ठोस कचरा प्रबंधन हेतु गोष्ठी का आयोजन

0 6

सोनभद्र : एक विकास परक समाज में महिलाओं की जागृति कितना महत्वपूर्ण योगदान सुनिश्चित कर सकती है इसका आंकलन पिछले कुछ समय के परिणामों ने स्वतः ही तय कर दिखाया है। नगर पंचायत रेणुकूट में भी अधिशासी अधिकारी डॉ अनिता शुक्ला द्वारा क्षेत्र की महिलाओं को उनके कर्तव्यों के प्रति जागरुक कर स्वच्छता अभियान को नए आयाम तक पहुंचाने की हर संभव कोशिश भी लगातार जारी है। इसी क्रम में अधिशासी अधिकारी द्वारा मिशन शक्ति फेज 3 के तहत नगर पंचायत कार्यालय में एक बैठक का आयोजन किया गया, बैठक में स्वच्छता के दृष्टिगत महिलाओं को जागरूक करते हुए ठोस कचरा प्रबंधन योजना के अनुसार स्रोत यानि घर पर ही कूड़े के पृथक्करण से सम्बंधित कार्ययोजना के बारे में विस्तार से चर्चा की गई। घर से निकलने वाले सूखे कचरे में जैसे प्लास्टिक कवर, बोतले, रैपर, कप, गत्ते पेपर, धातु सामग्री, और गीले कचरे में जैसे रसोई का कचरा, फल सब्जी के छिलके, अंडे के छिलके, गिरी पत्तियां, पूजा के फूल इत्यादि को अलग अलग रखने एवं उसी प्रकार सुबह सफाई कर्मियों को सौंप देने की जानकारी दी गई।

अधिशासी अधिकारी ने कहा कि यदि घर कि महिलाएं कचरा प्रबंधन में सहयोग करें तो नगर से कचरे का नामो निशान मिटाया जा सकता है। क्योंकि स्रोत पर ही कचरे को पृथक् कर लेने से उसका निस्तारण सुलभ हो जाता है। आधुनिक युग में महिलाओं के उपयोग किए गए सेनेटरी पैड और बच्चों के डायपर के ज्यादा मात्रा में पाए जाने वाले कचरे को एक बड़ी समस्या बताते हुए डॉ अनिता शुक्ला ने कहा कि बाला कं ने इस दिशा में एक सार्थक प्रयास किया है , उन्होंने विस्तार से बताते हुए कम्पनी द्वारा निर्मित रियूज पैड को इस कचरे से निजात दिलाने में काफी हद तक सहयोगी बताया। उन्होंने महिलाओं को रियूज सेनेटरी पैड वितरित करते हुए उनसे इसको इस्तेमाल करने और इसका फीडबैक साझा करने को कहा ताकि इसके सकारात्मक एवं नकारात्मक दोनो प्रभावों पर विचार करते हुए विस्तृत कार्ययोजना बनाई जा सके।

Leave A Reply

Your email address will not be published.