हज़ार लोगों की रैली होगी, 500 लोगों की इनडोर मीटिंग और 20 लोगों के साथ घर घर प्रचार की छूट

0 59

दिल्ली : देश में बढ़ते कोरोना मामलों और 5 राज्यों में विधानसभा चुनावों के मद्दे नजर चुनावी रैलियों और रोड शो पर 31 जनवरी तक प्रतिबंध लगा था। सोमवार को चुनाव आयोग की बैठक हुई। जिसमें इस बैन को 11 फरवरी तक बढ़ाने का फैसला लिया गया है। लेकिन इन प्रतिबंधों के साथ थोड़ी राहत भी दी गई है। यानी प्रतिबंध के साथ-साथ रैली में 1000 लोग शामिल हो सकेंगे।

कैंपेन को लेकर आए ये नियम

चीफ इलेक्शन कमिश्नर सुशील चंद्रा ने केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव से मुलाकात के बाद रैलियों पर बैन की समीक्षा की। नए नियमों के मुताबिक इनडोर सभाओं में 500 लोगों के बैठने की अनुमति होगी।जबकि प्रत्याशी के साथ डोर टू डोर कैंपेन में 20 लोग जा सकेंगे। इससे पहले कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए चुनाव आयोग ने पांचों राज्यों में 22 जनवरी तक रैलियों और रोड शो पर रोक लगाई थी। हालांकि, फिर इसे बढ़ा कर 31 जनवरी कर दिया गया था।

8 जनवरी को चुनाव की तारीखों के ऐलान के बाद 15 जनवरी को चुनाव आयोग ने बड़ी रैलियों और सभाओं पर प्रतिबंध लगा दिया था। जिसे 22 जनवरी को दोबारा बढ़ाया गया। 31 जनवरी को दोबारा बढ़ाकर इसे 11 फरवरी तक कर दिया गया है, लेकिन इसमें छूट बढ़ा दी गई है।

रोक से पहले ही हो चुकी थी यूपी में रैलियां

हालांकि चुनाव की तारीखों के ऐलान से पहले ही PM नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह और यूपी के मुख्यमंत्री योगी सूबे की हर तीन में से दो एसेंबली सीटों पर रैली या रोड-शो कर चुके थे। प्रतिशत के लिहाज से समझें तो यह आंकड़ा 68% होता है। सीटों के हिसाब से यूपी की 403 सीटों में से 275 पर यह तिकड़ी पहुंच चुकी थी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.