Lucknow Breaking News

0 152

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से शिष्टाचार भेंट कर उत्तराखंड महोत्सव 2021 की जानकारी देने और हरेला पर्व की बधाई देने की बात कही

लखनऊ : उत्तराखंड की जीवन शैली के प्रतीक, कृषि से जुड़े लोक पर्व हरेला का उत्साह पर्वतीय समाज के लोगों में देखते ही बनता है। शुक्रवार को पर्वतीय महापरिषद व उत्तराखंड महापरिषद के पदाधिकारियों व सदस्यों के साथ-साथ राजधानी में रहने वाले समाज के लोगों ने हरेला पर्व पूरे विधि-विधान व उमंग के साथ मनाया। उत्तराखंड महापरिषद के शिष्ट मंडल दल ने अध्यक्ष हरीश चंद्र पंत के नेतृत्व में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से शिष्टाचार भेंट कर उत्तराखंड महोत्सव 2021 की जानकारी देने और हरेला पर्व की बधाई देने की बात कही। इस मौके पर घरों में पूजन के अलावा परिषद के पदाधिकारियों व समितियों के संयुक्त तत्वावधान में पौधरोपण भी हुआ। स्वदेशी महिला स्वयं सहायता समूह कल्याणपुर की महिलाओं ने हेमा बिष्ट के निर्देशन में हरेला गीत प्रस्तुत किया।

पर्वतीय महापरिषद के महासचिव महेंद्र सिंह रावत ने कहा कि परिषद इस पर्व को जन-जन से जोड़ेगी। इस मौके पर 17 जुलाई को शाम 6 से 7 बजे तक महापरिषद भवन में प्रतियोगिता होगी, जिसमें अलग टोकरी में हरेला उगाकर लाना होगा। सर्वश्रेष्ठ तीन हरेला टोकरियों को शिव पार्वती सम्मान से सम्मानित किया जाएगा। इन हरेला टोकरियों को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को बधाई के तौर पर पहुंचाया जाएगा।

घर-घर में पूजन, खुशियों को लगे पंख

प्रियंका जोशी अपने परिवार के साथ हरेला मना रही थीं। इस बार का पर्व उन्होंने अपने घर आए नन्हे मेहमान के लिए आर्शीवाद समारोह के रूप में मनाया।

सब खुशहाल रहें, बस यही आस

माया जोशी कहती हैं कि जिस दौर से हम सब गुजरे हैं अब वैसा बुरा वक्त कभी नहीं आए बस इस पर्व पर यही कामना है।

सब स्वस्थ व निरोगी रहें

मयूर विहार कॉलोनी निवासी दीप्ति जोशी कहती हैं कि परंपरा अनुसार पुए बनाए, पूजा की। इस बार हमने रोग मुक्ति की प्रार्थना की है, ताकि हर जगह खुशहाली हो, सब स्वस्थ व और निरोग रहें।

अजय कुमार लल्लू समेत 500 से 600 कार्यकर्ताओं पर मामला दर्ज

लखनऊ : के जीपीओ पर गांधी प्रतिमा के नीचे धरना करने को लेकर कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू समेत 500 से 600 कार्यकर्ताओं पर मामला दर्ज हुआ। लखनऊ की हजरतगंज कोतवाली में निषेधाज्ञा उल्लंघन, कोरोना प्रोटोकॉल उल्लंघन समेत अलग अलग धाराओं में मुकदमा दर्ज हुआ।

रेलवे प्रशासन नया सिक्योरिटी प्लान बनाने की कवायद में जुट गया है।

लखनऊ : चारबाग व लखनऊ जंक्शन रेलवे स्टेशन पर आठ करोड़ रुपये से सेफ्टी सिक्योरिटी को करेंगे मुकम्मल चारबाग रेलवे स्टेशन व लखनऊ जंक्शन पर सुरक्षा को पुख्ता करने के लिए इंटीग्रेटेड सिक्योरिटी सिस्टम लगाया गया, जो कारगर साबित नहीं हुआ। अब रेलवे प्रशासन नया सिक्योरिटी प्लान बनाने की कवायद में जुट गया है।

उत्तर रेलवे के चारबाग रेलवे स्टेशन व पूर्वोत्तर रेलवे के लखनऊ जंक्शन रेलवे स्टेशन की सुरक्षा व्यवस्था को पुख्ता करने के लिए इंटीग्रेटेड सिक्योरिटी सिस्टम बनाया गया, जिसका उद्घाटन राजनाथ सिंह ने तब किया था, जब वह गृहमंत्री थे। इंटीग्रेटेड सिक्योरिटी सिस्टम केअंतर्गत हाई डेफिनेशन सीसीटीवी, हैंड हेल्ड मशीन, मेटल डिटेक्टर डोर, लगेज स्कैनर वगैरह लगाए गए। इसमें तमाम सीसीटीवी खराब हो गए, जिन्हें बदला नहीं गया। वहीं लगेज स्कैनरों की सांसें महज कुछ महीनों में ही फूल गईं और वे शोपीस बनकर रह गए। ऐसे ही मेटल डोर डिटेक्टर से सेफ्टी भी बीप तक सिमटकर रह गई। जिससे पूरा इंटीग्रेटेड सिक्योरिटी सिस्टम की सवालों के घेरे में आ गया। मुख्यालय ने इस बाबत आला रेलवे अधिकारियों से स्पष्टीकरण भी मांगा। अब जब राजधानी में आतंकी गतिविधियों का साया बढ़ा है तो रेलवे प्रशासन ने सुरक्षा को लेकर नया खाका तैयार किया है। इसके तहत आठ करोड़ रुपये से सुरक्षा व्यवस्था को पुख्ता बनाया जाएगा।

नए प्लान में ये होंगे काम 

ड्रोन से रेलवे स्टेशन की सुरक्षा जांची जाएगी।

रेलवे ट्रैक किनारे की जाएगी बैरिकेडिंग।

एंट्री व एग्जिट पर बढ़ेगी अत्याधुनिक मेटल डोर डिटेक्टरों की संख्या।

नई तकनीकी पर आधारित हैंड हेल्ड मशीनें सुरक्षाबलों को मिलेंगी।

सीसीटीवी कैमरों का जाल बिछेगा कंट्रोल रूम से किए जाएंगे कनेक्ट

लखनऊ : प्रियंका गांधी ने लखीमपुर खीरी पहुंचकर ब्लॉक प्रमुख चुनाव में हिंसा, उत्पीड़न का शिकार हुई रीतू सिंह एवं अनीता यादव से मुलाकात कर उनका दर्द जाना।

 नसीमुद्दीन सिद्दीकी के घर लंच करेंगी प्रियंका

लखनऊ : नसीमुद्दीन सिद्दीकी के घर लंच करेंगी प्रियंका दोपहर का भोजन नसीमुद्दीन के आवास पर होगा लखीमपुर से सीधे नसीमुद्दीन घर पहुंचेंगी प्रियंका नसीमुद्दीन के कैंट स्थित आवास पर पहुंचेंगी। भोजन के बाद कांग्रेस कार्यालय पहुंचेंगी प्रियंका गांधी

केंद्र की कसौटी पर पूरी तरह खरी नहीं उतरीं यूपी की बिजली कंपनियां

लखनऊ : उत्तर प्रदेश की बिजली वितरण कंपनियां केंद्र सरकार की कसौटी पर पूरी तरह खरी नहीं उतर पाई हैं। केंद्रीय बिजली मंत्रालय की ओर से देश भर की सरकारी बिजली कंपनियों की 2019-20 की नवीं वार्षिक रेटिंग में प्रदेश की पांच में से केवल एक को बी प्लस व दो को बी ग्रेड मिला है। दो कंपनियों को सी प्लस ग्रेड मिल पाया है। प्रदेश की कोई भी बिजली कंपनी ए प्लस व ए ग्रेड नहीं हासिल कर पाई है।

रेटिंग एजेंसियों ने प्रदेश की बिजली कंपनियों की आपूर्ति से लेकर वित्तीय एवं प्रबंधकीय परफॉर्मेंस को बहुत ज्यादा संतोषजनक नहीं माना है। इसका असर केंद्र से मिलने वाली आर्थिक सहायता पर पड़ सकता है। भारत सरकार ने रेटिंग के आधार पर ही बिजली कंपनियों को वित्तीय सहायता देने का मानक तैयार किया है।राज्यों के बिजली कंपनियों की खराब माली हालत के मद्देनजर भविष्य में वित्तीय सहायता मुहैया कराने की प्रक्रिया निर्धारित करने के लिए बिजली मंत्रालय ने एकीकृत मूल्यांकन प्रणाली का फॉर्मूला तैयार किया है। इसके तहत हर साल देश भर की सरकारी बिजली कंपनियों की रेटिंग कराई जाती है। लगातार 9वें साल की रेटिंग में भी यूपी की बिजली कंपनियों का प्रदर्शन दूसरे राज्यों के मुकाबले बहुत अच्छा नहीं रहा है। इतना जरूर है कि दो साल पहले तक प्रदेश की बिजली कंपनियां सबसे निचले पायदान पर रहती थीं। अब इसमें मामूली सुधार हुआ है, लेकिन बिजली कंपनियां शीर्ष ग्रेड में जगह बनाने से अभी काफी दूर हैं।

बिजली मंत्रालय ने रेटिंग की जिम्मेदारी पावर फाइनेंस कॉर्पोरेशन (पीएफसी) को सौंपी है। पीएफसी की ओर से जारी 41 बिजली कंपनियों की रेटिंग में पश्चिमांचल विद्युत वितरण निगम मेरठ बी प्लस ग्रेड के साथ 18वें पायदान पर है जबकि केस्को व मध्यांचल वितरण निगम बी ग्रेड के साथ क्रमश: 22वें व 24वें पायदान पर हैं। पूर्वांचल व दक्षिणांचल विद्युत वितरण निगम सी प्लस ग्रेड के साथ क्रमश: 27वें व 29वें पायदान पर हैं। गुजरात, हरियाणा, पंजाब व महाराष्ट्र की बिजली कंपनियां रेटिंग में शीर्ष पर हैं।

रेटिंग एजेंसी ने परिचालकीय (ऑपरेशनल) एवं वित्तीय (फाइनेंशियल) प्रदर्शन के मानकों पर बिजली कंपनियों की ग्रेडिंग की है। इसमें बिजली कंपनियों को मिली वित्तीय सहायता, बिजली की आपूर्ति और उसके एवज में की जाने वाली वसूली का औसत, लाइन हानियां, नियामक गतिविधियां, टैरिफ प्रस्ताव का दाखिला, ऑडिटेड अकाउंट, सूचना प्रौद्योगिकी एवं कंप्यूटराइजेशन, बैंकों व वित्तीय संस्थाओं की देनदारियां, वैकल्पिक ऊर्जा खरीदने की अनिवार्यता का अनुपालन समेत अन्य बिंदु शामिल हैं।

जीपीओ पर प्रियंका गांधी के मौन व्रत धरने का मामला

लखनऊ : जीपीओ पर प्रियंका गांधी के मौन व्रत धरने का मामला।  हजरतगंज पुलिस ने किया मुकदमा दर्ज।  कोविड 19 के उल्लंघन और धारा 144 के उल्लंघन मामले में दर्ज हुई fir।  प्रदेश अध्यक्ष अजय लल्लू सहित कई लोग किये गए नामजद

लखनऊ : लखीमपुर जाते समय रास्ते में प्रियंका का स्वागत, बीकेटी स्थित क्षेत्रीय मुख्यालय पर हुआ स्वागत कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने प्रियंका का स्वागत किया,

यूपी विधानसभा सचिवालय में जींस-टीशर्ट पर रोक

लखनऊ : यूपी विधानसभा सचिवालय में जींस-टीशर्ट पर रोक जींस और टीशर्ट पहनकर आने पर रोक लगाई गई अधिकारियों और कर्मचारियों को निर्देश जारी किया विधानसभा सचिवालय के संयुक्त सचिव ने जारी किया आदेश सचिवालय की गरिमा के अनुरूप ही पोशाक पहनने के निर्देश

मंडी परिषद का चेयरमैन बनाने के नाम पर की ठगी

लखनऊ : मंडी परिषद का चेयरमैन बनाने के नाम पर जालसाजों ने ईओडब्ल्यू से रिटायर्ड डीएसपी बीएल दोहरे से 20 लाख रुपये ठग लिए। शातिरों ने एक करोड़ रुपये में पद दिलाने का झांसा दिया था। पीड़ित ने सरोजनीनगर थाने में सात लोगों के खिलाफ केस दर्ज कराया है। प्रभारी निरीक्षक सरोजनीनगर महेंद्र कुमार सिंह के मुताबिक, हिंदनगर निवासी बीएल दोहरे पिछले साल मार्च में सेवानिवृत्त हुए थे। पीड़ित के मुताबिक, उनकी मुलाकात मलिहाबाद के चौकराना निवासी सौरभ सैनी व ऋषभ सैनी से हुई। उनके साथ बबलू, छोटू, गोविंद यादव, राज नारायण यादव भी अक्सर उनके घर आते थे। ठगों ने नीलेश कुमार नाम के व्यक्ति से मुलाकात कराई। नीलेश जब मिलने आया तो उसके वाहन पर भाजपा का झंडा लगा था। उसे सौरभ ने नई इंडिया सेना का प्रदेश अध्यक्ष व हिंदू महासभा का प्रदेश अध्यक्ष बताया था। सौरभ ने बीजेपी के कई नेताओं के साथ मुलाकात के फोटो भी दिखाए तो बीएल दोहरे झांसे में आ गए। जालसाजों ने बताया कि नई दिल्ली में बीजेपी के बड़े नेताओं से बात हो गई है। इस पर बीएल दोहरे ने 20 लाख रुपये एडवांस दे दिए। इसके बाद न तो चेयरमैन का पद मिला और न ही रकम।

पीड़ित के मुताबिक, गिरोह ने सोनभद्र के अजय बगड़िया को हीरे की खदान में ठेका दिलाने के नाम पर 10 लाख व महानगर में होटल संचालक मो. सलमान से लाइसेंस बनवाने के नाम पर ठगी की है। पट्टे की जमीन दिलाने के नाम पर मलिहाबाद के कई लोगों को चपत लगाई है। पीजीआई में मकान कब्जा करने के दौरान पुलिस ने सभी ठगों को दबोचा भी था। प्रभारी निरीक्षक के मुताबिक, सौरभ सैनी, ऋषभ सैनी, नीलेश, छोटू, गोविंद यादव, राजनारायण यादव, बबलू पर केस दर्ज कर लिया गया है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.