कोरोना से जंग में हमने 150 से अधिक देशों की मदद की: संयुक्त राष्ट्र के संबोधन में पीएम मोदी

0 140

दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संयुक्त राष्ट्र के आर्थिक एवं सामाजिक परिषद के सत्र को संबोधित करते हुए शुक्रवार को कहा कि कोरोना से जंग में भारत ने 150 से अधिक देशों की मदद की है। पीएम मोदी का जून में भारत के सुरक्षा परिषद के गैर-स्थायी सदस्य के रूप में चुने जाने के बाद यह संयुक्त राष्ट्र को संबोधित करते हुए पहला भाषण था।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, &https://www.youtube.com/channel/UCcj8JxdUrXPVdAxW-blFheA8216;संयुक्त राष्ट्र की 75वीं वर्षगांठ आज की दुनिया में इसकी भूमिका और महत्ता के आकलन का अवसर है। कोविड-19 के खिलाफ हमारी संयुक्त लड़ाई में हमने 150 से अधिक देशों की सहायता की है। महामारी ने सभी देशों के धैर्य की कठिन परीक्षा ली।&https://www.youtube.com/channel/UCcj8JxdUrXPVdAxW-blFheA8217;

उन्होंने कहा कि भारत में हमने महामारी के खिलाफ लड़ाई को जन आंदोलन बनाने का प्रयास किया है। संयुक्त राष्ट्र को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि हमारा सिद्धांत सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास है। उन्होंने कहा, &https://www.youtube.com/channel/UCcj8JxdUrXPVdAxW-blFheA8216;भारत द्वितीय विश्व युद्ध के तुरंत बाद संयुक्त राष्ट्र के 50 संस्थापक सदस्यों में से था। उसके बाद से काफी कुछ बदल गया है। आज, संयुक्त राष्ट्र 193 सदस्य देशों को एक साथ लाता है। संगठन से उम्मीदें भी बढ़ी हैं। बहुपक्षवाद भी आज कई चुनौतियों का सामना कर रहा है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत में लाखों महिलाओं को स्थानीय सरकार का प्रतिनिधि चुना जाता है। पिछले 6 वर्षों में, हमने 40 करोड़ बैंक खाते खोले हैं, जिसमें से 22 करोड़ महिलाओं के अकाउंट हैं। पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि भारत ने स्वच्छता और सिंगल यूज प्लास्टिक के इस्तेमाल को कम करने के लिए बड़े अभियान की शुरुआत की है। इस साल संयुक्त राष्ट्र के उच्च स्तरीय सत्र की थीम है, &https://www.youtube.com/channel/UCcj8JxdUrXPVdAxW-blFheA8216;कोविड-19 के बाद बहुपक्षवाद: 75वीं वर्षगांठ पर हमें किस प्रकार के संयुक्त राष्ट्र की जरूरत है।

भारत को 17 जून को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद का गैर-स्थायी सदस्य के तौर पर निर्विरोध चुना गया था। एशिया-प्रशांत श्रेणी की सीट से भारत आठवीं बार गैर-स्थायी सदस्य बना था। सीट के लिए दावेदार सात देशों में, भारत 2021-22 के लिए क्षेत्र से निर्विरोध था।

Leave A Reply

Your email address will not be published.