा झटका लगा है। अध्यक्ष दिलशाद अली खान की पीड़ित पत्नी मीना की अर्जी पर न्यायालय ने रहीस कुरैशी पक्ष के खिलाफ टप्पल पुलिस को संज्ञेय धाराओं में मुकदमा दर्ज करने का आदेश दिया है। इसके अतिरिक्त मोहर्रम मेला इंतजामिया कमेटी के सदस्य चांद मोहम्मद की तरफ से भी रहीस कुरैशी के खिलाफ बलवा,जान से मारने की धमकी देना आदि का भी मुकदमा थाना टप्पल में दर्ज किया गया है और दो अलग-अलग मुकदमे एसीजेएम द्वितीय अदालत में परिवाद के रूप में रहीस कुरैशी के खिलाफ दर्ज किए गए हैं, लेकिन रहीस कुरेशी के खिलाफ दो थाना टप्पल एवं दो एसीजेएम अदालत में मुकदमे दर्ज होने के बाद योगी शासन में अपराधिक, भूमाफियाओं को संरक्षण देकर जमीनों को गिरवाने वाला रहीस कुरैशी अभी तक पुलिस की पकड़ से दूर है, जो क्षेत्रीय लोगों में चर्चा का विषय बना हुआ है।

 

मोहर्रम मेला इंतजामिया कमेटी रजिस्टर टप्पल के महासचिव दिलशाद अली खान ने बताया कि कस्बा टप्पल में सदियों पुरानी मोहर्रम अखाड़ा पटेवाजी व मुस्लिम कब्रिस्तान की भूमि है,जिसको रहीस कुरैशी ने कुछ मुस्लिम लोगों के नाम संक्रमणीय भूमि तहसील कर्मियों की सांठगांठ से करा कर के दूसरे समुदाय के लोगों को बिक्री करा दी थी। इस फर्जीवाड़े की जानकारी होने पर मोहर्रम मेला इंतजामिया कमेटी ने निवर्तमान जिलाधिकारी चंद्र भूषण सिंह,निवर्तमान उप जिलाधिकारी खैर अंजनी कुमार सहित प्रदेश के मुख्यमंत्री माननीय योगी आदित्यनाथ से लिखित शिकायत की तो प्रकरण की जांच होने पर जमीन का फर्जीवाड़ा उजागर हुआ और उक्त भूमि को मूल नोइयत बंजर में दर्ज किया गया,जबकि उक्त भूमि सन 1983 से वक्फ कब्रिस्तान सरकारी रिकॉर्डलखनऊ में दर्ज है। उन्होंने बताया कि वक्फ कब्रिस्तान को भू माफियाओं के चंगुल से बचाने पर रहीस कुरैशी ने कुछ लोगों से फर्जीवाड़ा के पक्ष में हस्ताक्षर भी कराए थे लेकिन वह फिर भी फर्जीवाड़े में रहीस कुरैशी कामयाब नहीं हो सका। अखाड़ा पटेवाजी, वक्फ कब्रिस्तान की भूमि को भूमाफियाओं के चंगुल से बचाने पर रहीस कुरैशी ने दिलशाद पक्ष के लोगों से रंजिश मान ली और महासचिव दिलशाद अली व उसके पक्ष के लोगों के साथ रंजीशन कई घटनाएं रहीस कुरैशी ने समय-समय पर कर डाली और पीड़ित पक्ष के लोगों ने रहीस कुरैशी द्वारा घटनाएं करने पर थाना टप्पल में दो और न्यायालय में दो संज्ञेय धाराओं में अब तक 4 मुकदमे दर्ज कराए हैं,लेकिन थाना टप्पल पुलिस संज्ञेय अपराधी को गिरफ्तार करने में निरंतर हिला हवेली बरत रही है, जो क्षेत्र में चर्चा का विषय बना हुआ है। पीड़ित लोगों ने बताया कि वह अपराधी के प्रति कार्यवाही ना होने पर माननीय उच्च न्यायालय का दरवाजा शीघ्र खटखटाएंगे और अपराधी के प्रति कठोर कार्रवाई कराएंगे तथा जिन पुलिस अधिकारियों ने रहीस कुरैशी को संरक्षण दे रखा है उनके प्रति भी माननीय उच्च न्यायालय के द्वारा कठोर कार्रवाई कराएंगे

Leave A Reply

Your email address will not be published.