लोगों को रास आने लगी है एसपी की कार्यशैली

0 98

अपराधियों के हौसले  पस्त
बाराबंकी : या तो अपराधी अपराध करना छोड़ दें  अथवा सरेंडर  हो जाएं अन्यथा वह पुलिस की नजरों से  बचने वाले नहीं हैं चाहे कितना ही शातिर दिमाग के क्यों ना हो, ताबड़तोड़ अपराधियों पर हो रही कार्रवाई पुलिस अधीक्षक के कड़क मिजाज होने की  तरफ इशारा कर रही है ऐसे में जहां अपराधियों के हौसले पस्त होते जा रहे हैं वही चंद समय के कार्यकाल में ही एसपी की प्रशंसा भी होने लगी है। लोगों का कहना है कि यदि पूर्व में आए कप्तान इसी तरह की कार्य शैली अपनाते तो शायद काफी हद तक अपराध रोका जा सकता था लेकिन लचर कार्यप्रणाली के चलते जिले में चोरी लूट एवं बलात्कार जैसे जघन्य वारदातें हुई और पुलिस हाथ पर हाथ धरे बैठी रही । सतरिख थाना क्षेत्र के ग्राम सेठ मऊ की घटना हो या फिर जैदपुर में मंदबुद्धि युवती का मामला  इसी की देन है और तो और लूट एवं चोरी की भी अनेकों घटनाएं घट चुकी हैं जिनमें कुछ को छोङ  अधिकांश मामलों का खुलासा भी नहीं हुआ है ग्रीन सिटी में एक साथ पांच घरों में हुई चोरी भी इसी कड़ी का एक हिस्सा कहा जा सकता है

यह अलग बात है कि दबाव में आने पर पुलिस इस घटना को खोल चुकी है लेकिन अनेकों चोरी की घटनाएं तहरीर लेने तक ही सीमित है सफदरगंज थाना क्षेत्र में बिहार के एआरएम का एक लाख से अधिक रूपयो से भरा बैग चोरी का मामला भी एक है जिसका पुलिस आज तक खुलासा नहीं कर पाई है यह तो कुछ ऐसे चर्चित मामले है जो अखबार के पन्नो की सुर्खिया बन चुके है तमाम ऐसे भी मामले है जो सुर्खियो मे आने के पहले ही पुलिस दफन कर चुकी है लेकिन उनका निस्तारण आज तक नही हो सका है । और तो और हद तो तब हो जाती है जब एक उप निरीक्षक लगभग एक साल से गैर जनपद स्थानान्तरण होने के बावजूद जमा है किन्तु उसे रिलीव नही किया जा रहा है ।

Leave A Reply

Your email address will not be published.