सीएम योगी ने संचारी रोग नियंत्रण व दस्तक अभियान का किया शुभारंभ

0

कहा, हमें हर नागरिक को कोरोना व संचारी रोगों को बचाना है

लखनऊ : हम प्रदेश के हर नागरिक और बच्चे को कोविड-19 से भी बचाएंगे और संचारी रोगों से भी सुरक्षित रखेंगे। इस संकल्प के साथ बुधवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ में विशेष संचारी रोग नियंत्रण अभियान व दस्तक अभियान का हरी झंडी दिखाकर शुभारंभ किया। इस मौके पर कानून मंत्री बृजेश पाठक, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह, मुख्य सचिव आरके तिवारी, अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी सहित तमाम अधिकारी मौजूद रहे। यह अभियान 31 जुलाई तक पूरे प्रदेश में चलेगा।

अभियान का शुभारंभ करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा, वर्तमान समय में हम कोविड-19 से लड़ रहे हैं। अब बरसात के मौसम में संचारी रोगों का भी प्रकोप बढ़ेगा। इसलिए हमें डेंगू, चिकनगुनिया, मलेरिया, फाइलेरिया, इंसेफेलाइसिट, डायरिया जैसे संचारी रोगों से भी सावधान रहना होगा। थोड़ी सी भी असावधानी बरतने पर यह बीमारियां जानलेवा साबित हो जाती हैं। इनसे बचने के लिए बचाव और व्यापक जनजागरुकता ही एक मात्र उपाय है। आज से शुरू हो रहे अभियान का यही उद्देश्य है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि छोटे-छोटे अभियानों से भी बड़ी से बड़ी जनहानि को रोका जा सकता है। पिछले तीन वर्षों में हमने जेई और इंसेफेलाटिस पर प्रभावी नियंत्रण कर इसे साबित किया है। सीएम योगी ने कहा, मात्र एक बीमारी ने पिछले 40 वर्षों में पूर्वी उत्तर प्रदेश में हजारों बच्चों को निगल लिया था। लेकिन हमारी सरकार ने ऐसे ही अभियाानों से उस बीमारी से मौत का आंकड़ा 90 प्रतिशत तक कम कर दिया है।

इंसेफेलाइटिस पर पाई विजय

योगी ने कहा, वर्ष 2016 में प्रदेश में सिर्फ इंसेफेलाइटिस से 600 से अधिक मौतें हुई थीं। 2017 में भी 600 से अधिक मौतें हुईं। लेकिन 2018, 2019 में यह आंकड़े नीचे आते गए। 2019 में इंसेफेलाइटिस से मरने वालों की संख्या घटकर केवल 126 रह गयी। हमारी सरकार ने पूरे प्रदेश में इंसेफेलाइटिस को नियंत्रित करने में सफलता हासिल की है।

विभिन्न विभागों के समन्वय से चलेगा अभियान

मुख्यमंत्री ने बताया कि कोरेाना और संचारी रोगों पर प्रभावी नियंत्रण के लिए इस बार इस अभियान को विभिन्न सरकारी विभागों के समन्वय से आगे बढ़ाया जाएगा। इसमें चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग, नगर विकास विभाग, पंचायती राज विभाग, ग्राम विकास विभाग, पशुपालन विभाग, महिला एवं बाल विकास विभाग, शिक्षा विभाग, चिकित्सा शिक्षा विभाग, दिव्यांग जन कल्याण विभाग, समाज कल्याण विभाग, कृषि विभाग, सूचना विभाग एक ईकाई के रूप में कार्य करेंगे। सभी विभागों में आपसी ताल-मेल के लिए स्वास्थ्य विभाग को नोडल विभाग बनाया गया है

Leave A Reply

Your email address will not be published.