प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के प्रचार वाहन को विधायक व डीएम ने दिखायी हरी झण्डी

0 10

बहराइच । प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के प्रचार-प्रसार हेतु विधायक पयागपुर सुभाष त्रिपाठी ने जिलाधिकारी डॉ. दिनेश चन्द्र, एडीएम मनोज व विधायक महसी सुरेश्वर सिंह के प्रतिनिधि अखण्ड प्रताप सिंह उर्फ गोलू सिंह, भाजपा किसान मोर्चा के जिलाध्यक्ष संचित सिंह, प्रमुख तेजवापुर रमाकर पाण्डेय व अन्य के साथ ‘‘प्रचार-वाहन’’ को हरी झण्डी दिखाकर कलेक्ट्रेट परिसर से रवाना किया। इस अवसर पर एडीएम मनोज, पीडीडीआरडीए पी. एन. यादव, प्रभारी उप निदेशक/जिला कृषि अधिकारी सतीश कुमार पाण्डेय, जिला कृषि रक्षा अधिकारी श्रीमती प्रियानन्दा, जिला उद्यान अधिकारी पारसनाथ, लीड बैंक प्रबन्धक के प्रतिनिधि, एसडीओ कृषि उदयशंकर सिंह, एग्रीकल्चर इंश्योरेन्स कम्पनी लि. के वरिष्ठ प्रबन्धक मुकेश मिश्रा, सांख्यकीय अधिकारी नरेन्द्र कुमार गुप्ता, कृषि वैज्ञान केन्द्र के प्रभारी डॉ. वी.पी. शाही सहित अन्य सम्बन्धित मौजूद रहे।
इससे पूर्व कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित सूक्ष्म गोष्ठी के दौरान विधायक पयागपुर श्री त्रिपाठी ने जिलाधिकारी डॉ चन्द्र, विधायक महसी के प्रतिनिधि व अन्य अतिथियों के साथ पीएम फसल बीमा योजना के तहत सर्वाधिक क्षतिपूर्ति प्राप्त करने वाले कृषकों कांशीराम को रू. 1,11,825.70=00, श्रीमती उर्मिला देवी को रू. 82,694=00, राजेन्द्र प्रसाद को रू. 69,537=00, श्रीमती सरस्वती को रू. 49,123.29=00 एवं प्रेम चन्द्र श्रीवास्तव को रू. 40,033=00 धनराशि का प्रमाण-पत्र प्रदान किया गया। जबकि बीमा कराने में सहयोग के लिए उद्यान निरीक्षक रश्मि शर्मा, प्रा.सहा.ग्रुप सी पंकज कुमार सिंह, धीरज कुमार गुप्ता, राजेश कुमार गौतम एवं आर्यावर्त बैंक मिहींपुरवा के शाखा प्रबन्धक राजेन्द्र सिंह व जन सेवा केन्द्र नाजिरपुरा के संचालक योगेन्द्र कुमार जायसवाल को बीमा कार्य में अग्रणी कार्य के लिए प्रशस्ति पत्र प्रदान किया गया।
इस अवसर पर विधायक पयागपुर ने कहा कि जनपद के किसानों को दैवीय आपदा की स्थिति में उनकी आय का एक मात्र स्रोत प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना है जिससे आच्छादित किसानों को भारत सरकार एवं उत्तर प्रदेश सरकार क्षतिपूर्ति प्रदान कर रही है। उन्होंने बताया कि रबी 2022-23 में जनपद में गेहूॅ, मसूर, राई/सरसों फसले अधिसूचित है। लागत का ढेड़ प्रतिशत प्रीमियम अदा कर अपनी फसल का बीमा सभी किसान करा सकते है।
जिलाधिकारी डॉ चन्द्र ने कहा कि जिले के अधिकारियों एवं कर्मचारियों के निरन्तर प्रयास व किसानों के सहयोग तथा फसल अवशेष/बेहतर पराली प्रबन्धन से जनपद में पराली जलाने की घटनाओं में लगभग 60 प्रतिशत की कमी आयी है। उन्होंने निर्देश दिया कि इसी टीम स्प्रिट के साथ प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अन्तर्गत व्यापक प्रचार-प्रसार करते हुए जनपद के अधिक से अधिक गैर ऋणी किसानों का बीमा कराना सुनिश्चित करें। उन्होंने बताया कि खरीफ 2021 में अक्टूबर माह में हुई भंयकर वर्षा एवं बाढ़ आपदा से जनपद के 28077 किसानों को भारत सरकार द्वारा 2072.40 लाख रूपये क्षतिपूर्ति प्रदान की गयी है जो प्रदेश के अन्य जनपदों की तुलना में अधिक धनराशि क्षतिपूर्ति के रूप में जनपद के किसानों को प्राप्त हुई है। इस अवसर पर डिप्टी एलडीएम अंकुर सिंह, कृषि विभाग के क्षेत्रीय कर्मचारी सहित बैकों के जिला समन्वयक सतीश कुमार, योगेन्द्र जायसवाल, अलोक श्रीवास्तव, मनीष कान्त, प्रगतिशील कृषक पार्वती देवी, रमाकांत वर्मा व अन्य सम्बन्धित मौजूद रहे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.