शीत ऋतु के मद्देनजर जिलाधिकारी ने मातहतो को जारी किए आवश्यक दिशा निर्देश

0 30

लखनऊ : शीत ऋतु के मद्देनजर जिलाधिकारी श्री अभिषेक प्रकाश द्वारा समस्त अधिकारियों व शासकीय अस्पतालों को आवश्यक दिशा निर्देश जारी किए गए। जिलाधिकारी द्वारा जारी किए गर दिशा निर्देश निमन्वत है:-

1) जिलाधिकारी द्वारा समस्त शासकीय अस्पतालों  निर्देश दिया गया की सहित ऋतु में ठंड और शीत लहरी के दृष्टिगत चिकित्सालयों में आने वाले मरीज़ो के तीमारदारों के लिए रात्रि विश्राम  हेतु  चिकित्सालयों में रैनबसेरों का कोविड 19 का अनुपालन कराते हुए संचालन सुनिश्चित कराया जाए। साथ यह भी सुनिश्चित किया जाए शीत लहर के कारण किसी की मृत्यु भोजन, वस्त्र, आश्रय व चिकित्सा के अभाव में न हो।

2) जिलाधिकारी द्वारा नगर निगम को निर्देश दिया गया कि शीत ऋतु व ठंड के दृष्टिगत नगर निगम क्षेत्र में  सड़को, फुटपाथों एवं अन्य खुले स्थानो पर रात्रि में सोने वाले निराश्रित व असहाय वर्ग के व्यक्तियों को राहत पहुचने हेतु रैनबसेरों  का कोविड 19 प्रोटोकॉल का अनुपालन कराते हुए संचालन सुनिश्चित कराया जाए। साथ यह भी सुनिश्चित किया जाए शीत लहर के कारण किसी की मृत्यु भोजन, वस्त्र, आश्रय व चिकित्सा के अभाव में न हो। उन्होंने बताया कि शीत लहर से बचाव शासन की सर्वोच्च प्राथमिकता में से है अतः उक्त सन्दर्भ में किसी भी प्रकार की शिथिलता नही बरती जाए।

3) जिलाधिकारी द्वारा समस्त अधिशासी अधिकारीयों को निर्देश दिया गया कि शीत ऋतु व ठंड के दृष्टिगत नगर पंचायत क्षेत्र में  सड़को, फुटपाथों एवं अन्य खुले स्थानो पर रात्रि में सोने वाले निराश्रित व असहाय वर्ग के व्यक्तियों को राहत पहुचने हेतु रैनबसेरों  का कोविड 19 प्रोटोकॉल का अनुपालन कराते हुए संचालन सुनिश्चित कराया जाए। साथ यह भी सुनिश्चित किया जाए शीत लहर के कारण किसी की मृत्यु भोजन, वस्त्र, आश्रय व चिकित्सा के अभाव में न हो। उन्होंने बताया कि शीत लहर से बचाव शासन की सर्वोच्च प्राथमिकता में से है अतः उक्त सन्दर्भ में किसी भी प्रकार की शिथिलता नही बरती जाए।

4) जिलाधिकारी ने बताया कि प्रायः देखा जाता है कि बहुत सारे लोग रैन बसेरों की जानकारी के अभाव मे भी मजबूरी में सड़कों पर सोते है। जिसके लिए जिलाधिकारी ने सभी प्रशासनिक अधिकारियो और नगर निगम को निर्देश दिया कि वह रैन बसेरों की सूची क्षेत्र की दुकानों, होटलों और थानों पर चस्पा करें। साथ ही निर्देश दिया कि नगर आयुक्त डूडा के माध्यम से भी रैन बसेरों की व्यवस्था सुनिश्चित कराए।

5) जिलाधिकारी द्वारा बताया गया कि रैन बसेरों में पर्याप्त सुविधाओ के अभाव में लोग वहां जाना पसंद नही करते है और सड़कों या फुटपाथों पर सो जाया करते है। इसमें मुख्य रूप से रिक्शे वाले, ठेला/फेरी वाले व अन्य मज़दूर लोग होते है। जिसके लिए निर्देश दिया कि शहर के समस्त रैन बसेरों में रहने की व्यवस्था के साथ साथ उक्त प्रकार के लोगो के लिए उनका रिक्शा, ठेला या वाहन आदि को खड़ा करने के लिए स्थान भी उपलब्ध कराया जाए।

6) शीत ऋतु के मद्देनजर जिलाधिकारी द्वारा कड़े निर्देश दिए गए कि निराश्रित लोगो को किसी भी दशा में सड़क पर या खुले में नही सोने दिया जाए। उन्होंने निर्देश दिया कि हर चौकी और डायल 112 को स्थाई एवं अस्थाई रैनबसेरों से लिंक किया जाए ताकि कोई अगर खुले में सोता मिले तो उसको तत्काल रैनबसेरे में पहुँचाया जा सके।

7) जिलाधिकारी द्वारा निर्देश दिया गया कि उक्त के साथ साथ शहर के 4 कोनो में क्लाथ बैंक की भी स्थापना कि गई है ताकि जो लोग चादर गद्दे या कपड़े दान देना चाहते है आसानी से दान कर सके। साथ ही जिलाधिकारी द्वारा निर्देश दिया गया कि दान देने वालो को प्रशस्ति पत्र व धन्यवाद का ईमेल भी किया जाए।

8) जिलाधिकारी ने निर्देश दिया कि रैनबसेरों में कम्युनिटी किचन के माध्यम से एक वक्त का भोजन उपलब्ध कराना सुनिश्चित कराया जाए।

Leave A Reply

Your email address will not be published.