लखनऊ स्पोर्ट्स कॉलेजों में ट्रायल और स्पोर्ट्स हॉस्टलों को अनुमति नहीं

0 54

लखनऊ : राज्य सरकार के अधीन राज्य के तीनों स्पोर्ट्स कॉलेज और स्पोर्ट्स हॉस्टल संचालित होते हैं। कोरोना संक्रमण के कारण दो वर्ष से यह बंद हैं। नए सत्र से स्पोर्ट्स कॉलेजों में भर्ती के लिए शासन ने अनुमति प्रदान कर दी है। पर अभी स्पोर्ट्स हॉस्टलों के के लिए कोई दिशानिर्देश जारी नहीं हुआ है। ऐसे में स्पोर्ट्स हॉस्टलों के खिलाड़ी और भर्ती होने का सपना देखने वाले प्रतिभाशाली खिलाड़ी अपने भविष्य को लेकर चिंतित हैं।

राज्य में तीन स्पोर्ट्स कॉलेज हैं। गोरखपुर, सैफई और लखनऊ। यहां कक्षा छह में खिलाड़ियों का चयन उन्हें सरकारी खर्च पर मुफ्त में ट्रेनिंग, खुराक, रहने, पढ़ाई आदि की सुविधा प्रदान की जाती है। इसी तरह राज्य में 14 खेलों के 18 जिलों में 48 हॉस्टल हैं। इन सभी में बालक और बालिकाओं का चयन कर ट्रेनिंग दी जाती है। कोरोना के कारण मार्च 2020 से ये सभी बंद हैं। सभी खिलाड़ी घर पर रहकर ट्रेनिंग कर रहे हैं। पिछले दो सत्रों में नयी भर्ती भी नहीं हुई।

शासन भेजा है अनुमति के लिए पत्र

उप खेल निदेशक एसएस मिश्र ने बताया कि पिछली 29 दिसम्बर को शासन को एक पत्र लिखकर स्पोर्ट्स हॉस्टल खोलने के लिए अनुमति एवं दिशानिर्देश मांगे गए हैं। उन्होंने बताया कि अगर अनुमति मिल जाती है तो नए सत्र से स्पोर्ट्स हॉस्टल भी खुलेंगे। स्पोर्ट्स हॉस्टलों में नए खिलाड़ियों की भर्ती के लिए फरवरी से चयन ट्रायल शुरू करने की योजना बनायी जा रही है।

दो कक्षाएं खाली रहेंगी

स्पोर्ट्स हॉस्टल एवं स्पोर्ट्स हॉस्टलों के खुल जाने के बाद दो कक्षाओं में एक भी खिलाड़ी नहीं होगा। खिलाड़ियों की अंतिम भर्ती कक्षा छह में साल 2019 में हुई थी। इसके बाद कोरोना के कारण 2020 और 2021 में खिलाड़ियों की भर्ती नहीं हुई। इसतरह 2019 में भर्ती हुए खिलाड़ी कक्षा नौ में पहुंच जाएंगे। वहीं नये भर्ती खिलाड़ी कक्षा में प्रवेश लेंगे। यानी कक्षा सात और आठ में कोई खिलाड़ी नहीं होगा।

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.