आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश में कोरोना की स्थिति को लेकर अहम बैठक

0 80

दिल्ली : आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश में कोरोना की स्थिति को लेकर अहम बैठक कर रहे हैं। इस बैठक में सबसे ज्यादा प्रभावित दस राज्यों के मुख्यमंत्री शामिल हैं। वहीं बैठक में जब दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की बारी आई, तो उन्होंने अपनी बात रखी और इसका वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर किया। इस पर भाजपा ने पलटवार करते हुए इसे राजनीति बताया है।

केजरीवाल ने अपनी बात रखने के समय जो मुद्दे उठाए, उस केंद्र की ओर से पलटवार आया है। केजरीवाल के भाषण पर सरकारी सूत्रों का कहना है कि दिल्ली के सीएम ने इस मंच का इस्तेमाल राजनीति खेलने के लिए किया। सूत्रों ने कहा कि सीएम ने जानबूझकर वैक्सीन की कीमत पर झूठ बोला। सूत्रों ने कहा कि केजरीवाल ये पहले से जानते हैं कि केंद्र अपने पास वैक्सीन की एक भी खुराक नहीं रखता है और सभी खुराकें राज्य सरकारों को दी जाती हैं।

यही नहीं सूत्रों ने कहा कि सीएम केजरीवाल ने एयरलिफ्ट के जरिए ऑक्सीजन पहुंचाने की बात कही लेकिन वो नहीं जानते कि ये काम पहले से किया जा रहा है। सूत्रों ने आगे बताया कि केजरीवाल ने ऑक्सीजन एक्सप्रेस को लेकर बात की लेकिन रेलवे सूत्रों ने बताया कि उन्होंने इसके बार रेलवे से कोई बात नहीं की। इसके अलावा सूत्रों ने आगे कहा कि अरविंद केजरीवाल नए निचले स्तर पर गिर गए हैं। उनका पूरा भाषण किसी समाधान के लिए नहीं बल्कि राजनीति खेलने और जिम्मेदारी से बचने के लिए था।

सीएमओ की ओर से जारी बयान में कहा गया कि आज सीएम के संबोधन को लाइव साझा किया गया क्योंकि केंद्र की ओर से लिखित या मौखिक में कोई निर्देश नहीं था कि इसे साझा नहीं करना है। बयान में कहा गया कि अगर कोई असुविधा हुई तो उसके प्रति अफसोस प्रकट करते हैं।

अमित मालवीय ने लगाया राजनीति करने का आरोप

इतना ही नहीं भाजपा के आईटी सेल के प्रभारी अमित मालवीय ने ट्वीट कर अरविंद केजरीवाल को एक आपदा बताया है। उन्होने आगे कहा कि अरविंद केजरीवाल बिना तैयारी के प्रधानमंत्री मोदी के साथ बैठक करने गए।  अमित मालवीय ने आगे कहा कि अरविंद केजरीवाल के पास उन कदमों को लेकर कोई जानकारी नहीं है जो राजधानी में ऑक्सीजन आपूर्ति को पूरा करने के लिए उठाए जा चुके हैं। वहीं अरविंद केजरीवाल टीकों की कीमतों को लेकर जागरुक नहीं है। वो ऐसे दिल्ली के लोगों को कैसे बचाएंगे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.