उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने क्लीन ऑन व्हील जागरुकता अभियान को दिखाई हरी झंडी

0 118

लखनऊ : म्यूनिख मुख्यालय स्थित रिवर्स लॉजिस्टिक्स ग्रुप (आर एल जी) की सहायक कंपनी  आरएलजी इंडिया, जो व्यापक रिवर्स लॉजिस्टिक्स समाधानों की अग्रणी वैश्विक सेवा प्रदाता कंपनी है, ने वित्त वर्ष 2021-22 के लिए कंपनी की अवेयरनेस और कलेक्शन स्ट्रेटेजी की घोषणा की है। यह क्लीन टू ग्रीनटीएम ऑन व्हील्स प्रोग्राम कंपनी के फ्लैगशिप कैंपेन क्लीन टू ग्रीनटीएम (सी2जी) के अंतर्गत है। यह प्रतिष्ठित जागरूकता कार्यक्रम न केवल दृष्टिकोण में, बल्कि कवरेज में भी अद्वितीय है ।

इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय (मेटी) के तत्वावधान में और डिजिटल इंडिया मूवमेंट के अनुरूप, क्लीन टू ग्रीनटीएम ऑन व्हील्स में नौ मिनी वाणिज्यिक वाहन (छोटा हाथी) दिखाई देंगे जो पूरे भारत में 100,000 किमी से अधिक के विस्तार को कवर करेंगे; अलग-अलग बीट प्लान के अनुरूप पूरे देश के 110 सिटी और 300 टाउन को समग्र रूप से कवर किया जायेगा कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य स्कूल के छात्रों, निगमों, थोक उपभोक्ताओं, खुदरा विक्रेताओं, रेजिडेंट वेलफेयर एसोसिएशंस (आरडब्ल्यूए), डीलरों, अनौपचारिक क्षेत्र और हेल्थकेयर प्रदाताओं सहित विभिन्न दर्शकों तक पहुंचना है, और उन्हें ई कचरे से सम्बंधित क्या करना चाहिए और क्या नहीं, इस बारे में जागरुक करना है। क्लीन टू ग्रीनटीएम ऑन व्हील्स प्रोग्राम एन्ड-यूज़र्स के मध्य ऑर्गेनिक ई-वेस्ट कलेक्शन के उद्देश्य के उद्देश्य से जागरूकता फैलाएगा । इसका लक्ष्य 4000+ संग्रह कार्यक्रम गतिविधियों के अलावा कुल 326 स्कूलों, 188 आरडब्ल्यूए, 134 कार्यालय समूहों / थोक उपभोक्ताओं, 176 खुदरा विक्रेताओं, 156 अनौपचारिक क्षेत्रों, और 4 स्वास्थ्य सेवा शिविरों को जमीनी कार्यशालाओं के माध्यम से कवर करना है। कलेक्शन ड्राइव  5 अगस्त, 2021 को उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, क्षेत्रीय कार्यालय, पिकअप भवन बी-ब्लॉक, चौथी मंजिल, विभूति खंड, गोमती नगर, लखनऊ-226010 से हरी झंडी दिखाकर रवाना किया गया  ।

मुख्य अतिथि, डॉ. राम करन, क्षेत्रीय अधिकारी, उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड,  ने आरएलजी इंडिया को इस पहल के लिए बधाई दी और कार्यक्रम पर अपने विचार साझा करते हुए कहा, यद्यपि तकनीकी प्रगति के कारण देश में विकास और विकास के अवसरों के नए और अनूठे दरवाजे खुल रहे हैं, तथापि अधिक निर्माण के कारण प्रत्येक व्यक्ति को इलेक्ट्रॉनिक्स के निपटान के लिए उपयुक्त तरीकों के प्रति सचेत होने की तत्काल आवश्यकता है।  राधिका कालिया, एमडी, आरएलजी इंडिया ने उल्लेख किया, एक कंपनी के रूप में, कोविड-19 महामारी द्वारा निर्मित विभिन्न बाधाओं के बावजूद हम देश में औपचारिक ई-कचरा प्रबंधन के लिए बुनियादी ढाँचे की स्थापना के अपने लक्ष्यों की दिशा में लगातार काम कर रहे हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.