Lucknow Breaking Newss

0 104

कोरोना पीड़ितों की सेवा और सद्भाव के लिए गांव-गांव जाएंगे भाजपाई

लखनऊ :  विधानसभा चुनाव के विधिवत शंखनाद से पहले भाजपा कोरोना पीड़ितों की सेवा और सद्भाव के जरिये जनता के बीच पहुंचेगी। 10 जून से प्रदेश में शुरू हुए सेवा ही संगठन कार्यक्रम के तहत जहां एक हजार से अधिक पीएचसी गोद लिए जाएंगे, वहीं हर जिले में एक से दो पोस्ट कोविड सेंटर संचालित किए जाएंगे। कोरोना की तीसरी लहर रोकने के लिए लोगों का ज्यादा से ज्यादा टीकाकरण कराने के लिए अभियान भी चलाया जाएगा। इन सेवा कार्यों के जरिये पार्टी योगी सरकार की उपलब्धियां, कोरोना प्रबंधन, श्रमिकों व प्रवासियों की मदद सहित अनेक योजनाओं की जानकारी न सिर्फ जनता के बीच लेकर जाएंगे, बल्कि अब तक योजनाओं के लाभ से वंचित पात्र लाभार्थियों को योजनाओं से जुड़वाकर लाभांवित भी कराएंगे। 15 जुलाई तक चलने वाले अभियानों के जरिये 98 संगठनात्मक जिलों के गांवों और शहरों में जनता के बीच पहुंचने की योजना है।

टीकाकरण अभियान के लिए प्रदेश महामंत्री गोविंद नारायण शुक्ला तथा प्रदेश मंत्री संजय राय को प्रभारी नियुक्त किया गया है। प्रदेश महामंत्री गोविंद नारायण शुक्ला ने बताया कि जिलों में पोस्ट कोविड सेंटर का संचालन किया जाएगा। इसमें कोरोना संक्रमण से निगेटिव हुए लोगों में कमजोरी, शुगर, शरीर में दर्द या अन्य दुष्प्रभावों के लिए चिकित्सीय परामर्श उपलब्ध कराया जाएगा। पोस्ट कोविड सेंटर संचालन के लिए महामंत्री अनूप गुप्ता और प्रदेश मंत्री रामचंद्र कनौजिया को प्रभारी नियुक्त किया गया है।

उन्होंने बताया कि पार्टी के सांसद, विधायक, आयोगों, निगमों, बोर्डों के अध्यक्षों की ओर से पीएचसी-सीएचसी को गोद लेकर सक्षम स्वास्थ्य केंद्र बनाने का बड़ा अभियान शुरू किया जाएगा। इसके लिए प्रदेश महामंत्री प्रियंका रावत और प्रदेश मंत्री त्रयंबक त्रिपाठी को प्रभारी नियुक्त किया है। सरकारी योजनाओं का लाभ पात्र व्यक्तियों को मिले इसके लिए उनकी सहायता भी करेंगे। इस अभियान के लिए प्रदेश महामंत्री अमरपाल मौर्य तथा प्रदेश मंत्री सुभाष यदुवंश को प्रभारी नियुक्त किया है। कोरोना के कारण जिन परिवारों ने अपने सदस्यों को खोया है उन परिवारों के घर जाकर उनसे मुलाकात करेंग और उनकी मदद का प्रयास करेंगे। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने कहा कि केंद्र की मोदी और प्रदेश की योगी सरकार ने कोरोना के खिलाफ  अभियान में आदर्श स्थापित किए हैं। आपदा के दौर में मोदी-योगी के नेतृत्व में भाजपा सरकार और संगठन जनता की समस्याओं और संकट के समाधान में जुटे हैं। भाजपा का प्रत्येक कार्यकर्ता सेवा ही संगठन को मूलमंत्र मानकर अपनी क्षमता के साथ जन-जन की सेवा में लगा है।

योगी आदित्यनाथ और अखिलेश यादव के टि्वटर पर फॉलोअर्स की संख्या

लखनऊ : उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के फॉलोअर्स की संख्या टि्वटर पर बराबर हो गई है।  दोनों के 14.1 मिलियन फॉलोअर्स हो गए हैं। अखिलेश ने जुलाई 2009 में टि्वटर ज्वाइन किया था, जबकि योगी आदित्यनाथ ने सितंबर 2015 में ज्वाइन किया। टि्वटर पर दोनों के फॉलोअर्स की संख्या एक होने पर तमाम तरह की चर्चाएं एवं चुटकियों का दौर शुरू हो गया है और विधानसभा चुनाव को लेकर इसका आकलन भी लोग अपने अपने हिसाब से कर रहे हैं।

सरकार व संगठन में समायोजित होंगे भाजपा कार्यकर्ता

लखनऊ :  विधानसभा चुनाव नजदीक आते ही भाजपा ने अपनी चुनावी तैयारी शुरू कर दी है। इसके लिए पार्टी कार्यकर्ताओं को सरकार से लेकर संगठन तक विभिन्न पदों पर समायोजित कर संतुष्ट करने की तैयारी है। कार्यकर्ताओं को राज्य अल्पसंख्यक आयोग, अनुसूचित जाति आयोग, अन्य पिछड़ा वर्ग आयोग सहित अन्य आयोगों, निगमों, बोर्डों और समितियों में नियुक्त किया जा सकता है।  वहीं, संगठन में भी अग्रिम मोर्चों, प्रकोष्ठों और प्रकल्प में मंडल स्तर तक नियुक्तियां की जाएंगी। माना जा रहा है कि सब कुछ सही तरीके से चला तो चुनावी तैयारी के पहले चरण में जुलाई तक संगठन और सरकार में विभिन्न पदों पर करीब एक लाख से अधिक कार्यकर्ताओं को समायोजित करने की तैयारी है। प्रमुख आयोगों में अध्यक्ष पदों पर नियुक्ति के लिए दावेदारों के नाम पर सरकार और संगठन के प्रमुख लोगों के बीच मंथन हो चुका है। चुनाव के मद्देनजर जातीय और क्षेत्रीय संतुलन का संदेश देने के लिए अपने जाति-समाज में प्रभाव रखने वाले लोगों की इन पदों पर नियुक्तियां दी जाएंगी। इसी प्रकार विभिन्न निगमों, बोर्डों, समितियों, निकायों में भी स्थानीय जातीय समीकरण के हिसाब से नियुक्तियां होंगी।

संगठन में भी महिला मोर्चा, युवा मोर्चा, किसान मोर्चा, ओबीसी मोर्चा, एससी मोर्चा, एसटी मोर्चा, अल्पसंख्यक मोर्चा जैसे प्रमुख मोर्चों, मीडिया विभाग, मीडिया संपर्क विभाग सहित अन्य विभागों व प्रकोष्ठ में प्रदेश, क्षेत्रीय, जिला और मंडल स्तर तक नई टीमों का गठन किया जाएगा। हाल ही में पार्टी का पद छोड़कर पंचायत चुनाव लड़ने वाले पदाधिकारियों की जगह भी नए कार्यकर्ताओं की नियुक्तियां की जाएंगी। प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह के अनुसार सरकार और संगठन में सभी रिक्त पदों पर नियुक्तियों के बाद करीब एक लाख से अधिक कार्यकर्ताओं का समायोजन हो जाएगा। प्रदेश सरकार और संगठन में अब तक 17 हजार से अधिक कार्यकर्ताओं का समायोजन किया जा चुका है। पार्टी का दावा है कि इससे पहले कभी इतनी बड़ी संख्या में समायोजन नहीं हुआ। इन प्रमुख विभागों और प्रकोष्ठों में होंगे समायोजित

मीडिया विभाग, सुशासन एवं केंद्र-राज्य समन्वय विभाग, योजना शोध विभाग, मीडिया संपर्क विभाग, राजनीतिक फीडबैक विभाग, राजनीतिक कार्यक्रम और बैठक विभाग, आपदा राहत एवं बचाव विभाग, साहित्य और प्रकाशन विभाग, चुनाव प्रबंधन विभाग, समन्वय विभाग, निर्वाचन आयोग से समन्वय विभाग, सोशल मीडिया विभाग, आईटी विभाग, आजीवन सहयोग निधि विभाग, विधि एवं न्याय विभाग,  जिला कार्यालय निर्माण और रखरखाव, पुस्तकालय-ई-लाइब्रेरी- रीडिंग रूम, स्वच्छ भारत अभियान, बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ, नमामि गंगे प्रकल्प, राष्ट्रीय सदस्यता अभियान, राष्ट्रीय महासंपर्क अभियान।

पीएम मोदी और नड्डा से भी करेंगे भेंट : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

लखनऊ : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बृहस्पतिवार को अचानक दो दिन के लिए दिल्ली रवाना होते ही प्रदेश के राजनीतिक गलियारे में अटकलों का बाजार एक बार फिर गर्म हो गया। पिछले एक पखवारे से राजधानी में चल रही सियासी सरगर्मियों के बीच योगी का दिल्ली दौरा काफी अहम माना जा रहा है। मुख्यमंत्री के दिल्ली कूच करने के बाद से भाजपा प्रदेश संगठन और सरकार में फेरबदल की सुगबुगाहट फिर तेज हो गई है।

दिल्ली पहुंचने के बाद सीएम योगी ने गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात की। दोनों के बीच करीब डेढ़ घंटे बात हुई। हालांकि बातचीत का ब्यौरा नहीं मिल पाया है लेकिन कयास लगाए जा रहे हैं कि केंद्रीय नेतृत्व के साथ उन्होंने मंत्रिमंडल विस्तार, पंचायत चुनाव समेत कई अन्य मुद्दों पर चर्चा की। शुक्रवार को वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व पार्टी अध्यक्ष जे.पी. नड्डा समेत कुछ अन्य नेताओं से भी मुलाकात करेंगे। सीएम योगी दोपहर करीब दो बजे लखनऊ से दिल्ली रवाना हुए। गाजियाबाद हिंडन एयरबेस से वह दिल्ली के यूपी सदन पहुंचे। यूपी सदन में थोड़ी देर रुकने के बाद योगी अमित शाह से मिलने के लिए उनके घर रवाना हो गए। सूत्रों की मानें तो दोनों नेताओं ने के बीच प्रदेश में संभावित मंत्रिमंडल विस्तार, जिला पंचायत चुनाव के साथ-साथ आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर भी चर्चा हुई। सूत्रों का कहना है कि सीएम योगी ने गृहमंत्री को विधानसभा चुनाव के लिए चल रही तैयारियों केबारे में भी विस्तार से बताया।

गृहमंत्री शाह से भेंट करने के बाद सीएम योगी ने दिल्ली के यूपी सदन में गाजियाबाद, नोएडा तथा पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कई भाजपा नेताओं से भी मुलाकात की। बुधवार को कांग्रेस छोड़ भाजपा में शामिल हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद, सांसद सतपाल सिंह भी यूपी सदन में उनसे मिलने पहुंचे। दिल्ली रवाना होने से पहले बुधवार को सीएम योगी ने भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह, प्रदेश महामंत्री (संगठन) सुनील बंसल समेत कोर कमेटी के अन्य नेताओं के साथ बैठक की थी। बताया जा रहा है कि सीएम योगी कोर कमेटी की बैठक में हुई चर्चा से केंद्रीय नेतृत्व को अवगत कराएंगे। माना जा रहा है कि सीएम योगी के फीडबैक के बाद भाजपा केंद्रीय नेतृत्व यूपी भाजपा संगठन व सरकार में बदलाव के बारे में अंतिम फैसला करेगा।

पहली बार होगी विशेषज्ञ डॉक्टरों की सीधी भर्ती

लखनऊ : प्रदेश में पहली बार स्वास्थ्य विभाग में विशेषज्ञ डॉक्टरों की सीधे लेवल टू से भर्ती की जाएगी। कुल 15 विशेषज्ञताओं में 3620 पद भरे जाएंगे। इसके लिए उप्र लोक सेवा आयोग ने विज्ञापन जारी कर दिया है। पहले एमबीबीएस और विशेषज्ञ डॉक्टरों को सीधे लेवल वन से ही भर्ती की जाती थी। एमबीबीएस स्नातक स्तर की डिग्री है जबकि विशेषज्ञ डॉक्टरों की परास्नातक स्तर की डिग्री होती है। इसलिए लेवल वन से नियुक्ति मिलने के कारण विशेषज्ञ चिकित्सक स्वास्थ्य विभाग में ज्वाइन करने के बहुत इच्छुक नहीं रहते थे।

अपर मुख्य सचिव चिकित्सा स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि विशेषज्ञ डॉक्टरों को लेवल टू से नियुक्ति के लिए पोस्ट ग्रेजुएट डिग्री या डिप्लोमा के साथ एक साल का अनुभव होना जरूरी होगा। इन्हें लेवल टू में सीधे 67700-208700 पे ग्रेड मिलेगा। इनकी नियुक्ति सीएचसी या इससे उच्च श्रेणी के अस्पतालों में ही की जाएगी। आवेदन की अंतिम तिथि 28 जून 2021 रखी गई है। अपर मुख्य सचिव ने सभी मेडिकल कॉलेजों, डॉक्टर्स एसोसिएशन और इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) को इसकी जानकारी दे दी है।  स्त्री एवं प्रसूति रोग विशेषज्ञएनेस्थेटिस्ट, जनरल सर्जन, फिजीशियन के 590-590 पद, रेडियोलॉजिस्ट, पैथोलॉजिस्ट के 75-75 पद, बाल रोग विशेषज्ञ के 600 पद, नेत्र रोग विशेषज्ञ, नाक कान गला विशेषज्ञ, चर्म रोग विशेषज्ञ, मानसिक रोग विशेषज्ञ, फोरेंसिक स्पेशलिस्ट के 75-75 पद, माइक्रोबॉयोलॉजिस्ट और पब्लिक हेल्थ स्पेशलिस्ट के 30-30 पदों पर भर्ती की जाएगी।

नाबालिग लड़कियों की तस्करी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश

लखनऊ : गोमतीनगर पुलिस ने पूर्वोत्तर राज्यों से नाबालिग लड़कियों की तस्करी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश किया है। बृहस्पतिवार देर रात को विशेष अभियान के तहत पांच मानव तस्करों को गिरफ्तार किया गया है। पकड़े गये आरोपियों के चंगुल से दो नाबालिग लड़कियों को मुक्त कराया गया। आरोपियों को जेल भेज दिया गया है। एडीसीपी पूर्वी एसएम कासिम आब्दी के मुताबिक बृहस्पतिवार रात को सूचना मिली कि गोमतीनगर के विपुल खंड इलाके में पूर्वोत्तर राज्यों की कुछ किशोरियों की तस्करी करने वाले गिरोह सक्रिय है। यह गिरोह किशोरियों से वेश्यावृत्ति कराता है। जानकारी होने के बाद प्रभारी निरीक्षक केशव कुमार तिवारी के नेतृत्व में टीम तैयार की गई।

पुलिस टीम ने घेराबंदी कर विपुलखंड के ओवर ब्रिज के नीचे रेलवे लाइन केपास से पांच लोगों को गिरफ्तार किया। इसमें दो महिलाएं और तीन पुरूष शामिल है। पकड़े गये आरोपियों के पास से पुलिस ने दो किशोरियों को मुक्त कराया है। एडीसीपी के मुताबिक पकड़े गये आरोपियों में गाजीपुर थानाक्षेत्र के मुरारीनगर निवासी सनी गुप्ता, वहीं 30 साल की महिला, असम के नगांव के मुराजर बाजार निवासी फैजुद्दीन, उसकी पत्नी ओर इंदिरानगर में किराए पर रहने वाला राहुल गौतम शामिल है। राहुल बरेली का रहने वाला है। पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। उनसे पूछताछ कर रही है।

प्रभारी निरीक्षक गोमतीनगर केशव कुमार तिवारी के मुताबिक यह गिरोह पूर्वोत्तर राज्यों से किशोरियों को बहलाफुसलाकर लाते हैं। इसके बाद उनसे वेश्यावृत्ति कराते है। पुलिस ने विशेष अभियान के तहत इन आरोपियों के पास से दो किशोरियों को मुक्त कराया। पूछताछ में सामने आया कि मुक्त कराई गई किशोरियां मूलरूप से असम की रहने वाली है। उनको लखनऊ में कुछ दिन पहले लाया गया था। पुलिस के मुताबिक किशोरियों को बेचने की तैयारी थी। लेकिन अभी सौदा तय नहीं हो सका था। इसी बीच उनसे वेश्यावृत्ति कराई जाने लगी। दोनों किशोरियों को वेश्यावृत्ति के लिए ही लेकर विपुलखंड ओवरब्रिज के पास पहुंचे थे। इसकी जानकारी होने पर पुलिस ने दबोच लिया है।

एसीपी गोमतीनगर श्वेता श्रीवास्तव के मुताबिक यह गिरोह किशोरियों को लखनऊ लाने केबाद उनका सौदा करता है। सौदा करने के लिए कोई दाम तय नहीं होता है। पूछताछ में सामने आया कि किशोरियों को 50 हजार रुपये से एक लाख रुपये में बेचते हैं। इस गिरोह के पास से बरामद दो किशोरियों को भी बेचने की तैयारी थी। पुलिस केमुताबिक गिरोह के सदस्य सिर्फ लखनऊ में ही नहीं है। वह जहां सौदा तय हो जाता है । वहीं किशोरियों को लेकर चले जाते हैं। गिरोह के सभी सदस्यों का हिस्सा भी उनकी भूमिका पर तय रहती है। इसमें किसी भी तरह सौदेबाजी नहीं होती है। पुलिस पकड़े गये आरोपियों से पूछताछ कर रही है। ताकि राजधानी सहित आसपास केजिलों में फैले नेटवर्क को तोड़ा जा सके। पुलिस बरामद किशोरियों के परिवारीजनों से संपर्क कर रही है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.