Aligarh Breaking News

0 145

आज रात आठ बजे से बुधवार सुबह सात बजे तक कर्फ्यू

अलीगढ़ : कोरोना संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिए आज रात से मंगलवार सुबह सात बजे तक कोरोना कर्फ्यू रहेगा। वहीं, मंगलवार को संपूर्ण जिले में साप्ताहिक बंदी रहेगी। इसके चलते आज रात आठ बजे से लेकर बुधवार सुबह सात बजे जिलेवासी कोरोना कर्फ्यू की पाबंदियों में रहेंगे। इस दौरान मंगलवार तक राज्य परिवहन निगम की रोडवेज बसें भी नहीं चलेगी। सिर्फ विशेष परिस्थितियों में बसों को चलाया जाएगा, उसमें भी निर्धारित क्षमता के सापेक्ष 50 प्रतिशत सवारियों को बैठाने की अनुमति है। रेलवे स्टेशन आने वाले यात्रियों को अगर रोडवेज बसों से कहीं जाना होगा तो रेलवे प्रशासन के अनुरोध पर रोडवेज के अधिकारी बसों को संचालित करेंगे। दूध, फल, सब्जी की दुकानें सुबह 7 से 11 और शाम 4:30 से 7:30 बजे के बीच खुलेंगी। वहीं, सभी बार, मॉडल शॉप, बीयर, देशी-विदेशी शराब दुकानों को बंद रखा जाएगा। शादी समारोह पूर्व की गाइड लाइन के अनुसार खुले स्थान पर 100 मेहमानों और बंद स्थान पर 50 मेहमानों के साथ हो सकेंगे।

कोरोना संक्रमण पर प्रभावी नियंत्रण के लिए कोरोना कर्फ्यू लगाया गया है। इस अवधि में सिर्फ पंचायत चुनावों से जुड़ी पोलिंग पार्टियों, स्वास्थ्य सेवाओं, सफाई आदि से जुड़े हुए कर्मियों के अतिरिक्त कोई अन्य आवागमन की अनुमति नहीं होगी। अग्निशमन विभाग द्वारा नगर पालिका परिषद, नगर पंचायत/ग्राम पंचायत स्तर पर एवं चीनी मिलों के द्वारा स्वच्छता, सफाई का विशेष अभियान चलाकर सैनिटाइजेशन व फॉगिंग का काम किया जाएगा। प्रत्येक व्यक्ति को मास्क लगाना अनिवार्य होगा। उल्लंघन करने पर पहली बार में एक हजार रुपये और दूसरी बार दस हजार रुपया का जुर्माना किया जाएगा।

पुलिस द्वारा चेकिंग अभियान चलाया जाएगा। फार्मा, अन्य उद्योगों जैसे दवा, सैनिटाइजर बनाने वाले उद्योगों को चलाने की भी अनुमति होगी। पूर्व निर्धारित परीक्षा कोरोना प्रोटोकॉल के साथ होंगी। परीक्षार्थियों को आईडी कार्ड दिखाने पर आवागमन की छूट रहेगी पास के तौर पर मान्य होगा। वहीं, अंतिम संस्कार में अधिकतम 20 व्यक्तियों को शामिल होने की अनुमति होगीं। प्रभारी जिलाधिकारी/सीडीओ अंकित खंडेलवाल ने बताया कि शासन की ओर से जारी सभी गाइडलाइन का पालन कराया जाएगा।

मतदान केंद्र पर सुबह हंगामा मतदान बाधित

अलीगढ़ : अकराबाद ब्लॉक के गांव आलमपुर में फर्जी मतदान के आरोप में मतदान केंद्र पर सुबह करीब सवा 11 बजे से हंगामा शुरू हो गया। ढाई घंटे से अधिक समय तक मतदान बाधित रहा। इस दौरान ग्रामीणों ने मतपेटी लूटकर भागने की कोशिश की लेकिन पुलिस कर्मियों ने पीछा कर मतपेटिका छीन ली। नए सिरे से मतदान कराने की मांग कर रहे ग्रामीणों ने इसी बीच पुलिस पर पथराव किया। पुलिस ने भी लाठीचार्ज कर उपद्रवियों को खदेड़ा।

सेक्टर मजिस्ट्रेट, सीओ समेत पुलिस के सभी वाहनों के शीशे तोड़ दिए गए। सीओ के चालक अशोक कुमार समेत कुछ सिपाहियों के पत्थर लगने से चोटें आई हैं। एसएसपी कलानिधि नैथानी भी गांव पहुंचे। मामले में 20 लोगों को पुलिस ने हिरासत में लिया है। करीब डेढ़ सौ अज्ञात पर रिपोर्ट दर्ज हुई है। उनकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस की लगातार दबिश जारी थी। अधिकारियों के लगातार समझाने के बाद दोपहर करीब डेढ़ बजे दोबारा से मतदान शुरू हुआ। शाम 6 बजे तक मतदान हुआ। आलमपुर में 750 मतदाता हैं। प्रधान पद के नौ और बीडीसी के चार प्रत्याशियों के लिए सुबह से मतदान शुरू हो गया था। करीब डेढ़ सौ से अधिक वोट पड़ चुके थे। इसी बीच फर्जी मतदान के आरोप-प्रत्यारोप शुरू हो गए। आरोप लगा कि प्रधान पद के प्रत्याशी सोम प्रकाश के समर्थक देवेंद्र, रिंकू और अजीत बूथ के अंदर चले गए। उन्होंने फर्जी वोट डलवाए हैं। इसी पर ग्रामीणों की पुलिस से नोकझोंक शुरू हो गई।

वह मांग करने लगे कि अब तक पड़े वोट निरस्त कर नए सिरे से मतदान कराया जाए। सूचना पर एसडीएम रंजीत सिंह मौके पर पहुंच गए। समझाया कि जितने वोट पड़ चुके हैं, उस मतपेटिका को सील कराकर दूसरी मतपेटिका में मतदान कराया जाएगा लेकिन ग्रामीण पहले पड़ चुके मतों को निरस्त कर नए सिरे से मतदान पर अड़ गए। इसके बाद हंगामा बढ़ता चला गया। बीच में कुछ लोग दीवार फांदकर बूथ के अंदर घुसे और दो मतपेटिका लेकर खेतों की ओर भागे। पीछा कर पुलिस ने एक मतपेटिका छीन ली। दूसरी आधे घंटे बाद एक खेत में पड़ी मिली। इसके बाद ग्रामीणों ने पथराव शुरू कर दिया। प्रशासन व पुलिस की गाड़ियोें के पथराव में शीशे टूट गए। कुछ मीडिया कर्मियों के भी चोटें आईं। पुलिस ने उपद्रव कर रहे ग्रामीणों को लाठीचार्ज कर खदेड़ा। दोपहर करीब डेढ़ बजे एसडीएम ने दोबारा माइक से एनाउंस किया कि जिसे वोट डालना है, वह वोट डाल सकता है। किसी को भी वोट डालने से रोका नहीं जाएगा। इसके बाद ग्रामीणों ने मतदान शुरू किया। अकराबाद के आलमपुर में फर्जी मतदान के आरोपों के चलते विवाद हुआ था। इसमें पुलिस की गाड़ियों पर ग्रामीणों ने हमला किया। मतपेटिकाओं को छीनने की कोशिश हुई। मौके से 20 लोग हिरासत में लिए हैं। सभी पर मुकदमा दर्ज किया गया है।

भर्ती से मना करने पर वार्ड ब्वॉय से हुई नोकझोंक

अलीगढ़ :  पं. दीनदयाल उपाध्याय संयुक्त चिकित्सालय (एल-2) में मरीज को भर्ती कराने के लिए महिला की वार्ड ब्वॉय से नोकझोंक हो गई। स्वास्थ्यकर्मी बीमार व्यक्ति को अस्पताल में भर्ती करने से मना कर रहे थे। मुख्यमंत्री भले ही कह रहे हैं कि संचालक किसी भी मरीज को अस्पताल में भर्ती करने से मना नहीं करेंगे। लेकिन गंभीर मरीजों के साथ अस्पताल पहुंच रहे लोगों को निराशा हाथ लग रही है। भर्ती नहीं होने से रोज मरीजों की जान जा रही है। दीनदयाल अस्पताल से भी मरीजों को टरकाया जा रहा है। बृहस्पतिवार को महिला एक व्यक्ति को लेकर चिकित्सालय पहुंची। व्यक्ति की हालत बहुत खराब थी। स्वास्थ्यकर्मियों ने मरीज को भर्ती करने से मना कर दिया। महिला का कहना था कि कागज पर लिखकर दो कि भर्ती नहीं कर सकते। आक्रोशित महिला की वार्ड ब्वॉय से खूब नोकझोंक हुई। प्रवेश द्वार पर काफी लोग जमा हो गए। बीमार व्यक्ति को भर्ती कर मामला को शांत कराया गया।

अस्पतालों में 19 लोगों की मौत 221 लोग संक्रमित

अलीगढ़ : कोरोना वायरस का कहर जारी है। विभिन्न अस्पतालों में 19 लोगों की मौत की खबर है। जबकि 221 लोग संक्रमित हुए हैं। राहत की बात यह है कि 207 लोग स्वस्थ होकर घर लौटे हैं। विष्णुपुरी निवासी युवा उद्यमी की मौत उनके घर पर हो गई। ऑक्सीजन लेवल कम होने पर घर पर उपचार चल रहा था। बृज विहार के 60 वर्षीय व्यक्ति, बिहारीपुरम के व्यक्ति, क्वार्सी के 47 वर्षीय व्यक्ति, स्वर्ण जयंती नगर निवासी व्यक्ति, मेलरोज बाईपास निवासी 75 वर्षीय एवं 48 वर्षीय व्यक्ति की मौत पं. दीनदयाल उपाध्याय अस्पताल में हुई है।

पंचनगरी निवासी 48 वर्षीय व्यक्ति, विष्णुपुरी निवासी 45 वर्षीय व्यक्ति एवं मसूदाबाद निवासी 45 महिला की मृत्यु मिथराज हॉस्पिटल में हुई। अशोकनगर के 41 वर्षीय व्यक्ति की मृत्यु वरुण हॉस्पिटल में, रघुवीरपुरी की 78 वर्षीय महिला एवं जवाहरनगर के 95 वर्षीय बुजुर्ग की मृत्यु जिला अस्पताल में हुई। नई बस्ती में दो लोगों की मौत घर पर हुई। इसके अतिरिक्त, दुर्गाबाड़ी, मधुबन विहार, कोठी लंकराम निवासी व्यक्ति की मौत अस्पताल पहुंचने के क्रम में हुई है। शहर के एक व्यवसायी की मृत्यु उपचार के दौरान मेरठ में हुई है। जेएन मेडिकल कॉलेज, पं. दीनदयाल उपाध्याय संयुक्त चिकित्सालय, प्राइवेट लैब एवं एंटीजन टेस्ट में 221 लोग संक्रमित पाए गए हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.