सरकार को करोड़ों रुपए के राजस्व को खनन माफिया लगा रहे चूना, अधिकारी अंजान।

0 158

रायबरेली :  चौकी में बैठकर जनप्रतिनिधियों से अपनी बड़ी-बड़ी बातें हॉकने वाले सेमरी चौकी प्रभारी रावेंद्र सिंह अपराध को रोकने में नाकाम साबित हो रहे हैं। एसपी की नजरों में सर्वश्रेष्ठ दिखाने के लिए गरीब जनता का चालान काट कर वाहवाही बटोरने में लगे हुए हैं। और पैसे की भूख और ललक लेकर क्षेत्र में अवैध खनन करवा रहे है। इसका जीता जागता उदाहरण सोशल मीडिया में वायरल वीडियो बया कर रहा है। भू माफियाओं से मिलकर धरती की छाती पर अवैध खनन जोरों पर किया जा रहा है

मामला खीरों थाना क्षेत्र की सेमरी का है। जहां शाम होते ही अवैध खनन माफियाओं द्वारा धरती की छाती को छलनी करने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं। अवैध खनन माफिया और पुलिस की सांठगांठ के चलते अवैध खनन माफियाओं का धंधा फल-फूल रहा है। खनन माफियाओं की माने तो पुलिस को प्रति ट्राली के रेट पैसे देने पड़ते हैं। और 7 बजे के पहले खनन बंद कर देना होता है। पुलिस की शर्तों के अनुसार क्षेत्र में अवैध मिट्टी खनन किया जाता है। जैसे ही सुबह 7 बजते हैं। खनन का काम बंद कर दिया जाता है। पुलिस विभाग खनन विभाग और राजस्व विभाग के संरक्षण में चल रहे।अवैध खनन से पुलिस की कार्यशैली को लेकर लोग सवाल उठा रहे हैं । वहीं सरकार को करोड़ों रुपए के राजस्व को खनन माफिया चूना भी लगा रहे हैं। पुलिस के अधिकारियों को सूचना देने के बाद भी कोई अधिकारी नही पहुचता है। सारी रात जेसीबी मशीने सेमरी चौकी क्षेत्र में धरती की छाती को छलनी किया करती है

लेकिन इन भू माफियाओं पर कार्यवाही की तो बात छोड़ो, सूचना पर पुलिस नहीं पहुंचती है । इससे साफ जाहिर होता है कि खनन माफियाओं के साथ पुलिस की सांठगांठ है। खनन माफियाओं के ऊपर पुलिस निष्पक्ष कार्यवाही नही सिर्फ वाहवाही बटोरने में लगी हुई है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार मौजूदा चौकी प्रभारी के कार्यकाल में चौकी क्षेत्र में अवैध खनन जैसी घटनायें जोरों पर है। ऐसे कई मामलों में सेमरी पुलिस की लचर कार्यशैली पर एक बड़ा सवाल है। लेकिन जहां सरकार द्वारा अवैध खनन पर रोक लगाई जा रही। वहीं से सेमरी चौकी क्षेत्र में अवैध खनन माफियाओं द्वारा अवैध कारोबार जोरों से किया जा रहा है। वही जब इस विषय में सीओ इंद्रपाल सिंह से बात की गई तो उन्होंने बताया कि थाना प्रभारी को भेज कर दिखवाता हूँ।

Leave A Reply

Your email address will not be published.