Lucknow Breaking News

0 66

राम का नाम और योगी का काम करेगा चुनावी नैया पार

लखनऊ : उत्तर प्रदेश में भगवान राम का नाम और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सरकार का काम भाजपा की चुनावी नैय्या को पार लगाएंगे। प्रदेश सरकार ने साढ़े चार वर्ष की उपलब्धियों पर तैयार बुकलेट इरादे नेक, काम अनेक में सांस्कृतिक राष्ट्रवाद और सामाजिक सरोकार के एजेंडे के साथ सरकार की प्रमुख उपलब्धियों को दर्शाया है। बुकलेट के कवर पेज पर अयोध्या स्थित भगवान रामलला की फोटो के नीचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की फोटो लगाई गई है। सांस्कृतिक राष्ट्रवाद के एजेंडे को धार देने के लिए बुकलेट में प्रयागराज में भव्य कुंभ के सफलतापूर्वक आयोजन, काशी विश्वनाथ धाम का विकास, गंगा यात्रा आयोजन, मथुरा में कृष्णोत्सव और बरसाने की होली को प्राथमिकता दी गई है। वहीं ब्रज तीर्थ क्षेत्र विकास परिषद, विंध्य धाम तीर्थ विकास परिषद और चित्रकूट धाम तीर्थ विकास परिषद के साथ चौरी चौरा शताब्दी वर्ष जैसे आयोजनों से भी हिन्दुत्व को धार देने की कोशिश की है।

बुकलेट में कोरोना संक्रमण कॉल में प्रदेश सरकार की चिकित्सा व्यवस्थाओं और मोदी सरकार के मुफ्त राशन वितरण को मुफ्त टीका-मुफ्त राशन शीर्षक से प्रमुखता दी गई है। एक ओर जहां प्रदेश की 15 करोड़ जनता को प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना में मिल रहे मुफ्त राशन को बड़ी उपलब्धि बताया है। वहीं दूसरी ओर 2016 की तुलना में 2020-21 में डकैती में 66.33 प्रतिशत, लूट में 66.34 प्रतिशत, हत्या में 24.89 प्रतिशत, बलवा में 28.96 प्रतिशत, और बलात्कार में 33.60 प्रतिशत की कमी को बड़ी उपलब्धि माना है। विपक्ष एक ओर जहां किसान आंदोलन को मुद्दा बना रहा है वहीं सरकार ने प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि, 48 लाख किसानों को 1.40 लाख करोड़ के गन्ना मूल्य का भुगतान और मुख्यमंत्री कृषक दुर्घटना कल्याण योजना जैसी योजनाओं के जरिये प्रदेश के किसान खुशहाल होने का दावा किया है।

प्रदेश सरकार ने 4.25 लाख युवाओं को सरकारी नौकरी, 3 लाख युवाओंको संविदा पर सरकारी नौकरी, 82 लाख एमएसएमई इकाइयों में 2 करोड़ लोगों को स्वरोजगार, बड़ी औद्योगिक इकाइयों में तीन लाख लोगों को रोजगार सहित अन्य माध्यमों से मिले रोजगार को बड़ी उपलब्धि बताया है। साढ़े चार साल में स्मार्ट सिटी, प्रधानमंत्री आवास योजना, एमएसएमई उद्योगों की स्थापना, स्वच्छ भारत मिशन में शौचालय निर्माण, पीएम किसान सम्मान निधि, ईज ऑफ डूइंग बिजनेस सहित अन्य क्षेत्रों में देश में अव्वल रहने को भी बड़ी उपलब्धि बताया है। बुकलेट के अंतिम पेज पर सरकार और संगठन में समन्वय का संदेश देने की कोशिश भी कोशिश भी की गई है। अंतिम पेज पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य, उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह और संसदीय कार्य मंत्री सुरेश खन्ना की भी फोटो प्रकाशित की गई है।

अखिलेश बोले दिख रही है दिल्ली से लखनऊ की दूरी

लखनऊ : यूपी में विधानसभा चुनाव 2022 को लेकर तीखी बयानबाजी का दौर तेज हो गया है। बुधवार को भाजपा ने दिल्ली में यूपी के सांसदों की बैठक बुलाई और उन्हें यूपी चुनाव की जिम्मेदारी सौंपी। इसे लेकर सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव द्वारा किया गया एक ट्वीट चर्चा में हैं जिसमें उन्होंने भाजपा नेतृत्व पर कटाक्ष किया है। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि भाजपा अपने उत्तर प्रदेश के सांसदों से यूपी की दुर्दशा व दुर्गति का हाल दिल्ली बुलाकर पूछ रही है, इससे पता चलता है कि दिल्ली तथा लखनऊ में कितनी दूरी है।

भाजपा चाहे कितनी भी बैठकें कर ले पर अब जनता इन्हें उठाकर और हटाकर ही दम लेगी। आकलन बाद में और (झूठी) तारीफ पहले, वाह रे भाजपा!बता दें कि भाजपा हाईकमान ने प्रदेश के सांसदों को 2022 का विधानसभा चुनाव फतह कराने की जिम्मेदारी सौंपी है। इसके तहत सांसद अपने क्षेत्र का दौरा कर केंद्र व प्रदेश सरकार के कामों को जनता को याद दिलाएंगे। पार्टी नेतृत्व ने कहा है कि विधायक 2022 की परीक्षा में जाएंगे व उन्हें पास कराने की जिम्मेदारी सांसदों की होगी। पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने बुधवार रात दिल्ली में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ व पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह की मौजूदगी में हुई बैठक में ब्रज, पश्चिम व कानपुर-बुंदेलखंड क्षेत्र के भाजपा सांसदों को सामाजिक सरोकारों के साथ चुनाव का एजेंडा सौंपते हुए विधानसभा चुनाव की तैयारी में जुटने का आह्वान किया।

नड्डा ने कहा कि आगामी दिनों में होने वाले मतदाता सूची पुनरीक्षण अभियान व बूथों के गठन में सांसद सक्रिय भागीदारी निभाएं। कोरोना की संभावित तीसरी लहर को देखते हुए दिसंबर तक अपने संसदीय क्षेत्र में शत प्रतिशत पात्र लोगों को वैक्सीन की दूसरी डोज लगवाएं। नड्डा ने सितंबर तक प्रदेश में पूरे साजो-सामान के साथ पार्टी के डेढ़ लाख प्रशिक्षित वॉलिंटियर नियुक्त करने के भी निर्देश दिए। बैठक में मुख्यमंत्री योगी ने प्रदेश में हो रहे विकास कार्यों की जानकारी दी। पार्टी के प्रदेश महामंत्री संगठन सुनील बंसल ने प्रदेश में संगठन के आगामी कार्यक्रमों में सांसदों को शामिल रहने को कहा।

मायावती ने सुप्रीम कोर्ट से किया अनुरोध

लखनऊ : पेगासस जासूसी कांड की खबर जब से सामने आई है सभी विपक्षी दल केंद्र से इस मामले में जांच कराने की मांग कर रहे हैं। यही नहीं संसद का अब तक का मानसून सत्र भी इसी के चलते हंगामे की भेंट चढ़ चुका है। अब पेगासस जासूसी कांड की जांच की मांग लेकर मायावती सामने आईं हैं। उन्होंने गुरुवार को ट्वीट कर सुप्रीम कोर्ट से इस मामले में संज्ञान लेने और अपनी निगरानी में जांच कराने का अनुरोध किया है।

मायावती ने लिखा, संसद का चालू मानसून सत्र देश, जनहित व किसानों आदि के अति-जरूरी मुद्दों पर सरकार व विपक्ष के बीच अविश्वास व भारी टकराव के कारण यह सत्र सही से चल नहीं पा रहा है। पेगासस जासूसी कांड भी काफी गरमा रहा है, फिर भी केंद्र इस मुद्दे की जांच कराने को तैयार नहीं। देश चिन्तित है। उन्होंने आगे कहा, ऐसे में बसपा माननीय सुप्रीम कोर्ट से यह अनुरोध करती है कि वह देश में इस बहुचर्चित पेगासस जासूसी कांड के मामले में खुद ही संज्ञान लेकर इसकी जांच अपनी निगरानी में कराए ताकि इसको लेकर सच्चाई जनता के सामने आ सके।

 लखनऊ से गिरफ्तार आतंकी कुकर बम में करते इस्तेमाल

लखनऊ : लखनऊ से गिरफ्तार किए गए अलकायदा के आतंकी प्रेशर कुकर बम बनाने के लिए माचिस की तीलियों से बारूद इकट्ठा कर रहे थे। मिनहाज ने एक कुकर बम तैयार भी कर लिया था। अदालत को दी गई जानकारी में एटीएस ने बताया है कि मिनहाज और मुशीरुद्यीन के पास से ढाई सौ से अधिक की संख्या में माचिस की डिब्बियां, एक बोरे में माचिस की केवल तीलियां और खाली डिब्बियां, लोहे की कीलें, छर्रे, पेचकस, शोल्डर, काला और सफेद पाउडर, डिटर्जेंट पाउडर और अन्य सामान बरामद किया गया है।

एटीएस ने अदालत को बताया है कि कार्रवाई के दौरान मिनहाज के पास से बरामद किए गए एक फोन को उसने पटक दिया था जिससे उसमें आग लग गई थी और सिम कार्ड जल गया था। मिनहाज के पास से तीन और मोबाइल बरामद किए गए हैं। अदालत को दी गई जानकारी के मुताबिक एटीएस ने मुशीरुद्यीन के घर से सात लीटर का एक कुकर बरामद किया था जिस हाई पावर बैटरी लगी हुई थी। इसके अलावा स्वनिर्मित डेटोनेटर भी बरामद किया गया था। मिनहाज के पास से दो कुकर बरामद हुए थे। जिसमें से एक बम के रूप में तैयार किया जा चुका था। एटीएस बरामद किए गए सामानों की न केवल जांच करा रही है बल्कि उक्त सामान उपलब्ध कराने वालों की भी तलाश कर रही है।

एटीएस ने अदालत को बताया है कि इंस्टाग्राम पर 9-10 महीने पहले सेना द्वारा बच्चे को गोली मारने की तस्वीर पोस्ट की गई थी। इस पोस्ट पर तौहीद नाम के व्यक्ति ने कमेंट किया था कि इसका बदला लिया जाना चाहिए। तौहीद के इस कमेंट को मिनहाज ने लाइक किया था। मार्च महीने में तौहीद ने मिनहाज से संपर्क किया और बताया कि मेरे बड़े तुमसे बात करेंगे जो मेरे अमीर हैं। दो-तीन दिन बाद मूसा नाम की आईडी से टेलीग्राम एप पर सलाम का मैसेज आया। मिनहाज ने उसका जवाब दिया। मिनहाज से मूसा ने स्वीकारोक्ति मांगी। मिनहाज ने इसका वीडियो बनाकर मूसा को भेज दिया। फिर मूसा ने मिनहाज से माचिस के मसाले और बारूद जमा करने के लिए कहा। इस दौरान तौहीद और मूसा उसे लगातार वीडियो भेज रहे थे। मिनहाज ने इन वीडियो को मुशीरुद्यीन से भी साझा किया। मिनहाज ने बताया कि वह लखनऊ में अलकायदा का माड्यूल खड़ा करना चाहता था।

एटीएस ने अदालत को बताया है कि मिनहाज के पास से चार मोबाइल फोन, एक मोबाइल जला हुआ, दो सिम कार्ड, एक पिस्टल .32 बोर, चार जिंदा कारतूस, 8 डिब्बे छर्रे, एक तौलने की इलेक्ट्रिकल मशीन, चार चाकू, एक प्लास्टिक के डिब्बे में पोटैशियम परमैग्नेट पाउडर, दो प्लास्टिक के डिब्बों में काले रंग का पाउडर, दो प्लास्टिक के डिब्बों में सफेद रंग का पाउडर, एक प्लास्टिक की पॉलिथीन में गंधक, दो प्रेशर कुकर, 28 पैकेट माचिस होम लाइट प्रत्येक बंडल में 6 माचिस और 5 खुली माचिस, एक पेचकस, एक बोरी में खाली तीलियां व माचिस के खोखे, एक काले रंग की प्लास्टिक की पॉलिथीन में कोयला, दो बाल्टी डिटर्जेंट पाउडर, रबर बैंड, कंपास, हथौड़ा, बैटरी, आईकार्ड, एक पेन ड्राइव, डेबिट कार्ड, पासबुक, डीएल, आधार कार्ड और पैन कार्ड बरामद किया है।

एंबुलेंस कर्मियों की हड़ताल जारी

लखनऊ : प्रदेश में एंबुलेंस कर्मियों की हड़ताल जारी है। इस बीच एस्मा लागू कर करीब 570 कर्मियों को बर्खास्त कर दिया गया है। पुलिस की मदद से कर्मियों से एंबुलेंस लेकर दूसरे चालकों को सौंपी गई हैं। एंबुलेंस सेवा देने वाली कंपनी का दावा है कि मरीजों को सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है। दो दिन से चल रही एंबुलेंस कर्मियों की हड़ताल के बाद बुधवार को सख्त कदम उठाए गए। विभिन्न जिलों में पुलिस और प्रशासन की मदद से एंबुलेंसकर्मियों से एंबुलेंस वापस ले ली गई। इन्हें दूसरे चालकों को सौंपी गई हैं। जीवीके ईएमआरआई के सीनिर वाइस प्रेसीडेंट टीवीएसके रेड्डी ने कहा कि लोगों की जिंदगी बचाने के लिए एंबुलेंस सेवा में किसी तरह की बाधा डालने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। करीब 570 को बर्खास्त किया जा चुका है।

आगे भी सेवा बाधित करने का प्रयास करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कर्मचारियों से अपील की कि किसी केबहकावे में ना आकर ड्यूटी ज्वाइन करें। दूसरी तरफ एंबुलेंस कर्मचारी संघ के संगठन मंत्री नीतिश कुमार ने कहा कि पूरे प्रदेश में हड़ताल चल रही है। विभिन्न जिलों से एंबुलेंसकर्मी लखनऊ के लिए निकल पड़े हैं। सभी ईको गार्डेन पहुंचेंगे। यहां धरना चलता रहेगा। एंबुलेंस व्यवस्था को लेकर मुख्यमंत्री ने भी सख्त  निर्देश दिया है। टीम 9 की समीक्षा बैठक में उन्होंने निर्देश दिया कि 108 और 102 एंबुलेंस सेवा का संचालन निर्बाध रूप से किया जाए। एम्बुलेंस सेवा किसी भी दशा में बाधित नहीं होना चाहिए। यह सुनिश्चित किया जाए कि प्रत्येक जरुरतमंद को एम्बुलेंस सेवा समय से प्राप्त हो जाए। यदि ऐसा नहीं होता हैए तो संबंधित एम्बुलेंस प्रोवाइडर के खिलाफ  सख्त कार्रवाई की जाए।

प्रभारी निरीक्षक आशियाना बृजेंद्र कुमार मिश्रा के मुताबिक जीवीके के सीएस कमलाकन्नन सुंदरम ने तहरीर दी। जिसमें कहा कि कंपनी पिछले कई साल से प्रदेश में एंबुलेंस सेवा को संचालित कर रही है। आरोप लगाया कि 26 जुलाई से एंबुलेंस सेवा  का संचालन ठप हो गया है। एंबुलेंस सेवा को संचालित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले चालक व अन्य कर्मचारी हड़ताल पर है। जिसके कारण पूरे प्रदेश में स्वास्थ्य व्यवस्था प्रभावित हो रही है। प्रदेश में एंबुलेंस सेवा पर भी एस्मा लागू है। इस महत्वपूर्ण सेवा को बाधित करने के लिए मुख्य साजिशकर्ता अभिनव नाथ त्रिपाठी है। इस कार्य में उनका सहयोग विक्रम सैनी ने दिया। दोनों ने कर्मचारियों को उकसा कर प्रदेश की स्वास्थ्य सेवाओं को प्रभावित किया है। अभिनव नाथ त्रिपाठी अधिवक्ता है। वह एंबुलेंस सेवा से जुड़े कर्मचारियों के वकील है। प्रभारी निरीक्षक के मुताबिक जीवीके के सीएस की तहरीर पर दोनों आरोपियों पर महामारी अधिनियम, आवश्यक सेवा अनुरक्षण अधिनियम, साजिश रचने, धारा 144 को उल्लंघन करने, सरकारी काम में बाधा उत्पन्न करने की धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

पीएचडी प्रवेश परीक्षा 20 और 21 अगस्त को

लखनऊ : विश्वविद्यालय की सत्र 2020-21 की पीएचडी प्रवेश परीक्षा 20 और 21 अगस्त को दो पालियों में ऑफलाइन आयोजित होगी। प्रवेश परीक्षा सिर्फ लविवि के पुराने परिसर में आयोजित की जाएगी, जबकि विवि प्रशासन ने पूर्व में ऑनलाइन प्रवेश परीक्षा आयोजित करने व लखनऊ के साथ बनारस व गाजियाबाद में सेंटर बनाने की बात कही थी। विश्वविद्यालय प्रशासन कोरोना संक्रमण काल को देखते हुए इस साल ऑनलाइन पीएचडी प्रवेश परीक्षा की तैयारी में लगा हुआ था। यही वजह रही कि अन्य कोर्सों से पहले पीएचडी के आवेदन समाप्त किए गए। साथ ही ऑनलाइन परीक्षा के लिए एजेंसी ढूंढने की कवायद शुरू हुई, किंतु विवि को इसमें सफलता नहीं मिली। इसकी वजह से प्रवेश परीक्षा की तिथि तय करने में देरी भी हुई।

26 जुलाई के अंक में लविवि पीएचडी प्रवेश परीक्षा 15 अगस्त के बाद शीर्षक से खबर भी प्रकाशित की थी, जिसमें बताया था कि ऑनलाइन परीक्षा के लिए एजेंसी व केंद्र फाइनल न होने के कारण प्रवेश परीक्षा 15 अगस्त के बाद होगी। खबर प्रकाशित होने के बाद हरकत में आए विवि प्रशासन ने बुधवार को प्रवेश परीक्षा की तिथि के साथ पेपर पैटर्न भी जारी किया। इसके अनुसार 90 मिनट की प्रवेश परीक्षा में 70 बहुविकल्पीय प्रश्न पूछे जाएंगे। लविवि प्रवक्ता डॉ. दुर्गेश श्रीवास्तव ने बताया कि इसमें से 35 प्रश्न संबंधित विषय से और 35 प्रश्न रिसर्च मेथोडोलॉजी से पूछे जाएंगे। हर प्रश्न दो अंक का होगा और इसमें कोई निगेटिव मार्किंग नहीं होगी। विवि में सामान्य पीएचडी में 448 सीटें हैं, जिसके लिए करीब 4302 आवेदन आए हैं। वहीं, पार्ट टाइम पीएचडी की 92 सीटों के लिए अलग से प्रवेश प्रक्रिया का आयोजन किया जाएगा।

पिछले 40 दिनों से अभ्यर्थी लगातार कर रहे हैं प्रदर्शन

लखनऊ : 69000 शिक्षक भर्ती अभ्यार्थियों ने एक बार फिर किया जोरदार प्रदर्शन पिछले 40 दिनों से अभ्यर्थी लगातार कर रहे हैं प्रदर्शन भाजपा कार्यालय का घेराव करने पहुंचे बड़ी संख्या में अभ्यार्थी शिक्षा मंत्री के आवास और बेसिक शिक्षा निदेशालय का अभ्यर्थी कई बार कर चुके है घेराव 69000 में 22000 सीटें जोड़ने की  अभ्यार्थियों की मांग  अभ्यार्थियों का आरोप शिक्षा मंत्री और बेसिक शिक्षा विभाग की अनदेखी के कारण नहीं हो रही नियुक्ति भाजपा कार्यालय का घेराव करने जा अभ्यार्थियों को पुलिस ने भेजा इको गार्डन

नगर निगम कार्यालय पर कर्मचारियों का प्रदर्शन

लखनऊ : नगर निगम कार्यालय पर कर्मचारियों का प्रदर्शन दैनिक वेतन , धारा108  संविदा तत्काल स्थायीकरण आउटसोर्सिंग कर्मचारियों को समय से वेतन और पद के अनुरूप मानदेय मांग को लेकर किया प्रदर्शन कर्मचारियों को भवन कर , जल कर एवं सीवर कर को मुफ्त करने की किया मांग शशि कुमार मिश्रा प्रदेश अध्यक्ष स्थानीय निकाय कर्मचारी महासंघ के नेतृत्व में प्रदर्शन मांगे पूरी ना होने पर 27 अगस्त को लखनऊ में करेंगे बड़ा विरोध प्रदर्शन।

यूपी 112 की बढ़ाई जाएगी कार्य क्षमता

 

लखनऊ : यूपी 112 की बढ़ाई जाएगी कार्य क्षमता डीजीपी मुकुल गोयल ने दिए निर्देश डीजीपी ने पुलिस की आपात सेवा 112 के मुख्यालय का किया निरीक्षण कोरोना काल के दौरान 112 ने आमजन को पहुंचाई राहत 112 की कार्य क्षमता बढ़ने से आपात स्थितियों में ज्यादा से ज्यादा लोगों तक कम समय में पहुंच सकेगी मदद

Leave A Reply

Your email address will not be published.