जैदपुर में पीएनबी बैक अव्यवस्था का बोलबाला, उपभोक्ता परेशान अधिकारियों के कानों में जू तक नही रेंगती : नजमुल हसन

0 39

बाराबंकी (सिटीजन वॉयस संवाददाता) : पंजाब नैशनल बैंक शाखा जैदपुर के हालात बद से बद तर हो गए हैं, इतने बड़े बैंक में सिर्फ दो ही कर्मचारी ही तैनात हैं। जिससे बैक आने वाले खाता धारको को परेशानी का सामना करना पड़ रहा हैं। इतना ही नही खाताधारकों की समस्या सुनने वाला कोई नहीं है। जिसके चलते बैंक में अफरा तफरी मंच जाती है। बैक के अंदर का माजरा ही कुछ और है यहाँ पर बिजली तार व वाई फाई का तार मकड़जाल फैला हुआ है जिसके चलते कोई बड़ी दुर्घटना होने की आशंका बनी रहती है। ज्ञात हो कि कस्बा में पंजाब नेशनल बैंक की सबसे बड़ी और पुरानी बैंक है,जिस में लग भग पचास हजार से ज्यादा खाता धारक हैं, लेकिन यहां स्टाप की कमी के कारण इस क़दर अफरा तफरी का माहौल रहता है कि लगता ही नहीं है यह बैंक है, कोई अन्दर खड़ा है तो कोई मैनेजर की कुर्सी पर बैठा है

तो फिर कोई केशियर से बाते कर रहा है और बेचारे मैनेजर साहब का हाल यह है कि उनकी कोई सुनता ही नहीं है, वह खुद आज कल केशियर बने हुए हैं, वैसे कभी कभी बैंक में पांच कर्मचारी दिखाई देते हैं लेकिन ऐसा बहुत कम रहता है,ज्यादा तर तो दो ही लोग पर यह बैंक चलती है, इस बैंक में दो लोग प्राइवेट तौर से रहते हैं जो निहायत बद तमीज़ी से खाता धारक से पेश आते हैं, बताते हैं कि इस में एक मैनेजर के बहुत मुंह लगा है जो बैंक में मौजूद सफ़ाई कर्मी का बेटा है, इतना ही नहीं यह सफाई कर्मी भी खाता धारक से अच्छे से बात नहीं करता है। 6 माह गुज़र गए हैं पासबुक प्रिंट करने वाली मशीन बंद पड़ी है। छात्र छात्राएं स्कॉलर शिप के लिए खाते खुलाए थे जो पासबुक के लिए चक्कर पर चक्कर लगाते लगाते थक गए हैं मगर उन्हें पासबुक नहीं मिल सकी है। केश लेने और जमा करने के लिए बैंक में सुबह से शाम तक एक लंबी कतार लगी रहती है

और लेंच भी मैनेजर साहब का इतना लंबा होता है कि एक घंटा गुज़र जाता है बाहर ही नहीं निकलते हैं, जैदपुर के बुनकरों ने बताया कि हम लोगों को सरकार की तरफ़ से प्रधान मंत्री मुद्रा लोन के लिए हथकरघा अधिकारयों ने फार्म जुलाई माह में भरवा गए थे और बैंक को सभी फार्म दे गए थे। उसी दौरान बैंक के सर्किल मैनेजर आकार सेंशन लेटर भी थमा कर यकीन दहाने करा गए थे कि बहुत जल्द आप लोगों का लोन का पैसा आप लोगों के खातों में होगा, लैकिन अभी तक बैंक के चक्कर लगाते लगाते चप्पल घिस गए है मगर लोन नहीं हो सका है, आज कल आज कल लगा कर दौड़ा रहे हैं, बैंक के हालात बहुत ही खराब हो चुके हैं, बैंक की कार्य शायली से खाता धारकों में ज़बरदस्त आक्रोश नज़र आ रहा है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.