मुख्यमंत्री अगर पलायन ना करते तो हमारे पांच साल खराब ना होते : अखिलेश यादव

0 33

मुजफ्फरनगर : जनपद की बुढ़ाना विधानसभा के डीएवी इंटर कॉलेज के मैदान में समाजवादी पार्टी द्वारा कश्यप महासम्मेलन का आयोजन किया गया है। इस सम्मलेन में समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने सम्बोधित करते हुए भाजपा पर जमकर हमला बोला है। उन्होंने कहा कि वो दिन याद करो, जब एक बार मुख्यमंत्री कह रहे थे कि हमारे पास नौकरी तो बहुत है लेकिन हमारे नौजवानों में टेलेंट नहीं है। अखिलेश यादव ने कोरोना संक्रमण, कानून व्यवस्था महंगाई, तीन कृषि बिलों और रोजगार को लेकर भाजपा पर कटाक्ष किया है। उन्होंने कहा कि अगर मुख्यमंत्री जी का उत्तराखंड से पलायन नहीं होता हमारे पांच साल खराब ना होते

अखिलेश यादव ने सम्बोधित करते हुए कहा कि आपका उत्साह बता रहा है कि आने वाले समय में उत्तर प्रदेश की सरकार है उसे बदलने का फैसला ले लिया है। अब कोई रोक नहीं सकता, बदलाव होने तय है। किसानों, गरीबों ने तय किया है भाजपा का सफाया करने का काम करेंगे। उन्होंने कहा कि जो 22 अगले साल होने वाली है, इस बार इंकलाब होगा और 22 में बदलाव होगा। मुजफ्फरनगर के लोगों ने कभी सपा को निराश नहीं किया है। उन्होंने कहा कि जहां से ओपी राजभर से आये हैं, वहां से भाजपा के दरवाजे बंद हो गये हैं। मुझे उम्मीद है कि यहां से भी भाजपा के दरवाजे बंद हो गये हैं। मुझे उम्मीद है कि यहां से भी भाजपा के लिये दरवाजे बंद हो जायेंगे। उन्होंने कहा कि जो मुझे 18 बिंदुओं का मांग पत्र मिला है, हम अपने कश्यप समाज को भरोसा दिलाते हैं। आने वाले समय में जब सपा को मौका मिलेगा, तुरंत आपके समाज को सम्मान दिलाने का काम करेंगे। उन्होंने कहा कि जो यह कार्यक्रम हो रहा है, अभी तो बहुत सारे गठबंधन होने है, कई दलों को साथ लिया है और दलों के साथ गठबंधन होगा। सपा लगातार लोगों को जोड़ने का काम कर रही है, दलों, मजदूरों, व्यापारियों, किसानों और पिछड़ों, अगडों को सबको जोड़ने का सपा काम कर ही है

अखिलेश यादव ने कहा कि आपको सपने दिखाकर आपसे भाजपा ने वोट ले लिया और आपने भी ईमानदारी के साथ वोट दिया लेकिन सत्ता आने के बाद आपका सम्मान छिन लिया। उन्होंने कहा कि सबने हक मिलने के लिये भाजपा को वोट किया, लेकिन सरकार ने सत्ता में आने के बाद किसी को हक नहीं दिया। अगर कुछ बचा भी है और दिया है तो सरकार वो भी छिन लेगी। सरकार जिस तरह से फैसला ले रही है, जो आपके हाथ में वो भी छिन जायेगा। वो यही सरकार है जो कह रहे थे कि नौजवानों को नौकरी देंगे, किसानों की आय दोगुना कर देंगे। चौधरी चरण सिंह जी को मानने वाले लोगों बताओं कि आपकी आय बढ़ी है या घटी है। यही कहा था भाजपा ने कि किसानों की आय दोगुना कर देंगे लेकिन आय दोगुना नहीं हुई। महंगाई बढ़ गई है। नौजवानों को याद होगा कि 2017 में पेट्रोल और डीजल की कीमत क्या थी, आप पीछे की ओर मुडकर देखो। आज पेट्रोल सौ के पार चला गया है

अखिलेश यादव ने कहा कि हमारे लोगों को भरोसा दिलाया था कि हवाई चप्पल वाले हवाई जहाज में चलेंगे। इन्होंने पेट्रोल इतना महंगा कर दिया है कि अगर बाइक चलाना चाहोगे, तो वह भी नहीं चल पायेगी। किसानों के जब तीन कानून लागू हो जायेंगे और आपके खेत पर कब्जा करके आपको मजदूर बनाने का काम यह उद्योगपति करेंगे। जहां हमारे किसान लड़ रहे हैं लगातार संघर्ष कर रहे है, किसानों को सपा का समर्थन है और यह समर्थन जब तक रहेगा, जब तक सरकार काले कानून वापस ना ले लें। उन्होंने कहा कि अगर किसानों को बाजार के हाल पर छोड दिया जायेगा, बाजार के हाल पर किसान का भला नहीं हो सकता। किसान की मदद होने से ही किसान खुशहाल होगा, सकंट पैदा करने से किसान खुशहाल नहीं होगा। वहीं नौजवानों के सामने सकंट पैदा कर दिया, उनके पास नौकरी नहीं है

अखिलेश यादव ने कहा कि बाबा मुख्यमंत्री अभी आये थे, उन्हें अपना सकंल्प पत्र पढ़ना चाहिए। अब तक तो हम समझ रहे थे कि बाबा मुख्यमंत्री इसलिये लेपटॉप नहीं बांट रहे है कि उन पर लेपटॉप चलाना नहीं आता है। लेकिन मुझे भरोसा हो गया है कि जहां वह लेपटॉप चलाना नहीं जानते, वहां वह अपना घोषणापत्र भी नहीं पढ़ते हैं। अगर घोषणा पत्र पढ़ा होता तो उन्होंने अपने संकल्प पत्र में लिखा था कि हम 70 लाख नौजवानों को नौकरी देंगे। उन्होंने कहा कि वो दिन याद करो, जब एक बार मुख्यमंत्री कह रहे थे कि हमारे पास नौकरी तो बहुत है लेकिन हमारे नौजवानों में टेलेंट नहीं है। साथियों आप तय करो आपको कौन-सा सीएम चाहिए। आपको योग्य सरकार चाहिए या वैसी ही सरकार चाहिए, योग्य सरकार चाहिए या गप वाली सरकार चाहिए उन्होंने कहा कि अभी मुख्यमंत्री जी कह रहे हैं कि पलायन हो गया लेकिन सच्चाई तो यह है अगर मुख्यमंत्री जी का उत्तराखंड से पलायन नहीं होता हमारे पांच साल खराब ना होते

कोरोना संक्रमण को लेकर अखिलेश यादव ने कहा कि सरकार ने न दवाई दी , न अस्पताल दिये और न ही ऑक्सीजन दी। अगर भाजपा ने सही समय पर ऑक्सीजन दे दी होती तो हमारे इतने गरीब लोगों की जान न जाती। कोरोना काल में कोई इतंजाम नहीं किया और सड़कों पर हमारे मजदूर घर जाने के लिये परेशानी में पैदल चल रहे थे। जो इस वक्त काम आया था तो वो एंबुलेंस थी, जो काम आ रही थी। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री कहते हैं कि प्रदेश में कानून व्यवस्था सही कर दी है, मैं पूछना चाहता हूं के देश के किसी प्रदेश में पुलिस हत्या कर रही हो तो बताओ, हम कई उदाहरण दे सकते है जहां पर भाजपा सरकार में निर्दोष लोगों की हत्या हो गई। एक व्यापारी अपने कारोबार और अपने साथियों के साथ गोरखपुर घूमने गया था, उसे नहीं पता था कि उसके साथ गोरखपुर में क्या हो जायेगा। रात में पुलिस उसके पास पूछताछ के बहाने और पुलिस ने उसे वहीं इतना मारा कि उसकी वहीं जान चली गई

अखिलेश यादव ने कहा कि जो मुख्यमंत्री अपने घर गोरखपुर में व्यापारी को सुरक्षित नहीं रख सकता क्या वो कानून व्यवस्था प्रदेश में पुख्ता कर सकता है। पुलिस एक नौजवान को उठा ले गई और उसे ले जाकर थाने में पुलिस ने इतना पीटा की उसकी वहीं पर मौत हो गई। ऐसे ही बहुत घटनाओं की दोषी भाजपा सरकार है। उन्होंने कहा कि सबसे ज्यादा अन्याय भाजपा की इस सरकार में उत्तर प्रदेश में हो रहा है। आप ठोकों नीति चला रहे हो, आपको पता है कि बाद इसका असर क्या होगा। अभी हाल ही में फर्रूखाबाद में जेलर, डिप्टी जेल पीट गया और वहां 30 लोग घायल हो गये। अपराधी और पुलिस को यह नहीं पता था कि किसको ठोकें। पुलिस जेल के अंदर कैदियों को ठोक रहे थे और कैदी पुलिस को ठोक रहे थे। यही आपकी कानून व्यवस्था है। उन्होंने कहा कि सपा की सरकार में पुलिस का सम्मान हुआ है कभी पुलिस विभाग में इतना प्रमोशन नहीं हुआ होगा, जितना सपा सरकार ने प्रमोशन हुए हैं। पुलिस काम आसानी से करें, वो सपा सरकार ने काम करके दिखाया है। आपने सुविधाओं को बेहतर नहीं किया है। आप गाड़ी के टायर नहीं बदला पाये। गाड़ियों की संख्या नहीं बढ़ा पाये। केवल एक काम किया है 100 नंबर का नंबर सिर्फ 112 कर दिया है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.