744 करोड़ रुपये की परियोजनाओं का लोकार्पण

0 89

वाराणसी : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को वाराणसी का 27वां दौरा किया। इस दौरान उन्होंने काशीवासियों को 1475 करोड़ की परियोजनाएं सौंपी। जिनमें 744 करोड़ रुपये की परियोजनाओं का लोकार्पण और 730.91 करोड़ रुपये की परियोजनाओं का शिलान्यास किया। इस दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और राज्यपाल आनंदीबेन पटेली भी मौजूद रहीं। 186 करोड़ की लागत से बना भारत-जापान की दोस्ती का प्रतीक रुद्राक्ष कंवेंशन सेंटर का भी लोकार्पण किया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वायुसेना के विशेष विमान से साढ़े 10 बजे वाराणसी पहुंच गए। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, मंत्री आशुतोष टंडन, राधामोहन सिंह सांसद, मेयर मृदुला जायसवाल और नवनिर्वाचित जिला पंचायत अध्यक्ष पूनम मौर्या ने एयरपोर्ट पहुंचकर आगवानी की। इस दौरान पूरा एयरपोर्ट परिसर छावनी में तब्दील रहा। एयरपोर्ट के चारों तरफ पुलिस प्रशासन सहित अन्य सुरक्षा एजेंसियां तैनात रहीं। प्रधानमंत्री हवाई जहाज से उतरकर सभी का अभिवादन स्वीकार कर रहे थे। इसी दौरान जिला पंचायत अध्यक्ष पूनम मौर्या उनके पैर छूने को झुकी थीं। लेकिन प्रधानमंत्री पीछे हट गए। उन्होंने ऐसा करने से मना कर दिया।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पीएम मोदी का वाराणसी आने पर आभार जताया। इस दौरान उन्होंने बीएचयू में लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि नई काशी अब नए आयामों को छू रही है। सीएम ने कहा कि पिछले 16 महीनों से पूरा देश और दुनिया कोरोना वायरस महामारी से त्रस्त है। पीएम मोदी के नेतृत्व में जिस तरह कोरोना को निंयत्रित किया गया है। जिसकी हर तरफ तारीफ हो रही है।

जनसभा को संबोधित करने के बाद पीएम मोदी बीएचयू के एमसीएच विंग पहुंचे। जहां उन्होंने उद्घाटन और निरीक्षण किया। इसके बाद उन्होंने 20 लोगों से संवाद किया। इनमें जिलाधिकारी, कमिश्नर, मुख्य विकास अधिकारी शामिल भी थे। संवाद कके बाद वह बीएचयू हेलीपैड के लिए रवाना हो गए। उसके बाद संपूर्णानंद विश्वविद्यालय हैलीपैड पहुंचे। वहां से सड़क मार्ग द्वारा रुद्राक्ष कंवेशंन सेंटर पहुंच गए। रुद्राक्ष कंवेंशन सेंटर में प्रधानमंत्री एक घंटे तक रहे। उनके साथ जापान के राजदूत सतोषी सुजुकी, राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मौजूद थे।

कंवेंशन सेंटर पहुंचते ही सबसे पहले प्रधानमंत्री परिसर में एक रुद्राक्ष का पौधा लगाया। पौधरोपण के बाद उन्होंने रिबन काटकर सेंटर का उद्घाटन किया। इसके बाद प्रधानमंत्री शिलापट्ट का अनावरण कर रुद्राक्ष को देश को समर्पित कर दिया। इस दौरान मुख्यमंत्री के द्वारा प्रधानमंत्री को कंवेंशन सेंटर का स्मृति चिह्न भेंट किया। इसके बाद जापान के प्रधानमंत्री योशिहिदे सुगा का भी वीडियो संदेश सुनाया गया।

रुद्राभ कंवेंशन सेंटर में पीएम मोदी ने संबोधन में कहा कि कोरोना काल में जब दुनिया ठहर गई थी, तब काशी अनुशासित हुई थी लेकिन विकास की धारा यहां पर अविरल बहती रहती थी।  काशी के विकास के आयाम इंटरनेशनल सेंटर रुद्राक्ष आज इसी रचनात्मकता और गतिशीलता का परिणाम है। काशी के हर जन को बधाई देता हूं। भारत के परम मित्र जापान और पीएम के साथ जापान के राजदूत को भी धन्यवाद देता हूं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि जापान के पीएम का संदेश देखा। उनकी वजह से यह उपहार मिला है। जापान के प्रधानमंत्री उस समय चीफ सेक्रेटरी थे और तबसे इसमें व्यक्तिगत तौर पर शामिल रहे। पीएम मोदी ने कहा, इस आयोजन में एक और व्यक्ति जिनको भूल नहीं सकता, वो हैं शिंजो आबे जी। मुझे याद है जब वह प्रधानमंत्री के तौर पर काशी आए थे तो रुद्राक्ष के आइडिया पर लंबी चर्चा की थी। उन्होंने तुरंत अधिकारियों को निर्देश दिया और जापान के कल्चर पर परफेक्शन और प्लानिंग के साथ काम किया और आज भव्य इमारत काशी की शोभा बढ़ा रही है। पीएम सेंटर में संबोधन के बाद निकल गए। करीब साढ़े तीन बजे वह वाराणसी एयरपोर्ट पहुंचे। उसके बाद विशेष विमान से दिल्ली के लिए रवाना हो गए।

Leave A Reply

Your email address will not be published.