प्रतियोगी परीक्षाओं के अभ्यर्थियों को दिये जायेंगे तैयारियों के टिप्स

0 96

लखनऊ :   आगामी 16 फरवरी यानी बसंत पंचमी के दिन से राजधानी सहित पूरे सूबे में मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना का शुभारम्भ होगा। बता दें कि संघ लोक सेवा व उप्र लोक सेवा आयोग सहित अन्य बोर्ड व संस्थाओं की परीक्षाओं में शामिल होने वाले अभ्यर्थियों के लिए सीएम योगी ने उक्त योजना की शुरूआत की है।

 

इसके अन्तर्गत आईएएस, आईपीएस, आईएफएस, पीसीएस और राज्य स्तरीय अधिकारियों को अभ्यर्थियों के लिये मेंटरशिप की भूमिका में होंगे, यानी उनके बीच अपनी तैयारियों के अनुभव को साझा करेंगे। यही नहीं प्रशासिनक अधिकारियों के इस कार्य को वार्षिक गोपनीय प्रविष्टि (एसीआर) में विशिष्ट प्रविष्टि के रूप में दर्ज किया जाएगा। इस योजना के तहत आगामी 10 फरवरी से पंजीकरण आरंभ होगा। मुख्यमंत्री के निर्देश पर मुख्य सचिव आरके तिवारी ने योजना के संचालन संबंधी आदेश जारी कर दिया है। बताया गया कि बसंत पंचमी से हर मंडल मुख्यालय पर एक निशुल्क प्रशिक्षण केंद्र मंडलायुक्त की अध्यक्षता में चलाया जाएगा।

 

वहीं संघ लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित परीक्षाएं, उप्र लोक सेवा आयोग, अधीनस्थ सेवा चयन आयोग, अन्य भर्ती बोर्ड व संस्थाओं द्वारा आयोजित परीक्षाओं की तैयारियां कराई जाएंगी। इसके साथ ही एनटीए द्वारा आयोजित जेईई (मेन्स) और नीट की परीक्षाएं, एनडीए, सीडीएस, अन्य सैन्य सेवाएं, अर्द्धसैनिक, केंद्रीय पुलिस बल की भर्ती संबंधी, बैंकिंग पीओ, एसएससी, बीएड, टीईटी और अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं के साथ संघ लोक सेवा आयोग, उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग की मुख्य परीक्षाएं व साक्षात्कार की तैयारियां कराई जाएंगी।

 

इस योजना के सफल क्रियान्वयन के मद्देनजर सूचना विभाग ई-लर्निंग कंटेंट प्लेटफार्म एक पोर्टल के रूप में बनाएगा। इस प्लेटफार्म पर विभिन्न अधिकारियों द्वारा परीक्षा की तैयारी संबंधी अपने अनुभव साझा करते हुए वीडियो अपलोड किए जाएंगे। विषय से संबंधित विशेषज्ञों को 1000 रुपये प्रति बैठक की दर से मानदेय दिया जाएगा। प्रत्येक सत्र में मंडल स्तरीय समिति की कम से कम पांच बैठकें आयोजित की जाएंगी। टेÑनी आईएएस, आईपीएस, आईएफएस, पीसीएस व अन्य राज्य स्तरीय सेवाओं के अधिकारियों द्वारा आवश्यक रूप से इन अभ्यर्थियों का मार्गदर्शन किया जाएगा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.