खाली प्लाटों को चिन्हित करने के फरमान की उड़ी धज्जियां!

इंदिरानगर के शहीद भगत सिंह वार्ड एरिया में बड़े प्लॉट पर बिखरा है कूड़ा-करकट

0 25

 

ठीक सामने कोचिंग करते हैं स्कूली बच्चे, चारों तरफ है आवासीय कॉलोनियां
शहर को साफ-सुथरा करने में लगे हैं नगर आयुक्त, मगर लापरवाह दिखे जोनल अधिकारी

लखनऊ । राजधानी को स्मार्ट सिटी बनाने में पिछले चार महीने से जुटे लखनऊ के नगर आयुक्त इंद्रजीत सिंह दिन-रात मेहनत करके शहर को साफ-सुथरा बनाने में लगे हैं, लेकिन वहीं उनके सपनों को सकार करने में उनके ही जोनल अधिकारी पलीता लगा रहे हैं। गौरतलब है,कि विगत 25 नवम्बर को नगर आयुक्त द्वारा स्वच्छता व संचारी रोगों की रोकथाम को ध्यान में रखते हुए नगर में स्थित खाली व खुले भूखण्डों में कूड़ा,मलबा और गंदे पानी क ो जमा न होने देने के लिए विशेष अभियान के रूप में कार्रवाई शुरू की थी। जिसमें नगर आयुक्त ने नगर स्वास्थ्य अधिकारी, मुख्य कर निर्धारण अधिकारी, समस्त जोनल और सेनेट्री अधिकारियों को निर्देशित किया था कि नगर निगम क्षेत्र के सभी जोनों के तहत ऐसे खाली भूखण्ड जिनका कर निर्धारण अभी तक नहीं किया गया। उनका सर्वे कराकर अपने अधीनस्थ कार्यरत कर अधीक्षक व राजस्व निरीक्षक के माध्यम से भवन स्वामी का नाम,मोबाइल नम्बर समेत उसकी सूची बना लें। वहीं कहा था कि अगर खाली भूखण्ड के स्वामित्व की जानकारी न हो तो आस-पास के भवन स्वामियों से भूखण्ड स्वामी की जानकारी कर लें। इसके अलावा ऐसे भूखण्ड जो लखनऊ विकास प्राधिकरण एवं उत्तर प्रदेश आवास एवं विकास परिषद द्वारा आवंटित किये गये हैं, उनकी सूची सम्बन्धित विभाग से प्राप्त करें। इसी के साथ नगर आयुक्त ने सभी जोनल व सेनेट्री अधिकारियों को निर्देशित किया गया था कि सम्बन्धित भूखण्ड स्वामियों को इस बारे में नोटिस भी दिया जाये कि वह अपने भूखण्ड की हर हालत में बाउण्ड्रीवाल करा लें तथा भूखण्ड में कूड़ा,मलबा और गंदा पानी जमा न होने दें। कहा था कि अगर नगर निगम द्वारा अपने स्तर से भूखण्ड में एकत्र कूड़े,मलबे व गंदा पानी एकत्र होने पर निस्तारण कार्रवाई की जाती है तो उस पर व्यय होने वाली धनराशि के साथ नियम के मुताबिक राष्ट्रीय हरित न्यायाधिकरण (एनजीटी)द्वारा निर्धारित अर्थदण्ड न्यूनतम 5000 व अधिकतम 50,000 आरोपित करते हुए सम्बन्धित भूखण्ड स्वामी से उसकी वसूली की जायेगी।

अंबेडकर चौराहे से निकट खाली प्लॉट की स्थिति नारकीय&https://www.youtube.com/channel/UCcj8JxdUrXPVdAxW-blFheA8230;

जोन सात की जोनल अधिकारी को मिलाया फोन तो हर बार की तरह नहीं हुआ रिसीव
जब इसका जमीन जायजा लिया तो नगर निगम के जोनल अधिकारी की लापरवाही और अपने उच्च अधिकारी का आदेश नहीं मनाने का खुलासा हुआ। बता दें कि नगर निगम जोन-7 के तहत आने वाले शहीद भगत सिंह वार्ड में तकरोही क्षेत्र के अंबेडकर चौराहा के करीब एक खाली प्लाट में महीनों से कूड़ा बड़ी मात्रा ढेर है,तथा आस-पास छुट्टा जानवर भी घूम रहे और यहां बने छोटे नाले का ढक्कन भी गायब है,जिससे राहगीरों का नाले में गिरने का खतरा लगातार बना हुआ है। गौर हो कि वहीं आस-पास शान्तिनगर कालोनी व जेपीनगर कालोनी जैसे रिहायशी क्षेत्र भी हैं तथा यही करीब कई कोचिंग भी संचालित होती है जहां सैकड़ो बच्चे पढ़ने आते हैं। वहीं जब इस समस्या के बारे में नगर निगम की संगाीता कुमारी जोनल अधिकारी जोन-7 से बात करने का प्रयास किया गया तो हमेशा की तरह उनका फोन नहीं उठा। इसी तरह स्थानीय पार्षद सन्तराम से बात की गई तो उनका फोन तो उठा लेकिन ये कहकर बात खत्म कर दी की मैं अभी एक मीटिंग में हूं बाद में बात करता हूँ। अब इन दोनों जिम्मेदारों के इस रवैये से बकायदा समझा जा सकता है कि इनके लिए अपने उच्च अधिकारी का फरमान कितना मायने रखता हैं। एक तरफ तो नगर आयुक्त मीडिया से लगातार संवाद कर रहे तथा नगर निगम के सभी जोनल अधिकारियों को स्वच्छ भारत मिशन में तेजी लाने और स्थानीय जनता की समस्याएं तुरंत दूर करने के लिए दिन-रात बैंठके ं कर रहे है,लेकिन वहीं दूसरी तरफ इनके ही अधीनस्थ अधिकारी उनकी बात नहीं सुन रहे हैं।इस बारे में आपके द्वारा जानकारी मिली है कि इंदिरानगर तकरोही क्षेत्र के शहीद भगत सिंह वार्ड के खाली प्लॉट में कूड़ा पड़ा है, वहां के जोनल अधिकारी को कहते हैं कि इसका त्वरित निस्तारण कराया जाये।
&https://www.youtube.com/channel/UCcj8JxdUrXPVdAxW-blFheA8211; इंद्रजीत सिंह, नगर आयुक्त लखनऊt

Leave A Reply

Your email address will not be published.