शिया वक़्फ़ बोर्ड के चुनाव मौलाना कल्बे जव्वाद ने लगाया धांधली का आरोप

0 129

पूर्व चेयरमैन पर लगाए गम्भीर आरोप कहा 5 हज़ार वक़्फ़ सम्पत्तियों में हुई

लखनऊ : 2 महीने पहले हुए उत्तर प्रदेश शिया वक्फ बोर्ड के मुतावल्लियों के चुनाव में बड़ी धांधलीयों का आरोप लगाते हुए चुनाव को दोबरा कराए जाने की मांग को लेकर आज शिया धर्मगुरु मौलाना कल्बे जावाद नक्वी ने शिया वक्फ बोर्ड के पूर्व चेयरमैन वसीम रिजवी पर गंभीर आरोप लगाए हैं । अपने आवास पर आयोजित प्रेस वार्ता में बोलते हुए मौलाना कल्बे जवाद ने कहा कि वक्फ बोर्ड के पूर्व चेयरमैन वसीम रिजवी के द्वारा पूर्व में लिखित तौर से बताया गया था कि शिया वक्फ बोर्ड की 8000 संपत्तियां प्रदेश में हैं लेकिन मौजूदा समय में वसीम रिजवी के द्वारा 3000 वक्फ संपत्तियों की जानकारी बताई गई है उन्होंने आरोप लगाया है कि शिया वक्फ बोर्ड की 5000 संपत्तियां नेस्तनाबूद की गई हैं ।

मौलाना ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि मुतावल्लियों के चुनाव में कुल 27 वोट पढ़े थे जिसमें से वसीम रिजवी ने 21 वोट मिलने की बात कही गई थी जबकि 12 मुतवल्ली ऐसे हैं जिन्होंने हलफनामा दाखिल करके वसीम रिजवी को वोट न देने की बात कही है । मौलाना कल्बे जवाद ने उन 12 में मुतावल्लियों की सूची भी जारी की जिन्होंने वसीम रिजवी को वोट न देने के लिए हलफनामा दाखिल किया है । मौलाना कल्बे जावाद द्वारा पत्रकारों के को दी गमुतावल्लियों की सूची में मौलाना कल्बे जवाद के नाम के अलावा लखनऊ से जकी भारती इलाहाबाद से मेहंदी रजा ,मोहान से मुशर्रफ हुसैन ,वाराणसी से सज्जाद अली, वाराणसी से ही एजाज हुसैन, फैजाबाद से अशफाक हुसैन ज़िया, कानपुर से नवाब इम्तियाज ,मुरादाबाद से गुलरेज हैदर, अमरोहा से वली हैदर, सहारनपुर से अथर अब्बास और मेरठ से शुएब जाफर फाखरी के नाम शामिल हैं ।

 

मौलाना ने आरोप लगाते हुए कहा कि वसीम रिजवी को बड़े-बड़े राजनेताओं का वर्धसव प्राप्त है इसलिए उसने पवित्र कुरान की बेहुरमती की और न सिर्फ कुरान की 26 आयतों पर सवाल उठाया बल्कि कुरान की 26 सीटों को हटाकर दूसरा कुरान जारी कर दिया यही नहीं वसीम रिजवी के द्वारा पवित्र कुरान की प्रतियां फाड़ी गई । उन्होंने कहा कि राष्ट्रद्रोह की धारा 153 ए के तहत वसीम रिजवी के खिलाफ दो मामले दर्ज हैं और 2 साल बीत जाने के बाद भी अभी तक उसे गिरफ्तार नहीं किया गया जबकि इसी धारा के तहत शरजील इमाम को तत्काल गिरफ्तार किया गया था। उन्होंने बताया कि प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से हुई उनकी मुलाकात में भी उन्होंने मुतावल्लियों के चुनाव में हुई धांधली की बात कही थी । मौलाना ने कहा कि कुरान की बेहुरमति करने वाले वसीम रिजवी के खिलाफ उन्होंने भी मुकदमा दर्ज कराने के लिए न सिर्फ तहरीर दी थी बल्कि उन्होंने पुलिस कमिश्नर से भी मुलाकात की थी लेकिन अब तक वसीम रिजवी के खिलाफ मुकदमा दर्ज नहीं किया गया ।

उन्होंने एक पुराने मामले का ज़िक्र करते हुए कहा कि करीब 6 वर्ष पूर्व सहादतगंज की एक मस्जिद में रमजान के दिनों में वसीम रिजवी के द्वारा रोजेदारों के लिए अफ्तारी मस्जिद भेजी गई थी जिसे रोजेदारों नमाजियों ने यह कहते हुए लेने से मना कर दिया था कि वसीम रिजवी का पैसा जायज नहीं है जिस पर वसीम रिजवी ने अफ्तारी न लेने वालों के खिलाफ तहरीर दी और पुलिस ने नमाजियों रोजेदारों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने में जरा भी देर नहीं लेकिन आज जब वसीम रिजवी के द्वारा पवित्र कुरान का अपमान किया गया और दुनिया भर के करोड़ो मुसलमानों की आस्था से खिलवाड़ किया गया जब पुलिस मुकदमा दर्ज नहीं कर रही है । उन्होंने कहा कि सरकार और पुलिस ने अगर वसीम रिजवी के खिलाफ कार्यवाही नहीं की तो शिया सुन्नी उलमा हजरतगंज में गिरफ्तारी देने की की तैयारी कर रहे हैं।

धर्मांतरण मामले में हो निष्पक्ष जांच

नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी एटीएस के द्वारा गिरफ्तार किए गए मौलाना उमर गौतम और मौलाना जहांगीर की गिरफ्तारी के संबंध में मौलाना कल्बे जवाद नकवी ने कहा कि एटीएस की कार्रवाई हमेशा न तो सही होती हैं और न ही गलत होती हैं उन्होंने कहा कि इस्लाम में ज़ोर जबरदस्ती किए जाने का कोई प्रावधान नहीं है उन्होंने कहा कि यदि किसी को लालच देकर इस्लाम कबूल करवाया जाता है तो वह गलत है मौलाना कल्बे जवाद ने कहा कि उन लोगों के भी बयान दर्ज किए जाने चाहिए जिन लोगों के द्वारा मौलाना उमर गौतम और मौलाना जहांगीर के कहने पर इस्लाम धर्म कुबूल किए जाने की बात कही जा रही है। मौलाना ने कहा कि जिस देश से इन दो मौलानाओं को फंडिंग किए जाने की बात कही जा रही है उन देशों की भी जांच होनी चाहिए। मौलाना कल्बे जावाद नक्वी ने कहा कि यदि 1000 लोगों से जबरदस्ती या लालच देकर इस्लाम कबूल करवाया गया है तो वास्तविक तौर पर यह लोग इस्लाम में शामिल नहीं हुए हैं क्योंकि इस्लाम दावत तो दे सकता है लेकिन जबरदस्ती किसी से नहीं की जा सकती।

Leave A Reply

Your email address will not be published.