Kanpur Breaking News

0 113

कानपुर में एक्टिव केस 18 हजार के पार

कानपुर : में कोरोना का कहर बढ़ता ही जा रहा है। रोजाना 2 हजार से अधिक नए कोरोना संक्रमित मिल रहे हैं। यहीं नहीं मौतों का आंकड़ा भी तेजी से बढ़ रहा है। शहर में स्वास्थ्य विभाग की टीमें रोजाना 7 हजार से अधिक कोरोना संदिग्ध लोगों का सैंपल ले रही हैं।  इसके साथ ही कानपुर में कोरोना के एक्टिव केस की संख्या 18 हजार 332 हो गई है। शहर में अब तक कोरोना संक्रमित 1103 रोगियों की मौत हो चुकी है। कुल संक्रमित 62 हजार 686 मिल चुके हैं। इनमें से 43 हजार 251 रोगी अस्पतालों और होम आइसोलेशन में ठीक हो गए हैं। सोमवार को 1534 और लोगों ने कोरोना से जंग जीती।

39 रोगी अस्पतालों और 1495 रोगी होम आइसोलेशन में संक्रमण मुक्त हो गए। सोमवार को कानपुर में स्वास्थ्य विभाग की टीमों ने 7813 कोरोना संदिग्ध लोगों का सैंपल लिया। जिसमें 6809 सैंपल रुटीन और 1004 सैंपल विशेष सर्विलांस अभियान के तहत लिए गए।

कोरोना संक्रमित मरीजों की सहायता के लिए स्मार्ट सिटी कार्यालय में बना कोविड कमांड कंट्रोल रूम दिखावा साबित हो रहा है।

कानपुर :  में कोरोना संक्रमित मरीजों की सहायता के लिए स्मार्ट सिटी कार्यालय में बना कोविड कमांड कंट्रोल रूम दिखावा साबित हो रहा है। सोमवार को इस कंट्रोल रूम (18001805159) में आए तीमारदारों के फोन तक नहीं उठे। एक-दो के फोन उठे तो उन्हें बताया गया कि कोविड अस्पताल सीधे मरीज भर्ती कर रहे हैं, वहीं जाएं।

किस अस्पताल में वेंटिलेटर, आईसीयू और सामान्य श्रेणी के कितने बेड खाली हैं, किसी अस्पताल में भर्ती होना आदि जानकारी तक नहीं दी गई। ऑक्सीजन सिलिंडर मांगने वाले होम आइसोलेशन के मरीजों को सीधे प्लांटों से संपर्क करने की सलाह दी गई।

स्वरूप नगर निवासी अनुराग श्रीवास्तव कोरोना संक्रमित हो गए हैं। ऑक्सीजन लेवल गिरता और हालत बिगड़ते देख परिजनों ने कोविड कमांड सेंटर फोन कर भर्ती कराने का आग्रह किया। डेढ़ घंटे बाद उनके मकान के बाहर एंबुलेंस भी पहुंची, पर उसमें बैठे कर्मियों ने यह कहकर मरीज ले जाने से इनकार कर दिया कि अभी अस्पतालों में जगह नहीं है।

कोरोना जैसे लक्षण दिखने पर पशुपति नगर निवासी जितेंद्र पाल सिंह को भर्ती कराने के लिए परिजनों ने बर्रा स्थित प्रिया नर्सिंगहोम सहित कई कोविड अस्पतालों में संपर्क किया। कोविड कंट्रोल रूम में भी गुहार लगाई पर न बेड मिला, न ऑक्सीजन सिलिंडर। मजबूरी में वह होम आइसोलेशन में रहने और मेडिकल स्टोर से दवाएं खरीदकर इलाज कराने पर मजबूर हैं।

गोविंद नगर लाल क्वार्टर निवासी कोरोना संक्रमित केसर बमवानी की होम आइसोलेशन में हालत चिंताजनक होते देख परिजनों ने कोविड कमांड सेंटर के टोल फ्री नंबर सहित अन्य नंबर डायल किए। गोविंद नगर के पार्षद नवीन पंडित ने बताया कि उन्हें कमांड सेंटर से कोई रिस्पांस नहीं मिला और न ही परिजनों को ऑक्सीजन सिलिंडर मिल पाया। वह मजबूरन होम आइसोलेशन में इलाज करा रहे

गुजरात से परिवार संग लौट रहे प्रवासी ने सुनाई आपबीती

कानपुर: गृहस्थी बेचकर 20 हजार जुटाए, 10 हजार में कानपुर पहुंचे देशभर में कोरोना के कहर के बीच प्रवासी कामगारों ने इस बार सबकुछ बंद होने से पहले ही अपने घरों को लौटना शुरू कर दिया है। गुजरात के अहमदाबाद से अपने घर अंबेडकरनगर लौट रहे प्रवासी ने बताया कि सारी गृहस्थी बेचकर उसने 20 हजार रुपये जुटाए। हर जगह इस कदर लूट मची है कि कानपुर तक पहुंचने में ही उसके 10 हजार रुपये खर्च हो गए।

मूलरूप से अंबेडकरनगर के रहने वाले धीरेंद्र ने बताया कि वह पत्नी उर्मिला और बेटे के साथ अहमदाबाद में तीन साल से रह रहे थे। गांव में खेती न होने के कारण वह नौकरी के लिए अहमदाबाद चले गए थे। वहां कपड़ा फैक्टरी में नौकरी कर रहे थे। उन्हें उम्मीद नहीं थी कि हालात फिर से इस कदर बिगड़ेंगे कि सबकुछ बेचकर फिर से घर लौटना पड़ेगा। पिछले साल लॉकडाउन के दौरान किराये के कमरे में ताला बंद कर बमुश्किल घर पहुंचे थे। हालात सामान्य होने पर परिवार के साथ फिर से काम करने अहमदाबाद पहुंच गए थे। उन्होंने बताया कि वर्तमान में वहं के हालात पूर्व से भी बदतर हो चुके हैं।

अब लॉकडाउन की आशंका के बीच उन्होंने पहले ही अहमदाबाद छोड़ दिया। उनके साथ काम करने वाले दर्जनों लोग अपने घरों का रुख कर गए हैं। इस बार उन्होंने वापस न लौटने की कसम खाई है। धीरेंद्र ने बताया कि घर लौटने के लिए फैक्टरी मालिक से रुपये मांगे, लेकिन उसने देने से इनकार करते हुए वहीं रुकने को कहा। इस पर कमरे में रखा सारा सामान 20 हजार रुपये में बेच दिया। कानपुर आते-आते करीब 10 हजार रुपये खर्च हो चुके हैं। बताया कि हर जगह लूट मची है। साथ में पत्नी और बच्चे को देखकर पांच रुपये की चीज 20 रुपये में दी जा रही है।

चित्रकूट में भीषण सड़क हादसा

चित्रकूट :  जिले में हाईवे पर भीषण सड़क हादसा हुआ। रैपुरा थाना क्षेत्र के गडरिया पुरवा के पास बोलेरो व बाइक की भिड़ंत हो गई। हादसे में बाइक सवार दो लोगों की मौत हो गई। मृतकों का आपस में साले-बहनोई का रिश्ता है। घटना की जानकारी मिलते ही संबंधित थाने की पुलिस मौके पर पहुंची। पुलिस ने बोलेरो को कब्जे में ले लिया है जबकि चालक भाग निकला है। दोनों मृतक चित्रकूट जिले के ही निवासी थे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.