क्योलारी में हुआ रामलीला मंचन, भक्तों ने लिया आनंद

0 103

जालौन/उरई: प्रभु श्रीराम की लीला को देखकर मन में उत्साह आ जाता है। इस प्रकार के मंचन से मनुष्य सत्कर्मों में लगा रहता है। यह बात अधिवक्ता उमेश दीक्षित ने ग्राम क्योलारी में रामलीला के मंचन के शुभारंभ के अवसर पर कही। क्षेत्रीय ग्राम में रामलीला समिति द्वारा राम के समय रामलीला का मंचन किया जा रहा है। रामलीला मंचन के पहले दिन रावण अत्याचार व नारद मोह की लीला का मंचन हुआ।

 

जिसमें रावण द्वारा किए जा रहे अत्याचार से तीनों लोग प्राणी त्रस्त थे। रावण के अत्याचारों से लोग सत्कर्म नहीं कर पा रहे थे। दानव ऋषि मुनियों पर अत्याचार कर उन्हें मारकर भगा देते हैं। हवन कुंड को रक्त से भर देते थे। ऐसे में सभी ने विष्णु से याचना की। रामलीला मंचन से पूर्व अधिवक्ता उमेश दीक्षित व दीपू त्रिपाठी द्वारा रामलीला मंचन का फीता काटकर शुभारंभ किया गया।

इसके बाद अतिथियों ने प्रभु श्रीराम, भाई लक्ष्मण और माता सीता की आरती की। इस दौरान उन्होंने बताया कि प्रभु श्रीराम की लीला जितनी बार देखी जाए उतनी ही नई लगती है। लीला को मनुष्य में सत्कर्म की लालसा जागती है। इसलिए इस प्रकार के आयोजन होते रहने चाहिए और गांव के लोगों को भी इसमें सहयोग करना चाहिाए। इस मौके पर पिंटू महाराज, वरुण गुर्जर, दीपू पटेल क्योलारी, सलीम खां, दादू पटेल, अमित सक्सेना, राजेश क्योलारी आदि मौजूद रहे।

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.