सपा नेत्री ने रिंद नदी में पुल न बनने पर जाहिर की नाराजगी कहा भाजपा को सबक सिखाएगी जनता

0 151

फतेहपुर : समाजवादी पार्टी की नेत्री अनु मिश्रा तमाम समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं तथा ग्रामीणों के साथ खूंटा गांव के समीप रिंद नदी किनारे पहुंची और भारतीय जनता पार्टी के शासनकाल में नदी में पुल ना बनवाए जाने को लेकर जमकर नाराजगी जताई। सपा नेत्री ने कहा कि केंद्र व राज्य की भारतीय जनता पार्टी सरकार द्वारा किए गए वादे हवा हवाई होते हैं कोई भी वादा पूरा नहीं किया जा रहा है ।क्षेत्र की जनता लगातार नदी में पुल बनवाने की मांग कर रही है। लेकिन इस सरकार में कोई सुनवाई नहीं होती है। जिसका परिणाम आगामी 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव में राज्य की भाजपा सरकार को मिलेगा।

रविवार को समाजवादी पार्टी की नेत्री अनु मिश्रा खजुहा ब्लाक क्षेत्र के खूंटा गांव के समीप रिंद नदी किनारे पहुंचे ।उनके साथ सपा नेत्री कविता अग्निहोत्री जिला पंचायत सदस्य प्रतिनिधि अता हसन सहित तमाम लोग थे। सपा नेत्री अनु मिश्रा ने रिंद नदी में भारी जलभराव देखा और पता चला कि नदी के उस पार जाने के लिए अब तक पुल नहीं बना है। लोगों को आने जाने में दिक्कत का सामना करना पड़ता है केवल नाव ही एक सहारा है। यह देख वह जमकर नाराज हुई कहा की जिले की सांसद साध्वी निरंजन ज्योति केंद्रीय मंत्री भी हैं । जहानाबाद क्षेत्र के विधायक जय कुमार सिंह राज्य मंत्री हैं ।इसके अलावा बिंदकी विधानसभा से भी भारतीय जनता पार्टी के विधायक करण सिंह पटेल है। इसके बावजूद पूरे 4 साल बीत गए भारतीय जनता पार्टी की सरकार द्वारा उनके प्रतिनिधियों द्वारा इस मामले में रंच मात्र कार्रवाई नहीं की गई है। जिसके चलते क्षेत्र के 2 दर्जन से अधिक गांव में गहरी नाराजगी का माहौल है। इसका परिणाम उत्तर प्रदेश की भारतीय जनता पार्टी सरकार को आगामी 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव में भुगतना पड़ेगा। सरकार के प्रति लोगों में नाराजगी का माहौल है ।

महंगाई लगातार बढ़ती जा रही है बेरोजगारी भ्रष्टाचार चरम सीमा पर है। उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ की भाजपा  सरकार पूरी तरह से फेल साबित हो रही है। उन्होंने कहा कि यदि रिंद नदी में पुल नहीं बनाया गया तो समाजवादी पार्टी के लोग चुप बैठने वाले नहीं हैं ‌।सड़कों पर उतर कर ईट से ईट बजाने का काम करेंगे ।इस मौके पर सपा नेत्री कविता अग्निहोत्री ने भी नाराजगी जाहिर की और कहा कि नदी में पुल ना बनने के कारण ग्रामीणों को उस पार के गांव जाने के लिए 20 किलोमीटर की लंबी यात्रा तय करना पड़ता है‌। यदि सीधे पुल बन जाए तो उस पार के गांव महज 2 किलोमीटर की दूरी में पड़ेंगे ‌।लोगों को समय की बर्बादी नहीं होगी और ना ही पैसे की बर्बादी होगी अतः नदी में पुल बनना जरूरी है । इस मौके पर ग्रामीण मनोज गुप्ता, हाफिज नसीम अहमद, राजा मियां, सिराज खान ,राजेंद्र रमेश ,आनंदपाल, राकेश सोनकर, नीरज, दिनेश, महावीर, पप्पू, राजेश, महेंद्र यादव, राम बहादुर सोनकर, फुरकान, राजबहादुर तथा इमामुद्दीन सहित सैकड़ों लोग मौजूद रहे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.