लखनऊ को मिलेगी जाम के झाम से निजात, नगर निगम ने बनाई कार्य योजना

0 77

लखनऊ : शहर को जाम रहित बनाने के लिए नगर निगम ने तैयारी की है। इस समस्या का सबसे बड़ा कारण सड़कों पर चल रही अवैध पार्किंग हैं। भूमिगत पार्किगों में गाड़ियां न खड़ी करके लोग अवैध पार्किंगों में गाड़ी पार्क कर रहे हैं। इससे एक तरफ नगर निगम को नुकसान हो रहा है जबकि निजी संचालकों की जेब भर रही है। सभी पार्किंगों को व्यवस्थित व नगर निगम के दायरे में लाने के लिए उपविधि तैयार की है। इतना ही नहीं, चौराहों और तिराहों पर खडे होने वाले कामर्शियल वाहनों से भी शुल्क वसुलने की तैयारी है। नगर निगम की रविवार 25 जुलाई को होने वाली सदन की बैठक के एजेंडे में यह प्रस्ताव रखा गया है। इसके अलावा 17 अन्य प्रस्ताव एजेंडे में शामिल हैं।

शहर में बेतरतीब तरीके से गाड़ियां खड़ी होती हैं। सरकारी संस्थानों, बैंक व निजी संस्थान अपनी अपनी पार्किंग चला रहे हैं। इससे भूमिगत पार्किंगों में सन्नाटा रहता है। अवैध पार्किंगों से सड़क पर जाम लग रहा है। नगर निगम की पार्किंगों में वसूली प्रभावित हो रही है। ऐसी सभी पार्किंगों को नगर निगम के दायरे में लाने के लिए प्रस्ताव तैयार किया गया है। इसके लिए नगर निगम प्रशासन ने पार्किंग उपविधि-2021 तैयार की है। इसके लागू होने पर निजी संस्थानों को पार्किंग चलाने के लिए नगर निगम से मंजूरी लेनी होगी साथ ही कुछ शुल्क भी देना होगा। इसके अलावा सड़क, चौराहों पर बस, रिक्शा, आटो और टैम्पों आदि खड़ा करने की जगह भी तय की जाएगी। इनसे भी निर्धारित शुल्क वसूल किया जाएगा। उन पर भी नकेल कसा जाएगा जो अपनी गाड़ियां सड़कों पर खड़ी करते हैं। सदन से मंजूरी मिलने पर वाहन स्वामियों को शुल्क देना पड़ सकता है। इससे नगर निगम की आय में भी इजाफा होगा। सदन से पास होने पर ही इसे लागू किया जाएगा।

किसी भूमि या भवन स्वामी अथवा अन्य व्यवसायिक क्षेत्र में पार्किंग के लिए नगर निगम से अनुमति लेनी होगी। र्पाकिंग शुल्क भी नगर निगम तय करेगा। निजी पार्किंग संचालक को पार्किंग स्थल पर जनुसविधाओं, शौचालय व पेयजल व्यवस्था तथा बैठने के लिए टीन शेड व कुर्सी की व्यवस्था करना अनिवार्य होगा। संचालक व ठेकेदार की डेस निर्धारित करनी होगी।

उपविधि के अनुसार प्रस्ताव दिया गया है कि नगर निगम से घोषित किए गए पार्किंग स्थलों, स्टैंडों के अतिरिक्त किसी अन्य स्थान पर कोई सार्वजनिक वाहन नहीं खडेÞ किए जाएंगे। सार्वजनिक स्थान पर सवारी भरना उपविधि का उल्लघंन माना जाएगा। नगर निगम की पार्किंग स्थल के 500 मीटर के दायरे में कोई भी निजी व व्यवसायिक वाहन पार्किंग नहीं होगा। वाहन जब्त होने की दशा में 8-8 घंटे के अंतराल पर जुर्माने की धनराशि में वृद्धि होती जाएगी।

भूमिगत पार्किंगों में पार्किंग शुल्क

ट्रक व बस, मिनी बस, मेटाडोर 100 रुपये –

कार, जीप, टैक्सी, सूमो आदि 50 रुपये 30 रु.

टैंपो, थ्री व्हीलर, ई रिक्शा 30 रुपये 20 रु.

मोटर साइकिल, स्कूटर 10 रुपये 10 रु.

साइकिल 5 रुपये 5 रु.

(उक्त दरें प्रति चार घंटे के लिए हैं।)

नगर निगम प्राइम लोकेशन वाली जमीनों को लीज पर प्राइवेट बिल्डरों को देगा। गोमती नगर स्थित अपट्रान बिल्डिंग वाली जमीन और लालबाग के दयानिधान पार्क के पास बनी सुपर मार्केट के स्थान पर बिल्डर एग्रीमेंट के आधार पर बहुमंजिला व्यवसायिक काम्प्लेक्स बनेंगे। इनकी कीमत करीब 300 करोड़ रुपये आंकी गई है। रविवार को होने वाली नगर निगम सदन की बैठक में इसका प्रस्ताव भी रखा जाएगा।

गोमती नगर में नगर निगम की आरआर वर्कशॉप से लगी समता मूलक चौराहे पर अपट्रॉन बिल्डिंग है। यह जमीन नगर निगम की है। गोमती नगर के प्राइम लोकेशन पर कामर्शियल इलाके की इस 19142 वर्ग मीटर जमीन की कीमत डीएम सर्किल के रेट हिसाब से इस समय करीब 200 करोड़ रुपये बतायी जा रही है। बिल्डिंग को ध्वस्त कर इसे भी एग्रीमेंट या लीज पर बिल्डर को दिया जाएगा।

लालबाग के दयानिधान पार्क के पास 11783 वर्ग मीटर जमीन पर नगर निगम ने दो दशक पहले अमीनाबाद से विस्थापित दुुकानदारों को बसाने के लिए 515 दुुकानें बनाई थीं। अवैध कब्जे व किराया जमा न करने के कारण 2010 में नगर निगम ने आवंटन निरस्त कर दिए। इसके बाद 145 लोग न्यायालय चले गए। अब इसी बाजार को ध्वस्त कर नगर निगम ने वहां पर कामर्शियल काम्प्लेक्स बनाने का प्रस्ताव बनाया है। इसके लिए जमीन को लीज या बिल्डर एग्रीमेंट पर दिया जाएगा। हजरतगंज से निकट होने के कारण इस जमीन की कीमत काफी अधिक है। डीएम सर्किल रेट के हिसाब से अभी इसकी कीमत करीब 100 करोड़ रुपये है। नगर आयुक्त की ओर से उक्त प्रस्ताव सदन में लाया जा रहा है।

नगर निगम विकास नगर सेक्टर चार स्थित कल्याण मंडप व सामुदायिक केंद्र का किराया बढ़ाने जा रहा है। इस सम्बंध में भाजपा पार्षद मिथिलेश चौहान ने प्रस्ताव दिया है। इसके अनुसार कल्याण मंडप व सामुदायिक केंद्र में पूरे वर्ष शादी विवाह एवं सामाजिक कार्यक्रम होते रहते हैं। इन बारात घरों का जीणोद्धार करवाया गया है। किचेन व अन्य सुविधाएं उपलब्ध कार्रवाई गईं हैं। ऐसी स्थिति में किराया बढ़ाए जाने का प्रस्ताव दिया गया है। वर्तमान में सामुदायिक केंद्र का किराया 13208 रुपये व कल्याण मंडप का किराया 30950 रुपये है। इसे बढ़ाकर 25 हजार व 50 हजार रुपये किए जाने का प्रस्ताव दिया गया है।

लखनऊ नगर निगम सीमा में आगमन व प्रस्थान करने के लिए बार्डर पर ओवर हेड अथवा गैंट्री लगाई जाएगी। इसमें नगर निगम लखनऊ आपका स्वागत करता है व आगमन के लिए धन्यवाद का साईन बोर्ड लगेगा। इस संबंध में प्रस्ताव बनाया गया है। कानपुर रोड व रायबरेली रोड पर 25 लाख, सुल्तानपुर रोड व अयोध्या रोड पर 28 लाख, सीतापुर रोड व कुर्सी रोड पर 28 लाख तथा हरदोई रोड व मोहान रोड पर 27 रुपये का प्रस्ताव तैयार किया गया है

गोमती नगर के विराम खंड-2 में अटल क्रीडा स्थल का निर्माण अवस्थापना व पार्षद निधि से किया गया है। इसे खेल प्रोत्साहन के लिए उपलब्ध कराया जाएगा। संचालन के लिए शुल्क प्रस्तावित किया गया है। बैडमिंटन के लिए एक हजार रुपये प्रति घंटा, वॉलीबाल-100 रुपये प्रति घंटे, क्रिकेट मैच आयोजन के लिए एक हजार रुपये प्रति घंटा, बासकेट बाल-1000 रुपये प्रति घंटा व टेनिस के लिए 500 रुपये प्रति घंटा शुल्क लगेगा। सुबह आठ बजे से रात आठ बजे तक यह स्थल खुलेगा। प्रबंध समिति में महापौर अध्यक्ष व नगर आयुक्त सचिव होंगे जबकि अन्य सदस्य होंगे। इस समिति से संबंधित सदस्यों के लिए निर्धारित आरक्षण शुल्क का 50 प्रतिशत शुल्क ही जमा करना होगा। स्वयं सेवी संस्था अथवा शिक्षण संस्थान के लिए खेल आयोजन के लिए पांच हजार रुपये शुल्क रहेगा।

विकास नगर सेक्टर 11 स्थित मिनी स्टेडियम में खेलकूद क्रिया कलाप व अनुरक्षण तथा संचालन के लिए खेल विभाग को हस्तांतरित किए जाने का निर्णय कार्यकारिणी ने लिया था, लेकिन पूरी तरह से स्वामित्व का हस्तांतरण न होने पर गतिविधियां शुरू नहीं हो सकीं। अब इस संंबंध में फिर प्रस्ताव रखा गया है

इस्माइगंज में स्थित शिव मंदिर मार्ग को पीडब्लूडी को हस्तांतरण, विनय खंड स्थित मिनी स्टेडियम का नामकरण स्व. लालजी टंडन मिनी स्टेडियम के नाम से होगा। विराम खंड स्थित अटल क्रीडा स्थल में बने बहुउद्दशीय हॉल का नामकरण स्व. लालजी टंडन के नाम से किए जाने का प्रस्ताव दिया गया है। बीबी बक्शी के आवास के सामने व टेलीफोन एक्सचेंज के पीछेवाली रोड का नामकरण स्व. ठाकुर इंद्रदेव सिंह के नाम से किए जाने, मंत्री बृजेश पाठक ने आशियाना कालोनी के सेकटर के स्थित पार्क का नामकरण अनंत राम द्विवेदी पार्क किए जाने का प्रस्ताव दिया है। अमीनाबाद इंटर कॉलेज में तीन दुकानें बनाए जाने का प्रस्ताव पार्षद मुकेश सिंह मोंटी ने दिया है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.