लासा देवी मंदिर का नहीं हो सका कायाकल्प

0 53

लखनऊ : राजधानी के बीकेटी तहसील क्षेत्र के अंतर्गत अकडरिया गांव के पास स्थित ऐतिहासिक,धार्मिक एवं पौराणिक तीर्थ स्थल लासा देवी मंदिर का सीएम पर्यटन संवर्धन योजना के तहत मंदिर का 49 लाख 14 हजार रुपये से कायाकल्प होना था।लेकिन आज तक पर्यटन विभाग द्वारा मंदिर परिसर में सिर्फ थोड़ी सी बाउंड्री वाल बनाकर बाकी सभी कार्य अधूरे पड़े हुए हैं।जो अभी तक पूरे नहीं किये जा सके है। क्षेत्र के गणमान्य नागरिकों ने ऐतिहासिक लासा देवी मंदिर की सुंदरता को बनाए रखने के लिए मंदिर का सौंदर्यीकरण करवाये जाने की मांग मुख्यमंत्री से की है।

बता दें कि लासा देवी मंदिर का सीएम पर्यटन संवर्धन योजना के तहत सौंदर्यीकरण होना था।मंदिर के सौंदर्यीकरण के लिए 49 लाख 14 हजार रुपये स्वीकृत भी हो चुके थे।मंदिर में इंटरलॉकिंग टाइल्स लगाए जाने थे। पर्यटकों के लिए मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध करवाने तथा मंदिर के चारों ओर पौधे भी लगाए जाने थे।सिद्ध पीठ मां लासा देवी का प्रसिद्ध मंदिर जहां कार्तिक पूर्णिमा के दिन विशाल मेला लगता है। दूर-दूर से भक्त मां लासा देवी के दर्शन करने आते हैं। इस मंदिर में सुबह शाम विधिपूर्वक पुजारी द्वारा आरती की जाती है।

इस स्थान पर शिव मंदिर, हनुमान मंदिर एवं लासा देवी स्वयं विराजमान है।यह मंदिर समूचे जिले में प्रसिद्ध है। लगभग 50 साल पहले 20 से 25 गांवों के लोगों द्वारा महीने में एक बार अपने घरों से पैदल चलकर मां लासा देवी के मंदिर दर्शन करने को जाते थे। तथा मंदिर पर भक्तों की सच्ची श्रद्धा एवं निष्ठा के कारण यहां पर मुंडन, रामायण, भजन कई कार्यक्रम लोगों द्वारा यहां करते रहते हैं। मां लासा देवी मंदिर में भक्त अपनी मनोकामना पूर्ण का आशीर्वाद मांगते हैं तथा मनोकामना पूर्ण होने पर मां के मंदिर में चढ़ावा भी चढ़ाते हैं।नवरात्रि पर्व कार्तिक पूर्णिमा को मंदिर में भक्तों का तांता लगा रहता है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.