संजय सिंह ने योगी सरकार पर जमकर साधा निशाना, वर्चुअल रैली के माध्यम से 01 लाख 25 हजार से अधिक लोगों को किया संबोधित

0 30

2022 का चुनाव आपके बच्चों और परिवार के भविष्य को बदलेगा : संजय सिंह

यूपी वालों को केजरीवाल की गारण्टी &https://www.youtube.com/channel/UCcj8JxdUrXPVdAxW-blFheA8211; फ्री बिजली,फ्री शिक्षा,फ्री इलाज, हर बेरोज़गार को 5 हज़ार/माह, हर महिला को 1 हज़ार/माह

300 यूनिट फ्री ब‍िजली सह‍ित 24 घंटे आपूर्ति स‍िर्फ हम दे सकते हैं : संजय स‍िंह

लखनऊ : आप के प्रदेश प्रभारी संजय सिंह ने केजरीवाल गारंटी रैली को वर्चुअल संबोधि‍त किया जिसे 1 लाख 25 हजार से ज्यादा लोगों को संबोधित किया । आम आदमी पार्टी टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल कर वर्चुअल रैली के माध्यम से जनता तक दिल्ली के केजरीवाल मॉडल को पहुंचाने में सफल रही । फेसबुक, यूट्यूब, ट्यूटर और इंस्टाग्राम के माध्यम से जुड़े लाखों लोगों तक संजय सिंह ने केजरीवाल गारंटी को पहुंचाने का काम किया । संजय सिंह ने वर्चुअल रैली के माध्यम से योगी सरकार पर जमकर निशाना साधा उन्होंने कहा 75 साल में तमाम सरकारों ने यूपी को स‍िर्फ छलने का काम क‍िया। वो धनकुबेर बनते गए और हम पीछे होते गए। फैसला आपके हाथ में है क‍ि हमको इसी सड़ी-गली व्‍यवस्‍था में रहना है या फ‍िर उत्‍तर प्रदेश को उत्‍तम प्रदेश बनाना है। 2022 का चुनाव आपके बच्चों और परिवार के भविष्य को बदलेगा । यूपी के लोगों के लिए केजरीवाल की गारण्टी फ्री बिजली,फ्री शिक्षा,फ्री इलाज, हर बेरोज़गार को 5 हज़ार/माह, हर महिला को 1 हज़ार/माह है इस तरह से आम आदमी पार्टी के प्रदेश प्रभारी राज्‍यसभा सदस्‍य संजय स‍िंह ने शन‍िवार को प्रदेश कार्यालय से वाराणसी की केजरीवाल गारंटी रैली को वर्चुअली संबोध‍ित करते हुए आम जन से प्रदेश में आम आदमी पार्टी की सरकार बनाने का आह्वान क‍िया। इस मौके पर उन्‍होंने सत्‍ताधारी दल भाजपा सहित अन्‍य दलों पर करारा हमला बोला
संजय स‍िंंह ने क‍िसानों की समस्‍याओं को उठाकर भाजपा को घेरना शुरू क‍िया। एक रुपये-दो रुपये कर्जमाफी की बात उठाकर इसे क‍िसानों का अपमान बताया। तीन काले कानूनों का ज‍िक्र करके भाजपा की क‍िसान व‍िरोधी सोच को बेनकाब क‍िया। संजय स‍िंह ने खाद-बीज से लेकर अपनी फसल बेचने के ल‍िए परेशान क‍िसानों पर लाठ‍िया बरसाने के सरकारी रवैये की याद द‍िलाई। इसके बाद नौजवानों का ज‍िक्र छेड़ा। वह तस्‍वीर याद द‍िलाई जब अपनी मांगों को लेकर सुहाग‍िन श‍िक्षाम‍ित्र बहनों को स‍िर मुंडवाकर प्रदर्शन करना पड़ा था। कहा क‍ि यहां नौकरी मांगने पर युवाओं पर मुकदमे दर्ज होते हैैं और लाठ‍ियां बरसाई जाती हैं। टीईटी, दारोगा भर्ती, श‍िक्षक भर्ती आद‍ि के पेपर लीक प्रकरण का हवाला देते हुए उन्‍होंने योगी सरकार को पेपरलीक सरकार बताया। कहा-यूपी में नौकर‍ियां तो हैं, लेक‍िन सरकार की नीयत रोजगार देने की नहीं है। कानून व्‍यवस्‍था का मामला उठाकर उन्‍होंने मनीष गुप्‍ता, इंद्रकांत त्र‍िपाठी, अरुण गुप्‍ता, संजीत यादव के साथ हुई घटनाएं ग‍िनाईं। कहा- यूपी पुल‍िस उत्‍पीड़न का गढ़ बन गया है। पुल‍िस द्वारा हत्‍याओं के मामले में यूपी नंबर वन है। भाजपा के भ्रष्‍टाचार का ज‍िक्र करते हुए याद द‍िलाया क‍ि क‍िस तरह से कोरोना की दूसरी लहर के दौरान श्‍मशान की लकड़‍ियां खरीदने में दलाली खाई गई। आक्‍सीमीटर, थर्मोमीटर, ऑक्‍सीजन स‍िल‍िंंडर से लेकर वेंटिलेटर खरीद में भारी भ्रष्‍टाचार हुआ। कहा- योगी राज में स्‍कूलों में बच्‍चों को म‍िड-डे-मील में नमक रोटी दी जाती है। अस्‍पताल में डाक्‍टर की कुर्सियों पर कुत्‍ते बैठे म‍िलते हैं
संजय स‍िंह ने कहा क‍ि भाजपाइयों ने प्रभु श्रीराम को भी नहीं छोड़ा। दो करोड़ की जमीन पांच म‍िनट में ही साढ़े अट्ठारह करोड़ में खरीदे जाने का मामला याद द‍िलाते हुए संजय स‍िंंह ने कहा क‍ि ये चंदा चोरों और भ्रष्‍टाचार‍ियों की सरकार है। ये न राम के हैं और न काम के। सवाल उठाया क‍ि क्‍या हम इसी सड़ी गली व्‍यवस्‍था में रहना चाहते हैं या बदलाव चाहते हैं। यूपी में जात‍ि-धर्म से आगे मुद्दों एवं व‍िकास की राजनीति के नए युग की शुरुआत करने के ल‍िए आम आदमी पार्टी की सरकार बनाने का आह्वान क‍िया
ग‍िनाईं केजरीवाल की गारंटी : संजय स‍िंंह ने केजरीवाल की गारंटी ग‍िनाते हुए हर साल 10 लाख नौकर‍ियां देने की बात कही। प्रत‍िमाह पांच हजार रुपये का बेरोजगारी भत्‍ता देने की जानकारी दी और सरकार बनने पर 300 यून‍िट फ्री ब‍िजली, क‍िसानों के ल‍िए फ्री ब‍िजली और 24 घंटे ब‍िजली सप्‍लाई के साथ प्रदेश की बहनों के खाते में हर माह 1000 रुपये भेजने का वादा क‍िया। उन्‍होंने कहा क‍ि आज कई दल फ्री ब‍िजली की बात कह रहे हैं, लेक‍िन यह काम स‍िर्फ हम कर सकते हैं। केजरीवाल के इनकम टैक्‍स कम‍िश्‍नर रहने की बात का ज‍िक्र करते हुए बताया क‍ि क‍िस तरह से केजरीवाल द‍िल्‍ली में फ्री ब‍िजली, पानी, इलाज और माताओं-बहनों की फ्री बस यात्रा के बाद भी फायदे का बजट देते हैं। उन्‍होंने यूपी में भी ऐसे बदलाव लाने के ल‍िए आप की सरकार बनवाने की अपील की। हंस-हंसि‍नी और उल्‍लू की कहानी सुनाकर कहा क‍ि जब तक हम उल्‍लू के पक्ष में फैसला देने वाले पंच चुनते रहेंगे तब तक यहां खुशहाली नहीं आ सकती। इससे पहले प्रदेश अध्‍यक्ष सभाजीत स‍िंह और प्रदेश के मुख्‍य प्रवक्‍ता वैभव माहेश्‍वरी ने भी रैली को संबोध‍ित क‍िया। वर्चुअल रैली से वाराणसी के अभिनव राय, पल्‍लवी वर्मा, कैलाश पटेल, अमर स‍िंह, वाचस्‍पत‍ि श्रीवास्‍तव, सतीश स‍िंह आद‍ि भी जुड़े रहे
इस तरह देंगे फ्री ब‍िजली &https://www.youtube.com/channel/UCcj8JxdUrXPVdAxW-blFheA8211; संजय स‍िंह ने बताया क‍ि 300 यूनिट बिजली फ्री करने में 19 हजार करोड़ रुपये एक साल में खर्च होंगे। यूपी का बजट 580000 करोड़ रुपये है, ज‍िसमें से इसका प्रबंध करना कठ‍िन नहीं। यह रकम उस राशि से कम ही है, ज‍ितना माल्‍या और लल‍ित मोदी लेकर भाग गए। हम सरकार बनने पर हर साल 10 लाख रोजगार देने के साथ बेरोजगारों को पांच हजार रुपये प्रतिमाह बेरोजगारी भत्‍ता देने की घोषणा कर चुके हैं। 34 लाख रजिस्टर्ड बेरोजगार उत्तर प्रदेश के एंप्लॉयमेंट एक्सचेंज में दर्ज हैं। अगर उन सभी को हम ₹5000 प्रतिमाह देते हैं जब तक कि उनकी नौकरी नहीं दे पाते तब तक, तो 1700 करोड़ों रुपए प्रतिमाह और 20400 करोड रुपए साल का खर्च आएगा। 580000 करोड रुपए के बजट से 20400 करोड रुपए नौजवानों के लिए निकालना, उनको बेरोजगारी भत्ता देना, यह मेरे ख्याल से बिल्कुल मुश्किल काम नहीं है
इसी प्रकार से 1000000 सरकारी नौकरियां हर साल और ₹5000 बेरोजगारी भत्ता हर महीने यह सपना आम आदमी पार्टी पूरा करके दिखाएगी। जितना पैसा अकेले मेहुल चौकसी और नीरव मोदी लेकर भाग गए उतने 20000 करोड रुपए में उत्तर प्रदेश के सारे बेरोजगार नौजवानों को हर महीने ₹5000 बेरोजगारी भत्ता दिया जा सकता है। पुराने बिजली के बिल का बकाया माफ किया जा सकता है। अगर हम बकाया ब‍िजली ब‍िल को माफ करते हैं तो, 580000 करोड रुपए के बजट से 19 हजार करोड़ रुपये बिजली माफी के लिए निकालना कोई मुश्किल का काम नहीं है। यह काम सिर्फ और सिर्फ आम आदमी पार्टी ही पूरा कर सकती है। कहा-अगर होली से पहले आप की सरकार बनी तो सभी लोग बकाया ब‍िजली ब‍िल लेकर आएं और उसे फाड़कर उसकी होल‍िका जलाएं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.