भारतीय किसान यूनियन के पदाधिकारी ज्ञापन देने पहुंचे राजभवन।

0 180

 

लखनऊ : पिछले 7 माह से लगातार किसान उत्तर प्रदेश में आंदोलन कर रहे हैं ।आज किसान संगठनों के आवाहन के देश के कभी राजभवनों में पहुचकर राज्यपाल को ज्ञापन भारतीय किसान यूनियन के नेताओ ने सौपा। जिसके बाद राजधानी के बहुखंडी में  किसान एकत्रित हुए एकत्रित होने के बाद किसानों ने राजभवन जाने की बात कही थी। किसानों के राजभवन पहुंचने की स्थिति को देखते हुए भारी संख्या में ssb और लखनऊ पुलिस के जवान तैनात कर दिए गए हैं। फिलहाल किसानों का एक प्रतिनिधिमंडल हरिनाम सिंह के नेतृत्व में राजभवन राज्यपाल से मिलने के लिए पहुंचा है किसान नेताओं का कहना है कि केंद्र सरकार के द्वारा पास किए गए किसान बिलों के विरोध में लगातार आंदोलन कर रहे हैं अगर बिलों को वापस नहीं लिया गया तो पूरे देश में किसान एकजुट होकर आंदोलन करेंगे।

भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राजेश सिंह चौहान ने बताया कि राज्यपाल आनंदीबेन पटेल से मिलकर हमने ज्ञापन सौंपा है आज किसान आंदोलन को 7 महीने पूरे हो गए हैं उसके बावजूद भी किसानों की कोई बात नहीं सुनी गई है देश में हमें अन्नदाता कहा जाता है 74 सालों से अपनी जिम्मेदारी लगाता निभाते चले आ रहे हैं जब देश आजाद हुआ उस समय हम 35 करोड़ लोगों का पेट भर रहे थे आज इतनी ही जमीन पर हम 140 करोड़ जनता को भोजन देते हैं ऐसी स्थिति में भी अन्नदाता परेशान है कोरोला काल में पूरा देश लॉकडाउन था तब भी किसानों ने अपनी जान की परवाह किए बगैर खाद्यान्न पैदा किया

किसान नेता हरनाम सिंह ने कहा भारत सरकार ने हमारे मेहनत के बदले हमें तीन काले कानून दिए हैं जो हमारी नस्ल और फसलों को आने वाले समय में बर्बाद कर देंगे हमारी खेती को छीनकर कंपनियों को सौंप देंगे ऊपर से पराली जलाने के मसौदे की तलवार भी हमारे सर पर सरकार ने लगा दी है हम इन काले कानूनों का विरोध करते हैं उसी को लेकर आज ज्ञापन सौंपा गया है जो किसान फिर सरकार लाई है उस पर ना तो किसानों से चर्चा की गई ना किसान से कोई बात की गई अपने आप काले कानूनों को लागू कर दिया गया देशभर में किसानों का उत्पीड़न हो रहा है उसी को लेकर पूरे देश के राज्यपालों को आज ज्ञापन सौंपने का काम भारतीय किसान यूनियन के द्वारा किया जाए जा रहा है

Leave A Reply

Your email address will not be published.