डाबर का शुद्ध गाय घी के साथ घी श्रेणी में प्रवेश

0 81

लखनऊ : दुनिया की सबसे बड़ी आयुर्वेदिक उत्पाद निर्माता डाबर इंडिया लिमिटेड ने आज भारत के पहले ट्रेसेबल घी ‘डाबर सौ प्रतिशत शुद्ध गाय घी’ के लॉन्च के साथ घी श्रेणी में अपने प्रवेश की घोषणा की। राजस्थान में पैदा स्वदेशी गायों से मंगाए गए दूध से तैयार, डाबर सौ प्रतिशत शुद्ध गाय घी विशेष रूप से अग्रणी ई-कॉमर्स प्लेटफार्मों में से एक ग्रोफर्स पर उसके’ग्रैंड ऑरेंज बैग डेज’ कार्यक्रम के दौरान लॉन्च किया जाएगा, जो 16 जनवरी 2021 को है

इस ऑनलाइन एक्सक्लूसिव लॉन्च की घोषणा करते हुए डाबर इंडिया लिमिटेड के डीजीएम मार्केटिंग (इनोवेशन) श्री के गणपति सुब्रमण्यम ने कहा, डाबर हर घर के स्वास्थ्य और कल्याण के लिए समर्पित रहने के अपने सूत्र को पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। डाबर शत प्रतिशत शुद्ध गाय घी के लॉन्च के साथ हम इस मिशन पर आगे बढ़ रहे हैं। यह एंटीऑक्सीडेंट गुणों के साथ एक प्राकृतिक प्रतिरक्षा बूस्टर है, जो पाचन में सुधार करता है और ऊर्जा का एक अच्छा स्रोत है। इस घी को बनाने की स्वच्छ प्रक्रिया, हर चम्मच में पोषण सुनिश्चित करती है और ईसकी दानादार बनावट के साथ-साथ यह एक महान स्वाद और सुगंध से भरपूर है

डाबर इंडिया लिमिटेड बिजनेस हेड ई-कॉमर्स श्री समर्थ खन्ना ने कहा की अपने उपभोक्ताओ के लिए हमारे द्वारा तैयार किए जाने वाले शुद्ध और स्वस्थ उत्पादो की सूची में डाबर शत प्रतिशत शुद्ध गाय घी एक और नवीनतम उत्पाद है। ईस उत्पाद की संकल्पना से लेकर उसके अंतिम निष्पादन तक की प्रक्रिया में ग्रोफर्स की टीम के साथ मिलकर काम करना बहुत ही आनंददायक अनुभव था। ग्रोफर्स जीओबीडी इवेंट पर यह उत्पाद लॉन्च करने के लिए हम बेहद रोमांचित हैं। डाबर शत प्रतिशत शुद्ध गाय घी 599 रुपये की एमआरपी पर 1 एलटीआर पैक में उपलब्ध होगा

ग्रोफर्स में वीपी-श्रेणी के अनीश श्रीवास्तव ने ईस अवसर पर कहा,”हम अपने प्रमुख अर्ध-वार्षिक ग्रैंड ऑरेंज बैग डेज सेल के दौरान ‘डाबर शत प्रतिशत शुद्ध गाय घी’ लॉन्च करने के लिए उत्साहित हैं। इस अनिश्चित समय में, जैसा कि अधिक से अधिक उपभोक्ता खाद्य उत्पादों की खरीद के लिए ईकॉमर्स चैनलों का उपयोग कर रहे हैं, हमने अपने उपभोक्ताओं को प्राकृतिक और स्वस्थ उत्पादों तक आसान और तेजी से पहुंच प्रदान करने के लिए डाबर के साथ हाथ मिलाया है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.