26 जून की रात को ही संजीत यादव की कर दी थी हत्या, 5 अपहरणकर्ता गिरफ्तार

0 170

घटना में दो महिलाएं भी शामिल, संजीत के शव की तलाश जारी

लखनऊ : 22 जून से अपहृत लैब टेक्नीशियन संजीत यादव का कानपुर पुलिस एक महीने में भी कोई अता-पता नहीं लगा सकी। उल्टे अपहरणकर्ताओं को पकड़ने का झांसा देकर पीड़ित परिवार से 30 लाख की फिरौती भी दिलवा दी। लेकिन न तो अपहरणकर्ताओं को पकड़ सकी और न तो संजीत यादव को बरामद कर सकी। 23 जुलाई की शाम पुलिस ने 5 अभियुक्तों को गिरफ्तार किया और बेटे की राह देख रही बहन, व माता-पिता से कहा, रंजीत यादव मर चुका है। पुलिस का यह टका सा जवाब सुनकर पीड़ित परिवार पर मुसीबत का पहाड़ टूट पड़ा है। एक महीने से अपने बेटे को खोजने के लिए पुलिस अफसरों से विनती कर रहीं संजीत की बहन और मां ने घर पहुंचे पुलिस अफसरों को आत्मदाह की धमकी दी है।

गुरुवार देर शाम कानपुर पुलिस ने संजीत यादव के अपहरण के आरोप में पांच युवकों को गिरफ्तार किया। कानपुर पुलिस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बताया कि ज्ञानेन्द्र यादव ने संजीत यादव के अपहरण और फिरौती की साजिश रची थी। आरोपी संजीत यादव के दोस्त हैं और उसके साथ काम करते थे। घटना में 2 महिलाएं भी शामिल हैं।

पुलिस के अनुसार ज्ञानेन्द्र यादव ने पूछताछ में बताया है कि संजीत यादव भागने की कोशिश कर रहा था। जिसके चलते 26-27 जून की दरम्यानी रात उसकी गला दबाकर हत्या कर दी थी। हत्या करने के बाद भी उन लोगों ने संजीत यादव की फिरौती के लिए उसके परिवार से 30 लाख रुपए की डिमांड जारी रखी।

आरोपियों ने संजीत यादव की हत्या करने के बाद शव नहर में फेंक दिया था। पुलिस के कहने पर संजीत यादव की बहन व माता-पिता ने 29 जून को किसी तरह 30 लाख रुपए का इंतजाम किया। बर्रा थाना पुलिस ने पीड़ित परिवार से कहा कि वह इसी बहाने अपहरणकर्ताओं को पकड़ लेंगे। रात करीब 8 बजे रंजीत यादव के पिता व कुछ पुलिसकर्मी फिरौती की रकम लेकर अपहरणकर्ताओं के बताए हुए स्थान पर पहुंचे। वहां पुलिस के इशारे पर संजीत यादव के पिता ने रकम बदमाशों को दे दी। फिरौती की रकम लेने के बाद अपहरणकर्ता मौके से भाग निकले। इस तरह बदमाश 30 लाख रुपए लेकर पुलिस के सामने से सुरक्षित निकल गए और पुलिस कुछ नहीं कर सकी

बर्रा एसएचओ निलंबित

आईजी रेंज कानपुर मोहित अग्रवाल ने संजीत यादव अपहरण कांड में लापरवाही बरतने के आरोप में बर्रा एसएचओ रंजीत राय को निलंबित कर दिया है। आईजी रेंज ने बताया कि पुलिस ने रंजीत यादव की बाइक बरामद कर ली है। आरोपियों की निशानदेही पर रंजीत के शव की तलाश की जा रही है

आईजी रेंज ने पैसे देने के आरोपों को नकारा

आईजी रेंज मोहित अग्रवाल ने कहा कि आरोपियों ने पैसे मांगने की बात कबूली है। लेकिन पैसे मिले नहीं थे। कहा कि अभी तक जानकारी में अपहरणकर्ताओं को पैसे देने की जानकारी सामने नहीं आई है। परिजन पैसे देने का आरोप लगा रहे हैं। आईजी रेंज ने कहा कि घटना के हर पहलू पर जांच की जा रही है। परिजनों के पैसे देने के आरोपों की भी जांच की जा रही है। अपहरणकर्ताओं ने वारदात को अंजाम देने के लिए किराए पर एक कमरा लिया था।

पांडु नदी में तलाशा जा रहा शव

अपहरणकर्ताओं की निशानदेही पर संजीत यादव का शव बरामद करने के लिए पांडु नदी में तलाश की जा रही है। स्टीमर की मदद से शव तलाशा जा रहा है। आरोपियों ने बताया है कि उन्होंने रंजीत यादव की हत्या कर शव बोरे में भरकर नहर में फेंक दिया था

Leave A Reply

Your email address will not be published.