Lucknow Breaking News

0 138

प्रदेश में जल्द लगेंगे 125 ऑक्सीजन प्लांट

 

लखनऊ :  मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि ऑक्सीजन की उपलब्धता बढ़ाने के लिए प्रदेश में 125 ऑक्सीजन प्लांट लगाए जाएंगे। ये प्लांट 50 अति प्रभावित जिलों और हर जिले में कम से कम दो सीएचसी में लगेंगे। ये प्लांट कॉरपोरेट सोशल रिस्पांसबिलिटी फंड (सीएसआर) से बनेंगे। सीएम योगी ने आबकारी विभाग, चीनी उद्योग एवं गन्ना विकास विभाग को निर्देश दिया है कि सभी आबकारी कंपनियों, सभी चीनी मिलों और उनके अधीन फर्टिलाइजर और पेस्टिसाइड बेचने वाली कंपनियों से सीएसआर फंड के तहत प्लांट लगाने के लिए तीव्र प्रयास किए जाएं। डीएम और सीएमओ के परामर्श से ज्यादा आवश्यकता वाले सीएचसी चिह्नित कर बड़े प्लांटों को जिला अस्पतालों में स्थापित कराएं। प्रमुख सचिव आबकारी और चीनी उद्योग एवं गन्ना विकास विभाग संजय आर. भूसरेड्डी ने बताया कि इस पर काम शुरू कर दिया गया है। इसके अलावा सीएम ने यह भी कहा है कि छोटे अस्पतालों में तात्कालिक जरूरतों को देखते हुए पोर्टेबल टाइप या ऑक्सीजन कन्संट्रेटर्स लगाए जाएं, ताकि लोगों को जल्द से जल्द इसका लाभ मिल सके।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की कोविड रिपोर्ट आई निगेटिव

लखनऊ : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की कोविड रिपोर्ट निगेटिव आई है। मुख्यमंत्री योगी ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी है। सीएम ने शुभकामनाओं के लिए सभी का धन्यवाद भी दिया। उन्होंने ट्वीट किया कि आप सभी की शुभेच्छा और चिकित्सकों की देखरेख से अब मैं कोरोना निगेटिव हो गया हूँ। आप सभी के द्वारा मुझे दिए गए सहयोग व शुभकामनाओं के लिए धन्यवाद।गौरतलब है कि 14 अप्रैल को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कोरोना संक्रमित पाए गए थे। इसके बाद से ही मुख्यमंत्री होम आइसोलेशन में थे और संपर्क में आए लोगों से भी जांच करवाने की अपील की थी। मुख्यमंत्री अपने आवास पर ही आइसोलेट रहते हुए दिनचर्या पूरी कर रहे थे। कोरोना संक्रमित होने के बाद भी सीएम योगी टीम- 11 के अधिकारियों के साथ लगातार संपर्क में थे और महामारी के नियंत्रण की रणनीति पर विचार विमर्श कर रहे थे। डॉक्टरों की एक टीम मुख्यमंत्री के स्वास्थ्य पर लगातार नजर रखे हुए हैं। हर दो घंटे पर मुख्यमंत्री के बुखार पल्स रेट, ब्लड प्रेशर व ऑक्सीजन लेवल का पूरा ब्यौरा तैयार कराया जा रहा है। इसी के आधार पर डॉक्टर उन्हें चिकित्सकीय परामर्श दे रहे हैं।

अखिलेश, प्रियंका और रालोद ने भी की मृत कर्मियों के आश्रितों को 50 लाख देने की मांग

लखनऊ :  सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने पंचायत चुनाव ड्यूटी के दौरान कोरोना संक्रमण से शिक्षकों और अन्य कर्मियों की मौत का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा है कि पंचायत चुनाव ड्यूटी के दौरान जिन अध्यापकों और कर्मियों की मौत कोरोना संक्रमण के कारण हुई है उनके आश्रितों को 50 लाख रुपये की आर्थिक सहायता दी जाए। कहा, भाजपा सरकार कर्मचारियों को सुरक्षा दे नहीं तो सरकारी कर्मी और शिक्षक मतगणना का बहिष्कार करने के लिए बाध्य होंगे। उधर, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा कि प्रदेश में पंचायत चुनाव की ड्यूटी में लगे लगभग 500 शिक्षकों की मृत्यु की खबर दुखद और डरावनी है। सोशल मीडिया के जरिये उन्होंने कहा कि चुनाव ड्यूटी करने वालों की सुरक्षा का प्रबंध लचर था तो उनको क्यों भेजा? सभी शिक्षकों के परिवारों को 50 लाख रुपये मुआवजा और आश्रितों को नौकरी देने की मांग की।

रालोद ने पंचायत चुनाव ड्यूटी के दौरान अधिकारियों शिक्षकों, कर्मचारियों व पत्रकारों की कोरोना से मौत का आरोप लगाते हुए सरकार से मृतकों के परिजनों को 50-50 लाख रुपये मुआवजा देने की मांग की है। पार्टी के राष्ट्रीय सचिव अनिल दुबे ने प्रदेश सरकार से कोरोना संक्रमण की भयावहता को देखते हुए दो मई को होने वाली पंचायत चुनाव की मतगणना को कोविड प्रोटोकॉल का पालन करते हुए कराने की मांग की है। उन्होंने कहा, सरकार मतगणना के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखते हुए ड्यूटी कर रहे अधिकारियों, शिक्षकों, कर्मचारियों व कवरेज कर रहे पत्रकारों को कोरोना संक्रमण से बचाने के लिए पूरा सुरक्षा कवच प्रदान करे नहीं तो मतगणना स्थगित की जाए।

घर-घर आयुष काढ़ा बटवाने की कार्य योजना बनाएं

लखनऊ : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि लोगों की इम्युनिटी बढ़ाने में आयुष की अहम भूमिका है। आयुष विभाग कार्य योजना बनाकर घर घर काढ़ा बंटवाने, लोगों को योगासन और प्राणायाम के बारे में जागरूक करने के लिए अभियान चलाएं। आयुष चिकित्सक, स्थानीय प्रशासन तथा इण्टीग्रेटेड कमाण्ड एण्ड कण्ट्रोल सेण्टर के साथ समन्वय बनाते हुए इस आपदा के समय जागरूकता और चिकित्सा के लिए सेवाएं प्रदान करें। मुख्यमंत्री गुरुवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से कोविड-19 के सम्बन्ध में आयुष चिकित्सकों के साथ संवाद कर रहे थे।  मुख्यमंत्री ने कहा कि 2.52 लाख लोग होम आइसोलेशन में हैं। आयुष, होम्यो और यूनानी चिकित्सक  की एक टीम गठित की जाए। यह टीम लोगों को स्वास्थ्य सम्बन्धी जानकारी दे।  कोविड के साथ-साथ नॉन कोविड मरीजों पर भी ध्यान दिया जा रहा हैहै। हर जिले में ऐसे अस्पताल चिन्हित किए गए हैं। हालांकि ओपीडी सेवा बन्द है, लेकिन आपातकालीन परिस्थितियों के बारे इलाज उपलब्ध कराया जा रहा है।

आयुष कवच एप के माध्यम से लोगों को व्यापक स्तर पर लाभान्वित किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि योगासन और प्राणायाम के बारे में जनता को जागरूक किया जाए। आयुष राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार)  धर्म सिंह सैनी ने कहा कि आयुष चिकित्सक व पैरामेडिक्स कोविड के विरुद्ध संघर्ष में पूर्व की भांति अपना योगदान दे रहे हैं। आयुष कवच एप उपयोगी सिद्ध हुआ है। आयुष काढ़े का वितरण किया जा रहा है। वाराणसी और पीलीभीत में एल-2 सुविधा के चिकित्सालयों की भी स्थापना की गई है। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के दौरान आयुर्वेद चिकित्सक डॉ0 नीरज खन्ना एवं डॉ0 सुरेन्द्र चौधरी, होम्योपैथी चिकित्सक डॉ0 एस0एम0 सिंह एवं डॉ0 आदित्य पारीख, यूनानी चिकित्सक हकीम मोहम्मद अशफाक एवं हकीम सैय्यद मोहम्मद हस्नान नगरामी ने आयुष चिकित्सा प्रणालियों में कोविड के उपचार के सम्बन्ध में जानकारी दी ।

भाई ने बहन की फर्म को हड़प कर किया एक करोड़ 80 लाख का गबन

लखनऊ : विभूतिखंड इलाके में रहने वाली सुशीला जायसवाल ने अपने भाई बृजकिशोर जायसवाल और शालिनी श्रीवास्तव पर बिना पूछे उनकी फर्म के नाम पर दूसरी फर्म खोलकर एक करोड़ रुपये गबन करने का मुकदमा दर्ज कराया है। मामले की छानबीन कर कार्रवाई की जाएगी। विभूतिखंड थाना प्रभारी निरीक्षक के मुताबिक, सुशीला जायसवाल ने आरोप लगाया है कि साल 2013 में उन्होंने आरके किचन एंड इंटीरियर्स के नाम से कंपनी खोली थी। कुछ दिनों बाद उसमें अपने भाई बृज किशोर और उसकी पत्नी शालिनी को नौकरी पर रख लिया। धीरेे-धीरे बृजकिशोर कंपनी का काम संभालने लगा। सुशीला को भी विश्वास हो गया। इसके बाद साल 2016 से बृजकिशोर कस्टमर से माल की रकम अपने खाते में मंगाने लगा। पूछने पर टाल-मटोल कर देता था। कुछ दिनों बाद सुशीला को जानकारी हुई कि बृजकिशोर ने गोमतीनगर इलाके में एक गोदाम बना लिया है।

आरोप है कि साल 2018 में बृजकिशोर और शालिनी ने फर्म को हड़पने की प्लानिंग शुरू कर दी। सुशीला ने विरोध किया और उसकी रकम वापस करने को कहा लेकिन अपने खाते में जमा की गई रकम वापस नहीं की। जुलाई 2018 में सुशीला अपने परिवार के साथ पिता के घर गई हुईं थी। इधर बृजकिशोर और शालिनी ने फर्म का करीब 80 लाख रुपये का माल अपने गोदाम में शिफ्ट कर दिया। बृजकिशोर और शालिनी ने धीरे-धीरे कंपनी के माल के साथ एक करोड़ 80 लाख रुपये का गबन कर लिया। प्रभारी निरीक्षक के मुताबिक, मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। मामले की छानबीन कर कार्रवाई की जाएगी।

मतगणना केंद्रों पर लोग थर्मल स्कैनिंग और ऑक्सीमीटर से जांच के बाद ही प्रवेश कर सकेंगे

लखनऊ: राज्य निर्वाचन आयोग ने कहा कि मतगणना केंद्रों पर लोग थर्मल स्कैनिंग और ऑक्सीमीटर से जांच के बाद ही प्रवेश कर सकेंगे। इसके लिए आरटीपीसीआर की रिपोर्ट जरूरी नहीं है। साथ ही सभी मतगणना केंद्रों पर मेडिकल हेल्थ डेस्क खोली जाएंगी जहां आवश्यक दवाएं उपलब्ध रहेंगी।  राज्य निर्वाचन आयुक्त मनोज कुमार ने बताया कि कोविड-19 के लक्षण जैसे बुखार या जुकाम वाले व्यक्ति को मतगणना केंद्र में प्रवेश नहीं दिया जाएगा। केंद्रों पर सैनिटाइजर, साबुन और पानी की पर्याप्त व्यवस्था रहेगी। हाथों को बिना सैनिटाइज किए और बिना मास्क लगाए मतगणना केंद्रों में प्रवेश नहीं दिया जाएगा। शर्तों का उल्लंघन करने पर महामारी एक्ट के तहत कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने बताया कि परिणाम घोषित होने के बाद कोई भी प्रत्याशी जुलूस नहीं निकाल सकेगा।

मनोज कुमार ने बताया कि प्रत्याशियों व एजेंट को मतगणना शुरू होने के 48 घंटे पहले आरटीपीसीआर या  रैपिड एंटीजन टेस्ट की निगेटिव रिपोर्ट या कोविड-19 वैक्सिनेशन कोर्स पूरा करने की रिपोर्ट दिखानी होगी। यदि रिपोर्ट नहीं होगी तो भी मतगणना के दिन पल्स ऑक्सीमीटर या थर्मामीटर से टेस्ट करने के बाद स्वस्थ पाए जाने पर केंद्र में प्रवेश दिया जाएगा। मनोज कुमार ने बताया कि हर केंद्र पर पाली बदलने के साथ ही पूरे मतगणना केंद्र का सैनिटाइजेशन कराया जाएगा। साथ ही जो भी बैलेट बाक्स मतगणना टेबिल पर लाए जाएंगे उन्हें पूरी तरह से सैनिटाइज किया जाएगा। पुलिस हेड कांस्टेबल के घर से 20 लाख के जेवर और 30 हजार की नकदी चोरी

पुलिस हेड कांस्टेबल के घर से 20 लाख के जेवर और 30 हजार की नकदी चोरी

लखनऊ: राजधानी में जहां लोग कोरोना से परेशान हैं, वहीं चोरों के हौसले बुलंद हो गए हैं। चोरों ने ठाकुरगंज में हेड कांस्टेबल समेत दो व वजीरगंज में एक बंद मकान से सोने-चांदी के जेवरात पार कर दिए। पुलिस ने तीनों केस दर्ज कर लिए हैं। चोरों के बारे में पता लगाया जा रहा है। ठाकुरगंज इलाके में रहने वाले अजय भदौरिया पुलिसमुख्यालय में हेड कांस्टेबल के पद पर तैनात हैं। अजय पूरे परिवार के साथ मध्यप्रदेश में शादी में गए हुए थे। इस दौरान पीछे से उनके मकान का ताला तोड़कर चोरों ने घर में रखे सारे सोने-चांदी के जेवरात पार कर दिए। अजय के मुताबिक, करीब 20 लाख के सोने चांदी के जेवरात पार चोर ले गए। उन्होंने बताया कि घर में जितनी भी महिलाएं हैं, सभी के जेवर एक जगह ही रखे जाते हैं। सभी जेवर चोरी हो गए। इसके अलावा 30 हजार रुपये नगदी भी पार कर दी।

वहीं दूसरी तरफ ठाकुरगंज इलाके में रहने वाले अरुण कुमार पांडेय परिवार के साथ शहर से बाहर गए हुए थे। पड़ोसियों ने सूचना दी कि उनके घर का ताला टूटा हुआ है। वे आनन-फानन घर पहुंचे तो देखा कि घर में रखा कीमती सामान व सोने-चांदी के जेवरात व नकदी गायब हैं। वजीरगंज इलाके में रहने वाले आलोक कुमार तिवारी किसी काम से बाहर गए हुए थे। इसका फायदा उठाते हुए चोरों ने बंद मकान का ताला तोड़कर घर में रखे सोने-चांदी के जेवरात व नगदी पार कर दी। पुलिस ने सभी जगहों पर मुकदमा दर्ज कर लिया है। चोरों के बारे में पता लगाया जा रहा है।

चौक इलाके में स्थित अशोक सिनेमा के गोदाम में अचानक आग लग गई

लखनऊ: चौक इलाके में स्थित अशोक सिनेमा के गोदाम में बृहस्पतिवार शाम अचानक आग लग गई। सूचना पर पहुंची पुलिस और दमकल की एक गाड़ी ने आग पर करीब एक घंटे में आग पर काबू पा लिया। बताया जा रहा है कि सिनेमा हॉल काफी दिनों से बंद है। पुलिस के मुताबिक, आग लगने का कारण पता नहीं चल सका है। चौक इलाके में स्थित अशोक सिनेमा हॉल के सामने काफी समय से बंद पड़े कबाड़ के गोदाम में अचानक आग लग गई। गोदाम में रखा लकड़ी का सामान जलकर राख हो गया। लेकिन समय रहते दमकल कर्मियों ने मौके पर पहुंचकर आग पर काबू पा लिया जिससे बड़ा हादसा होने से बच गया। आग कब और कैसे लगी यह किसी पता नहीं चल सका है। जब आग का विकराल रूप दिखा, तभी लोगों को जानकारी हुई। चौक थाना प्रभारी निरीक्षक विश्वजीत सिंह के मुताबिक, अशोक सिनेमा हॉल के पास एक गोदाम में आग लगी थी। आग पर दमकल कर्मियों की मदद से काबू पा लिया गया है। किसी भी तरीके का कोई नुकसान नहीं हुआ है। आग लगने का कारण अभी स्पष्ट नहीं हो सका है। उन्होंने कहा है कि फिलहाल आग लगने के कारणों की जांच की जाएगी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.