कानपुर एनकाउंटर: विकास दुबे का एक और साथी शशिकांत गिरफ्तार, हथियार बरामद

0 206

लखनऊ : कानपुर जिले के बिकरु गांव में सीओ सहित पुलिसकर्मियों की हत्या के मामले में 50 हजार रुपए का इनामी वांछित अपराधी शशिकांत पांडेय को पुलिस ने मंगलवार रात 2:30 बजे गिरफ्तार कर लिया है। इसके साथ ही उसके पास से पुलिसकर्मियों से लूटे गए हथियारों को बरामद कर लिया गया है। पुलिस ने उसके पास से एके-47 व 17 कारतूस, इसांस राइफल व 20 जिंदा कारतूस बरामद किया है। जिसकी जानकारी एडीजी लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार ने मंगलवार को दी।

एडीजी प्रशांत कुमार ने कहा कि बिकरू कांड के एक और आरोपी शशिकांत पांडेय को गिरफ्तार कर लिया गया है। उस पर 50 हजार रुपये का इनाम था। शशिकांत के खुलासे के बाद पुलिस ने विकास दुबे के घर से एके-47 और 17 कारतूस बरामद कर लिया है। इसके साथ ही शशिकांत के घर से इंसास राइफल भी मिली है। उन्होंने कहा कि इस पूरे मामले में 21 आरोपी थे। जिसमें चार लोग गिरफ्तार किए जा चुके हैं। गिरफ्तार आरोपियों में श्यामू वाजपेयी, जहान यादव, दयाशंकर अग्निहोत्री और शशिकांत है। वहीं अबतक 6 आरोपियों को एनकाउंटर में ढेर किया जा चुका है। मारे गए आरोपियों में विकास दुबे, प्रेम कुमार पांडेय, अतुल दुबे, अमर दुबे, प्रभात मिश्रा और प्रवीण दुबे शामिल है।

एडीजी ने बताया कि 120बी के तहत सात लोगों को गिरफ्तार किया गया है। 216 में दो आरोपी जेल गए हैं। अभी इस केस में 11 लोगों की तलाश जारी है। इसके अलावा महाराष्ट्र में पकड़े गए दो लोगों को रिमांड पर यूपी लाया जा रहा है। उनपर आगे की कार्रवाई नियमानुसार की जाएगी। गिरफ्तार किया गया शशिकांत पांडेय विकास दुबे का कथित मामा प्रेम कुमार पांडेय का बेटा है। आरोपी शशिकांत ने पूछताछ के दौरान बताया कि इस घटना में विकास दुबे का अलावा अमर दुबे, अतुल दुबे, प्रेम कुमार पांडेय, प्रभात मिश्रा, प्रवीण दुबे, हीरु, शिवम, जिलेदार, रामसिंह, रमेशचंद्र, गोपाल सैनी, अखिलेश मिश्रा, विपुल, श्यामू वाजपेयी, राजेन्द्र मिश्रा, बालगोविंद दुबे और दयाशंकर अग्निहोत्री वारदात में शामिल थे।

बता दें कि कानपुर के बिकरू गांव में 2 जुलाई की रात दबिश देने गई पुलिस टीम पर विकास दुबे और उसके गुर्गो ने हमला किया था। इस दौरान सीओ देवेंद्र मिश्रा समेत आठ पुलिसकर्मी शहीद हो गए थे। इसके बाद एनकाउंटर में विकास दुबे और उसके पांच साथी मारे जा चुके हैं

Leave A Reply

Your email address will not be published.