आग के मुहाने पर बैठे हैं मेरठ शहर के थाने, बचाव के लिए पुलिस ने शुरू की तैयारी

0 14

मेरठ : गंगानगर थाने के मालखाने में आग लगने के बाद पुलिस प्रशासन हरकत में आ गया है, क्योंकि गंगानगर की तरह शहर के सभी थाने आग के मुहाने पर बैठे हैं। सभी थाना परिसर में जब्त किए वाहनों का अंबार लगा हुआ है। ऐसे में कभी भी आग लग सकती है। गंगानगर थाने के मालखाने में लगी थी आग गंगानगर थाने के मालखाने में लगी आग से 80 वाहन जलकर खाक हो गए थे। विद्युत एलटी लाइन के टूट कर गिरने से आग लग गई थी। आग से जलने वाले सभी वाहन जब्त किए गए थे। तीन सिपाहियों की बाइक भी जलकर खाक हो गई।

गंगानगर के अलावा शहर के रेलवे रोड, टीपीनगर, सदर बाजार, सिविल लाइन, मेडिकल, नौचंदी, परतापुर समेत सभी 14 थानों में रखे वाहन कभी भी आग की चपेट में आ सकते है। थानों में जगह कम होने की वजह से वाहन एक के ऊपर एक चढ़ाकर रखे गए है। उससे साफ है कि शहर के अन्य थाने में भी आग लगने से बड़ा नुकसान हो सकता है। इन थानों में आग लगी तो भयावह हो सकते हैं परिणाम देहलीगेट, रेलवे रोड, नौचंदी, लिसाड़ीगेट और ब्रह्मपुरी ऐसे थाने हैं, जहां जब्त किए वाहनों में आग लग गई तो फायर ब्रिगेड का पहुंचना भी मुश्किल हो जाएगा। क्योंकि यहां गलियां इस कदर संकरी हैं कि जब तक फायर ब्रिगेड पहुंचेगी, तब तक वाहन जलकर खाक हो जाएंगे।

डीएम और एसएसपी ने किया जमीन का निरीक्षण आग और सुरक्षा के मद्देनजर सभी थानों में रखे वाहनों के लिए सेंट्रल वाहन हाउस बनाने की प्लानिंग पहले से चल रही थी। हाल में सेंट्रल वाहन हाउस के लिए खरखौदा में जमीन चिह्नित की गई है। डीएम और एसएसपी ने निरीक्षण के बाद जमीन को फाइनल टच दे दिया है। अब शासन की मंजूरी मिलने के बाद इस जमीन पर सेंट्रल वाहन स्टोर बना दिया जाएगा। अनुमति मिलने के बाद सेंट्रल वाहन हाउस बनाया जाएग। इसके बाद शहर के सभी 14 थानों के वाहन रखे जाएंगे।

कोर्ट में पेश करना होता है माल थाने के मालखाने में रखा माल केस प्रापर्टी होता है। मुकदमे के ट्रायल के दौरान कोर्ट में माल को भी दिखाना पड़ता है। माल जल जाने से केस पर भी इसका प्रभाव पड़ता है। हादसे के बाद कोर्ट को भी माल जलने के बारे में अवगत कराना पड़ता है। गंगानगर थाने में भी जल गई बाइकों का रिकार्ड तैयार किया जा रहा है। देखा जा रहा है कि जल गई बाइक किस किस केस से संबंधित थी। एसपी सिटी विनीत भटनागर ने बताया कि सभी थानों को आग से सुरक्षा के बंदोबस्त करने के लिए आदेश दिया गया है। ताकि केस प्रापर्टी को सुरक्षित रखा जा सकें।

Leave A Reply

Your email address will not be published.