राम ने ऊंच-नीच जात पात का कभी भेदभाव नहीं किया: रामबाबू द्विवेदी

0 114

सिरौलीगौसपुर बाराबंकी :  प्रभु  राम ने जो व्यवहार सम्मान बड़े बुजुर्गों गुरुजनों के प्रति दिखाया है जो सकारात्मक विचारधारा उन्होंने अपने जीवन में अपनाया है यदि आज का मनुष्य उसको अपनी विचारधारा व जीवन में उतार ले तो ऊंच-नीच  अहंकार स्वयं ही समाप्त हो जाएगा। यह बात भाजपा किसान मोर्चा के प्रदेश उपाध्यक्ष रामबाबू द्विवेदी ने ग्राम खोर एत्मादपुर में आदर्श रामलीला समिति के तत्वाधान में आयोजित रामलीला में बतौर मुख्य अतिथि के तौर पर उपस्थित जनसमूह को संबोधित करते हुए कही। उन्होंने कहा कि जैसे प्रभु श्रीराम ने अपने गुरुजनों माता-पिता तथा बड़ों का सम्मान किया। उनकी आज्ञा का सम्मान किया छोटे बड़ों में ऊंच-नीच जात पात का कभी भेदभाव नहीं किया।

 

इसीलिए उन्हें मर्यादा पुरुषोत्तम राम भी कहा जाता है। आज का मनुष्य यदि इन सब बातों को अपने जीवन की विचारधारा में अपना ले तो आधे से अधिक समस्याएं स्वतः ही खत्म हो जाएंगी। इस संबंध में उन्होंने एक छोटे से जीव का उदाहरण देते हुए बताया कि किस प्रकार समुद्र में रामसेतु के निर्माण में गिलहरी ने अपना योगदान दिया था। उन्होंने लोगों से प्रभु श्रीराम के मंदिर निर्माण में कुछ ना कुछ दान देने की अपील किया। उन्होंने रामलीला में श्रीराम लक्ष्मण विश्वामित्र को पुष्प माला पहनाकर उनके चरण छूकर आशीर्वाद लिया। इस दौरान कार्यक्रम में विभिन्न प्रकार के श्रीराम के जीवन चरित्र पर आधारित कार्यक्रमों को दर्शाया गया। इस मौके पर देवेश शुुक्ला, दुर्गेश अवस्थी, आशीष दीक्षित, सोमेश शुक्ला, रामतीर्थ यादव, पवन यादव, रामविलास रावत, विजय अवस्थी, सुनील कुमार द्विवेदी, शिव शंकर त्रिवेदी, प्रेमशंकर तिवारी, दयाशंकर विश्वकर्मा, विजय बाबू यादव सहित सैकड़ों लोग मौजूद रहे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.